हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

इन 8 जांच से जानिये गर्भधारण न कर पाने की वजह

By:Nachiketa Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Nov 03, 2014
बिना किसी गर्भनिरोधक के प्रयोग के एक साल तक प्रयास के बावजूद भी गर्भधारण न कर पाने की स्थिति को इंफर्टिलिटी कहा जाता है, कुछ जांच कराने के बाद गर्भधारण न कर पाने की स्थिति का पता लगाया जा सकता है।
  • 1

    गर्भधारण न कर पाना

    बांझपन एक ऐसी अवस्‍था है जिसमें लगातार बिना किसी गर्भनिरोधक के प्रयोग के बावजूद भी महिला गर्भधारण करने में असफल रहती है। इसके लिए पूरी तरह से महिला ही जिम्‍मेदार नहीं होती है बल्कि कई मामलों में पुरुष भी इसके लिए जिम्‍मेदार हो सकते हैं। लगभग एक तिहाई मामलें महिलाओं की समस्याओं के कारण होते हैं। अन्य एक तिहाई इनफर्टिलिटी मामले पुरुषों के कारण होते हैं। बाकी मामले पुरुष और महिला दोनों की समस्याओं से जुड़े हो सकते हैं। इसके निदान के लिए कुछ जांच आपकी मदद कर सकते हैं।

    image source - getty images

    गर्भधारण न कर पाना
  • 2

    सीबीसी टेस्‍ट

    सीबीसी यानी कंप्‍लीट ब्‍लड टेस्‍ट के जरिये गर्भधारण न हो पाने की मूल बात सामने आ जाती है। इस जांच में रेड ब्‍लड सेल्‍स, ह्वाइट ब्‍लड सेल्‍स और प्‍लेटलेट्स की जांच की जाती है। इस जांच में रक्‍त से जुड़ी समस्‍याओं जैसे - रक्‍त संक्रमण, एनीमिया आदि की जानकारी हो जाती है। अगर आप रक्‍त संबंधित समस्‍या से ग्रस्‍त हैं तो इनविट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) तकनीक आपके लिए फायदेमंद है, क्‍योंकि इसमें सर्जरी के जरिये अंडाणु को निषेचित कराया जाता है।

    image source - getty images

    सीबीसी टेस्‍ट
  • 3

    ईएसआर टेस्‍ट

    ईएसआर यानी एरीथ्रोक्राइट सेडीमेंटेशन जांच के जरिये लाल रक्‍त कणिकाओं की स्थिति का पता लगाते हैं। अगर रेड ब्‍लड सेल्‍स का स्‍तर बढ़ जाये तो इससे सूजन हो जाती है और गर्भधारण करने में महिला असफल रहती है। यह जांच प्रक्रिया एचसीटी (हिस्‍टेरोसालपिनोगोग्राम) से पहले कराया जाता है, एचसीजी बांझपन के निदान के लिए किया जाने वाला टेस्‍ट है।

    image source - getty images

    ईएसआर टेस्‍ट
  • 4

    ब्‍लड शुगर

    ब्‍लड शुगर भी गर्भधारण न कर पाने के बीच में रोड़ा बन सकता है। इसलिए अगर आप गर्भवती नहीं हो पा रही हैं तो ब्‍लड शुगर और इंसुलिन के स्‍तर की जांच अवश्‍य करायें।

    image source - getty images

    ब्‍लड शुगर
  • 5

    वीडीआरएल टेस्‍ट

    इसे सिफलिस टेस्टिंग भी कहते हैं। हालांकि सिफलिस बांझपन के लिए जिम्‍मेदार कारक नहीं है, लेकिन इससे ग्रस्‍त महिला अगर गर्भधारण करती है तो इसका असर मां के साथ बच्‍चे पर भी पड़ता है। इसलिए अगर आप गर्भधारण करने में अक्षम है तो और गर्भावस्‍था की योजना बनाने से पहले ही सिफलिस की जांच करायें।

    image source - getty images

    वीडीआरएल टेस्‍ट
  • 6

    रूबेला एलजीजी

    यह जांच आपकी प्रतिरोधक क्षमता की जांच करता है और यह पता लगाता है कि कहीं आप रुबेला वायरस की शिकार तो नहीं हैं। हालांकि यह भी बांझपन के लिए जिम्मेदार प्रमुख कारणों में नहीं माना जाता है, लेकिन अगर किसी महिला के अंदर यह वायरस है तो इसके दुष्‍प्रभाव गर्भधारण की पहली तिमाही में ही दिख जाते हैं।

    image source - getty images

    रूबेला एलजीजी
  • 7

    विटामिन बी12 और विटामिन डी3 टेस्‍ट

    विटामिन बी3 या फोलेट के स्‍तर की जांच करना बहुत जरूरी है। इस जांच में यह भी पता चल जाता है कि कहीं आप एनीमिया की शिकार तो नहीं हैं। जबकि विटामिन डी3 की कमी और इसका कम स्‍तर होना भी बांझपन का प्रमुख कारण माना जाता है।

    image source - getty images

    विटामिन बी12 और विटामिन डी3 टेस्‍ट
  • 8

    थॉयराइड टेस्‍ट

    थॉयराइड ग्रंथि सही तरीके से काम नहीं कर रही है तो यह गर्भधारण में समस्‍या करती है। थॉयराइड की जांच के लिए टी3, टी4 और टीएसएच जांच की जाती है। इन जांच में पता चल जाता है कि कहीं आपकी थॉयराइड ग्रंथि अधिक सक्रिय तो नहीं है। इस ग्रंथि के ओवरएक्टिव होने पर यह ओव्‍यूलेशन और गर्भधारण के बीच में बाधक बनता है।

    image source - getty images

    थॉयराइड टेस्‍ट
  • 9

    हार्मोन की जांच

    अगर आप गर्भधारण नहीं कर पा रही हैं तो हार्मोन के स्‍तर की जांच भी करायें। हार्मोन के स्‍तर में असंतुलन होने से ओव्‍यूलेशन और गर्भधारण करने में समस्‍या होती है। प्रोलेक्टिन हार्मोन, एंटी मुलेरियन हार्मोन, एस्‍ट्रोजन हार्मोन की जांच करायें। इसकी जांच के लिए एचसीजी और एक्‍स-रे किया जाता है।

    image source - getty images

    हार्मोन की जांच
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर