हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

किसी को कैसे खुद से करें पूरी तरह जुदा

By:Bharat Malhotra, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Aug 02, 2014
कोई दूर जाने के बाद भी कभी दूर नहीं जा पाता। आपके दिल में जमकर बैठा रहता है। यह वास्तव में ऊर्जा-चक्र का चक्कर है। कैसे आप खुद को इस जाल से अलग कर सकते हैं। किस चरणबद्ध तरीके से आप स्वयं को हल्का और मुक्त कर सकते हैं इस भ्रमजाल से। जानने के लिए पढ़ें।
  • 1

    जिस्म अलग हैं, अरमान एक है

    जीवन चलायामान है। यह कभी किसी के लिए रुकता नहीं है। लेकिन, कई बार आप कहीं अटक कर रह जाते हैं। किसी के जाने के बाद उसे खुद से अलग कर पाना बहुत मुश्किल हो जाता है। कोई व्यक्ति आपके जीवन में आता है। आप दोनों एकसार होते हैं। लेकिन, फिर एक दिन वह चला जाता है। आप खुद को किसी आध्यात्मिक चक्की में पिसता हुआ महसूस करते हैं। आप शारीरिक रूप से साथ नहीं होते, लेकिन दिल के तार कहीं न कहीं जुड़े हुए हैं। आप दोनों की सोच और विचार एक ही पटल पर किसी चलचित्र की तरह चलते हैं।

    जिस्म अलग हैं, अरमान एक है
  • 2

    अवचेतन को चेतन से जोड़े ध्यान

    ध्यान आपको आलौकिक चैतन्य से जोड़ देता है। शक्ति और ऊर्जा के उस पुंज से जिसके तार कहीं न कहीं हम सबके भीतर समाये हैं। हम सब अपने भीतर ऊर्जा के प्रवाह की अनुभूति करते हैं। ध्यान हमें इसी सकारात्मक ऊर्जा-प्रवाह के साथ सामंजस्य बैठाने की कला सिखाता है।

    अवचेतन को चेतन से जोड़े ध्यान
  • 3

    क्या यही प्यार है

    हम महसूस करते हैं कि किसी रिलेशनशिप में जाना कैसे आपके हृदय चक्र में सुपरनोवा सा विस्फोट करता है। यह आपको अपने उच्चतम स्तर पर पहुंचने में मदद करता है। और जब तक आप इस स्थान पर रहते हैं, तब तक आपके शरीर के सभी चक्र अच्छी तरह काम करते हैं। इसमें एक प्रकार से आध्यात्मिक रसायन शास्त्र है, जिसमें एक व्यक्त‍ि की ऊर्जा किसी दूसरे व्यक्ति से जुड़ जाती है। इससे ऊर्जा की एक ऐसी गांठ बंध जाती है, जो विश्व में और कहीं देखने को नहीं मिलती। इससे दोनों शरीर में चक्र के केंद्रों की पुनरोत्पत्त‍ि हो जाती है। तभी तो प्रेमी एक दूसरे का दुख बांट सकते हैं। और यही है प्यार के पीछे का वास्तविक आधार। यदि दोनों पक्ष राजी हों तो इसका यह अर्थ यह लगाना चाहिये कि दोनों के कर्मों के आधार पर ही यह प्रेम-गांठ इतनी मजबूत हो रही है।

    क्या यही प्यार है
  • 4

    आराम से बैठें

    किसी आरामदेह और शांत स्‍थान पर बैठें। अपनी आंखें बंद करें और धीरे-धीरे 10 गहरी सांसें लें। इससे आपको अपने भीतर जाने और समस्‍या को पहचानने में मदद मिलेगी। कई बार आत्‍मसाक्षात्‍कार कई समस्‍याओं को हल कर देता है।

    आराम से बैठें
  • 5

    उसके बारे में सोचें

    इसी अवस्‍था में उस व्‍यक्ति के बारे में सोचें जिससे आप रिश्‍ता खत्‍म करना चाहते हैं। उसके बारे में विचार करें। सोचें कि आखिर क्‍या वजह है कि अब आप उसके साथ नहीं रहना चाहते। आंखें बंद ही रखें और चित्‍त शांत। इसी अवस्‍था में अपने विचारों का द्वंद्व होने दीजिये।

    उसके बारे में सोचें
  • 6

    कैसा लगता है

    सांसों की लय को यूं ही बनाये रखिये। उन टुकड़ों को कटते हुए महसूस कीजिये। आप हर टुकड़े के आकार और मोटाई का अंदाजा लगा सकते हैं। आपको अहसास होगा कि इस तार के टुकड़े यहां क्‍यों पड़े हुए हैं। हर टुकड़े को की अनुभूति कर आपको अपने भीतर कम होती आत्‍मीयता से जोड़िये।

    कैसा लगता है
  • 7

    जुड़ाव काट दें

    हृदय या शरीर के किसी अन्‍य अंग से प्रकाश की एक किरण को महसूस कीजिये। अनुभूति कीजिये प्रकाश की यह किरण आपको उस व्‍यक्ति से जुड़ रहे हैं। बॉडी स्‍कैनिंग और क्‍लीनिंग के लिए आप सेलेनाइट वैंड्स का इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

    जुड़ाव काट दें
  • 8

    बंधन मुक्त हों

    अपनी उच्च ऊर्जा और अवचेतन मन से उस व्यक्ति से सभी संपर्क और दबी धारणायें तोड़ने को कहें। अपने मन की चेतना से कहें कि वह धीरे-धीरे उस व्यक्‍ति से जुड़ी भौतिक वस्तुओं से अपना ध्यान हटाये। कार, घर आदि  जो भी चीजें आपको उस व्यक्त‍ि विशेष के समीप लेकर जाती हैं, उससे अपना ध्यान कहटायें। अपने मन को समझायें कि वह प्रकार के बंधन से मुक्त हो जाए। और आप अपने वास्तव मूल ऊर्जा स्वरूप में लौट आयें। आपके शरीर में ऊर्जा का वास्तविक सही संतुलन हो जाए।

    बंधन मुक्त हों
  • 9

    शुक्रिया अदा करें

    उस व्यक्ति को प्यार और धन्यवाद भरी एक तस्वीर भेजें कि उसने आपको इतना बड़ा सबक सिखाया। और ब्रह्माण्ड की उस शक्ति को धन्यवाद करें कि उसने आपके शरीर और शारीरिक वातावरण में संतुलन लाने का काम किया।

    शुक्रिया अदा करें
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर