हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

ख़ामोश रह जाना बेहतर होता है इन 8 स्थितियों में

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Feb 05, 2015
रोजमर्रा में कई अवसर ऐसे भी आते हैं जब व्यक्ति की ज़बान, उसके ज्ञान, आचार, व्यवहार एवं व्यक्तित्व को दर्शाने का मुख्य माध्यम बन जाती है। लेकिन इसके उलट कई स्थितियां ऐसी भी होती हैं, जब आपकी वाणी परेशानी पैदा कर देती है।
  • 1

    कुछ मौके जहां आपकी चुप्पी ही बेहतर

    काम से ही इंसान की पहचान होती है, और रोजमर्रा में कई अवसर ऐसे भी आते हैं जब व्यक्ति की ज़बान, उसके ज्ञान, आचार, व्यवहार एवं व्यक्तित्व को दर्शाने का मुख्य माध्यम बन जाती है। लेकिन इसके उलट कई स्थितियां ऐसी भी होती हैं, जब आपकी वाणी सिर-फुटावल की नौबल ला सकती है, या किसी बनती बात को बिगाड़ सकती है। तो ऐसे स्थियों पर आपकी चुप्पी ही बेहतर होती है। तो तलिये जानें ऐसी ही आठ स्थितियां जहां पर मुंह बंद रखना ही बेहतर होता है।
    Images courtesy: © Getty Images

    कुछ मौके जहां आपकी चुप्पी ही बेहतर
  • 2

    बिना किसी रचनात्मकता उपयोगिता के विषयों पर..

    जिनकी विषयों की कोई रचनात्मक उपयोगिता न हो, उन पर मौन ही रहना बेहतर होता है। उदाहरण के लिये घर व बाहर की छोटी-छोटी बातें, जैसे किसने क्या पहना, क्या बनाया, क्या खाया, देर से आई, जल्दी चली गई वगैरह, वगैरह। इस तरह की टीका-टिप्पणी व्यर्थ होती हैं और इस पर बहस की जाए तो यह मूर्खता ही होगी।
    Images courtesy: © Getty Images

    बिना किसी रचनात्मकता उपयोगिता के विषयों पर..
  • 3

    पूरी जानकारी अथवा ठोस प्रमाण न हो तो..

    जब तक किसी विषय की पूरी जानकारी व ठोस प्रमाण न हो, अपने आप को चुप रखना ही बेहतर होता है। ऐसे में बहस करने से आपकी छवि ही धूमिल होगी। इसके अलावा बहस के दौरान विपक्षी अपने तर्क की सत्यता साबित कर दे तो उसे सहजता से स्वीकार करते हुए बहस पर विराम लगा दें, वरना आप कुतर्की कहलाएंगे।
    Images courtesy: © Getty Images

    पूरी जानकारी अथवा ठोस प्रमाण न हो तो..
  • 4

    अगर आपको किसी के प्रेगनेंट होने का शक हो तो...

    तो अगर आपको शक हो की आपकी कोई मित्र या सहकर्मी प्रेगनेंट हैं तो, बजाय मुबारकबाद देकर उसे व खुद को सबके सामने शर्मिंदा करने के चुप रहें और खुद उस इंसान को इस बात की घोषणा करने का मौका दें।  
    Images courtesy: © Getty Images

    अगर आपको किसी के प्रेगनेंट होने का शक हो तो...
  • 5

    जब आपके पास कुछ खास कहने को न हो...

    यह बड़ी ही मौलिक सी बात है कि, यदि आप 4-5 ज्ञान छलकते गागर के समान लोगों के साथ बैठे हों, जो मानों बात नहीं, बल्कि सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता कर रहे हों, और आपको जीके का न तो जी पता हो और न ही के, तो अपने मुहं को थोड़ी देर बंद करके बैठने में ही भलाई होती है।  
    Images courtesy: © Getty Images

    जब आपके पास कुछ खास कहने को न हो...
  • 6

    जब कोई आपको अपमानित करने की कोशिश कर रहा हो..

    हालांकि जब कोई आपका अपमान कर रहा हो तो खुद को चुप रख पाना काफी मुश्किल होता है, लेकिन उसकी बेकार की बातों के लिये कुतर्क करने से चुप रहना ही बेहतर होता है। उस व्यक्तियों को उसी के स्वर में जवाब देने से परिणाम दोनों के लिये ही गलत निकलने वाला है। तो बड़प्पन दिखाएं और होशियारी दिखाकर अपनी चुप्पी से उसे हरा दें।
    Images courtesy: © Getty Images

    जब कोई आपको अपमानित करने की कोशिश कर रहा हो..
  • 7

    जब कोई दूसरा बोल रहा हो....

    ये वार्तालाप का एक प्राथमिक सिद्धांत है, लेकिन दुर्भाग्यवश अकसरर लोगों द्वारा भुला दिया जाता है। एक सेहतमंद वार्तालाप के लिये जितना जरूरी लोगों को अपनी बात बताना होता है, उससे भी जरूरी होता है कि जब वे बोल रहें हों तो चुप रह कर शांती और ध्यान से उनकी बात को सुनाना।   
    Images courtesy: © Getty Images

    जब कोई दूसरा बोल रहा हो....
  • 8

    ड्राइविंक करते समय....

    की लोगों को रोमांच बड़ा पसंद होता है, लेकिन रोमांच की कीमत अगर जान हो तो ऐसे रोमांच से दूरी ही भली होती है। जी हां ड्राइव करते समय न तो फोन पर और न ही साथ बैठे या चर रहे लोगों से बात करनी चाहिये। सभी जानते हैं कि इस वक्त बोलना घातक सिद्ध हो सकता है, लेकिन दुर्भग्यपूर्ण है कि इसे मानते कम ही लोग हैं।
    Images courtesy: © Getty Images

    ड्राइविंक करते समय....
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर