हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

क्‍या युवाओं के लिए बुरा है वियाग्रा का सेवन

By:Bharat Malhotra, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Feb 10, 2014
वियाग्रा शायद दुनिया में सबसे ज्‍यादा बिकने वाली दवाओं में शामिल होगी। इस दवा को सेक्‍स क्षमता में इजाफा करने में बेहद उपयोगी माना जाता है। पहले इस दवा का उपयोग अधिक उम्र के लोग करते थे, लेकिन अब हर उम्र के लोगों में यह काफी प्रचलित होती जा रही है।
  • 1

    वियाग्रा का युवाओं पर असर

    वियाग्रा शायद दुनिया में सबसे ज्‍यादा बिकने वाली दवाओं में शामिल होगी। इस दवा को सेक्‍स क्षमता में इजाफा करने में बेहद उपयोगी माना जाता है। पहले इस दवा का उपयोग अधिक उम्र के लोग करते थे, लेकिन अब हर उम्र के लोगों में यह काफी प्रचलित होती जा रही है। लेकिन, क्‍या ऐसा करना वाकई सुरक्षित है। क्‍या युवाओं के लिए इस दवा का सेवन करना ठीक है।

    वियाग्रा का युवाओं पर असर
  • 2

    स्‍तंभन दोष दूर करती है

    वियाग्रा सेक्‍स पावर बढ़ाने में मददगार नहीं होती। यह बात समझनी बहुत जरूरी है। दरअसल, वियाग्रा केवल स्‍तंभन दोष को दूर करती है, लेकिन यह सेक्‍स में अरुचि को दूर नहीं कर सकती। दूसरे शब्‍दों में कहें, तो यह कामुकता के समय लिंग को उत्‍तेजित रखती है।

    स्‍तंभन दोष दूर करती है
  • 3

    अधिक उम्र के लोग करते हैं इस्‍तेमाल

    एक अनुमान के मु‍ताबिक वियाग्रा का सेवन करने वाले अधिक पुरुषों की उम्र 50 वर्ष या उससे अधिक होती है। इस उम्र में आकर कई शारीरिक और मानसिक कारणों से पुरुष स्‍तंभन दोष का शिकार हो जाते हैं। ऐसे में उस समस्‍या से बचने के लिए ही वे इस दवा का सेवन करते हैं। इस उम्र में तमाम कारणों से जननांगों की मांसपेशियों में रक्‍त का समुचित प्रवाह नहीं हो पाता।

    अधिक उम्र के लोग करते हैं इस्‍तेमाल
  • 4

    युवाओं में भी बढ़ रहा है चलन

    ताजा शोध बताते हैं कि युवाओं में भी यह दवा काफी प्रचलित हो रही है। अधिकतर युवा इस दवा के उपयोग से होने वाले नुकसानों से अ‍परिचित होते हैं और वे बेपरवाह होकर इस दवा का सेवन करने लगते हैं। जो न केवल गलत है बल्कि स्‍वास्‍थ्‍य के साथ खिलवाड़ भी है।

    युवाओं में भी बढ़ रहा है चलन
  • 5

    निर्भरता और हृदयाघात का खतरा

    वियाग्रा का नियमित सेवन करने से आपका शरीर दवा का आदि बन जाता है। ऐसी परिस्थिति में दवा के सेवन के बिना संभोग करने में भी मुश्किल हो जाती है। यह परिस्थिति संतोषजनक नहीं कही जा सकती। अगर आप किसी ऐसी दवा का सेवन कर रहे हैं जिसमें नाइट्रेट हो, तो आपको वियाग्रा का सेवन नहीं करना चाहिए। ये दवायें आमतौर पर सीने में दर्द, उच्‍च रक्‍तचाप व इसी तरह की अन्‍य समस्‍याओं के लिए इस्‍तेमाल की जाती हैं। इसके अलावा सिरदर्द, लिवर की समस्‍यायें, नजर धुंधली होना, रोशनी के प्रति अधिक संवेदनशीलता और चेहरे की निस्‍तब्‍धता आदि जैसी परेशानियां हो सकती हैं। कुछ दुर्लभ मामलों में हृदयाघात जैसी समस्‍यायें भी हो सकती हैं।

    निर्भरता और हृदयाघात का खतरा
  • 6

    दर्द और रिकवरी में समय पर असर

    इस दवा का एक बड़ा साइड-इफेक्‍ट यह है कि इसके सेवन से कभी-कभार चार से छह घंटे तक लिंगोंत्‍तेजना बनी रहती है। कई बार यह काफी दर्दनाक हो सकती है। अगर आपको ऐसी कोई परेशानी हो, तो फौरन डॉक्‍टर के पास जाना चाहिए। इसके अलावा इस बात के साक्ष्‍य मिले हैं कि वियाग्रा पुरुषों को सेक्‍स से रिकवर होकर दूसरी बार संभोग करने के लिए तैयार होने में लगने वाले समय को भी कम कर देती है। इस समय को 'रिफ्रेक्‍टरी पीरियड' कहा जाता है। आमतौर पर यह 20 मिनट या उससे अधिक का समय हो सकता है। लेकिन, ह्यूमन रिप्रोडक्‍शन जर्नल में वर्ष 2000 में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक वियाग्रा स्‍वस्‍थ पुरुष में इस समय को कम कर 10 मिनट कर देती है। जो सही नहीं माना जाता

    दर्द और रिकवरी में समय पर असर
  • 7

    डॉक्‍टर से बिना पूछे न करें सेवन

    आमतौर पर वियाग्रा अथवा इसके देसी रूप भारत में आसानी से मिल जाते हैं। लेकिन, आपको इसका सेवन करने से पहले डॉक्‍टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए। स्‍तंभन दोष का संबंध केवल सेक्‍सुअल स्‍वास्‍थ्‍य से ही नहीं होता। कई बार डायबिटीज, हृदय रोग, लिवर की बीमारियां अथवा थायराइड के कारण भी ऐसी परेशानी हो सकती है।

    डॉक्‍टर से बिना पूछे न करें सेवन
  • 8

    पड़ने लगता है उत्‍तेजना पर असर

    हम ऐसा मानते हैं कि सभी स्‍वस्‍थ पुरुषों में सेक्‍स क्रिया सामान्‍य है, लेकिन वास्‍तव में ऐसा नहीं होता। लिंग की नसों में रक्‍त पहुंचाने वाली नसें 20 की उम्र के बाद ही सख्‍त होना शुरू हो जाती हैं। इसका अर्थ यह है कि इसी उम्र में ही उत्‍तेजना कम होनी शुरू हो जाती है। इसका अर्थ यह है कि जो लोग इस दवा का सेवन केवल मनोरंजन के उद्देश्‍य से भी करते हैं, उन्‍हें भी कम ही सही लेकिन स्‍तंभन दोष होता है।

    पड़ने लगता है उत्‍तेजना पर असर
    Tags:
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
Post Your comment
Comments
  • mohammed aalam06 Jul 2015
    Very good and very knowledgeable tips