हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

मांसपेशियों में खिंचाव में ऐसे मिले आराम

By:Shabnam Khan , Onlymyhealth Editorial Team,Date:Nov 21, 2014
मांसपेशियों में खिंचाव आम समस्या है जो भागते-खेलते, कुछ भारी उठाते रखते हो जाती है। ऐसे में मांसपेशियों में काफी दर्द होता है। खिंचाव की स्थिति में आराम करना सबसे जरूरी होता है।
  • 1

    मांसपेशियों में खिंचाव होता है दर्दभरा

    कई बार ऐसा होता है कि कोई चीज़ पकड़ते या उठाते हुए, सीढ़ियां चढ़ते हुए या फिर तेज भागने से मांसपेशियां खिंच सकती है। इसे मांसपेशियों में खिंचाव या तनाव कहा जाता है। मांसपेशियों का ये खिंचाव हाथ, पैर, जोड़ों या पीठ में हो सकता है। इसके अलावा इससे घुटने, कंधे, कोहनी में सूजन या दर्द भी उठ सकता है। मांसपेशियों का दर्द कम और ज्यादा दोनों हो सकता है। लेकिन, ये बात निश्चित है कि ऐसी स्थिति में दिक्कत तो होती ही है। आइये जाने कुछ ऐसे तरीके जिनसे आपको मांसपेशियों के खिंचाव में आराम मिल सकता है।

    Image Source - Getty Images

    मांसपेशियों में खिंचाव होता है दर्दभरा
  • 2

    आराम

    मांसपेशियों में खिंचाव आपने पर सबसे पहले आराम की सलाह दी जाती है। ये आराम एक से पांच दिन तक का हो सकता है। स्थिरीकरण (इम्मोबिलाइजेशन) की आमतौर पर जरूरत नहीं होती है। ऐसा करने से नसें और तन सकती हैं। अगर दिक्कत ज्यादा हो, और डॉक्टर सलाह दे तब स्थिरीकरण किया जा सकता है।

    Image Source - Getty Images

    आराम
  • 3

    बर्फ

    प्रभावित स्थान पर बर्फ लगाने से सूजन, ब्लीडिंग और दर्द में आराम मिलता है। मांसपेशियों में खिंचाव आने के बाद जितनी जल्दी आप बर्फ लगा सकते हैं, लगा लें। आप कितनी भी बार बर्फ लगा सकते हैं। बस ये ध्यान में रखें कि जब भी बर्फ लगाएं, 15 मिनट से ज्यादा देर के लिए न लगाएं।

    Image Source - Getty Images

    बर्फ
  • 4

    सूजन कम करने वाली दवाएं

    मांसपेशियों के खिंच जाने से अक्सर सूजन पैदा हो जाती है। सूजन होने के बाद दर्द और बढ़ जाता है। इसलिए अगर सूजन कम करने की दवा ली जाएं तो दर्द से कुछ हद तक राहत मिल जाती है। इन दवाओं के साइड इफेक्ट्स भी होते हैं, इसलिए इनका सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह कर लें।

    Image Source - Getty Images

    सूजन कम करने वाली दवाएं
  • 5

    स्ट्रेचिंग

    मांसपेंशियों में तनाव संबंधी समस्याओं के उपचार का सबसे असरदार तरीका है स्ट्रेचिंग। वे मांसपेशियां जो ज्यादा मजबूत  और लचीली होती हैं, उनमें चोट लगने की संभावना कम होती है।

    Image Source - Getty Images

    स्ट्रेचिंग
  • 6

    स्ट्रेंथनिंग

    मांसपेशिंयों में चोट लगने के बाद, ऐथलेटिक गतिविधियों में वापस लौटने से पहले मांसपेशियों की मजबूती वापस पाना जरूरी होता है। चोट और फिर उसके बाद का आराम, मांसपेशियों की मजबूती में कमी ला सकता है। अगर मांसपेशी वापस से अपनी मजबूती हासिल नहीं करेगी तो फिर से चोट लगने का डर रहता है।

    Image Source - Getty Images

    स्ट्रेंथनिंग
  • 7

    गर्माहट

    कुछ अध्ययनों के मुताबिक, तापमान मांसपेशियों के तनाव को प्रभावित कर सकता है। शरीर और मांसपेशियों को गर्माहट देने से, मांसपेशियों को तनाव संबंधी चोट लगने की संभावना होती है।

    Image Source - Getty Images

    गर्माहट
  • 8

    मांसपेशियों की थकान से बचें

    मांसपेशियां ऊर्जा को अवशोषित करने में मदद करती है और मांसपेशियों के फिर से मजबूत होने से दोबारा चोट लगने से बचाव होता है। थकी हुई मांसपेशियों को चोटिल होने की संभावना अधिक होती है। खासतौर पर खिलाड़ियों को इस बात का ख्याल रखना चाहिए।

    Image Source - Getty Images

    मांसपेशियों की थकान से बचें
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर