हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

यौन कुंठा को कैसे करें दूर

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jul 22, 2014
जब यौन क्रियाएं व इन्हें लेकर किसी व्यक्ति की सोच संयम से बाहर हो जाएं तो उसे यौन-कुंठा कहते हैं, ऐसे लोग बलात्कार करने की हद तक भी पहुंच सकते हैं, हालांकि इस गंभीर समस्या पर काबू किया जा सकता है।
  • 1

    यौन-कुंठा

    यौन-कुंठा सिर्फ यौन-आवश्यकताओं की पूर्ति न कर पाने वाले इंसानों की ही समस्या नहीं है, बल्कि यह उन लोगों की समस्या भी है जिनके सामाजिकरण द्वारा प्राप्त अनुभव उन्हें एक ही समय में कई इंसानों के साथ यौन-सम्बन्ध बनाने को गर्व या सम्मान-बोधक समझने की सीख देते हैं। ऐसे इंसान कई इंसानों के साथ यौन-सम्बन्ध बनाने के लिए छल-कपट के साथ डराने-धमकाने से भी नहीं चूकते/चूकती। ऐसे लोग तो बलात्कार करने की हद तक भी पहुंच सकते हैं। लेकिन इस समस्या पर काबू किया जा सकता है, चलिये जानें कैसे....
    Image courtesy: © Getty Images

    यौन-कुंठा
  • 2

    सेक्‍स की लत

    आखिर सेक्‍स कब बुरी लत में बदल जाता है? इसे सेक्‍सुअल एडिक्‍शन या यौन-कुंठा भी कहते हैं। आसान भाषा में कहें तो जब यौन क्रियाएं संयम से बाहर हो जाएं तो उसे यौन-कुंठा कहते हैं। जिस व्‍यक्ति को यह लत लग जाती है वो अपना ज्यादातर समय यौन क्रियाओं में व्‍यतीत करना पसंद करता है। उन्हें जब मौका मिलता है, तब वो बस सेक्‍स के बारे में सोचने लगते हैं। इससे उनके व्‍यवहार में भी बदलाव आता है, और उनके निजी, सामाजिक और व्‍यवसायिक जीवन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।
    Image courtesy: © Getty Images

    सेक्‍स की लत
  • 3

    वैवाहिक जीवन तबाह

    हाल ही में हुए एक अध्‍यन की मानें तो सेक्‍स एडिक्‍शन या यौन-कुंठा की वजह से 70 प्रतिशत लोगों के वैवाहिक जीवन प्रभावित होते हैं, 40 प्रतिशत के साथी उन्‍हें छोड़ देते हैं, 72 प्रतिशत आत्‍महत्‍या की कोशिश करते हैं, 68 प्रतिशत लोग यौन रोगों से ग्रसित हो जाते हैं और 27 प्रतिशत लोगों का कॅरियर चौपट हो जाता है।
    Image courtesy: © Getty Images

    वैवाहिक जीवन तबाह
  • 4

    करें रेग्युलर सेक्स

    यौन-कुंठा से बचने का सबसे अच्छा तरीका है नियमित सेक्स। इससे आप अपनी यौन कल्पनाओं को वास्तव में जी पाते हैं। ऐसा करने से मानसिक तौर पर शांत होने के लिए आपको बुरे तरीकों का सहारा नहीं लेना पड़ता।
    Image courtesy: © Getty Images

    करें रेग्युलर सेक्स
  • 5

    परिवार के साथ समय बिताएं

    ज्यादातर अकेले रहने वाले लोगों में ‘मैं जो चाहूं, कर सकता हूं’ वाला भाव आ जाता है। वहीं अकेले रहने पर आप रहन-सहन और पहनावे के स्तर पर भी काफी ‘आजाद’ ख्याल हो जाते हैं। अगर यौन कुंठा के शिकार हैं तो बेहतर होगा कि जल्द-से-जल्द अकेलेपन से निकल परिवार के साथ रहना शुरू करें।
    Image courtesy: © Getty Images

    परिवार के साथ समय बिताएं
  • 6

    अपने साथी से बात करें

    यदि आप एक रिलेशनशिप में हैं तो सबसे पहली चीज जो आपको करनी चाहिए वो है कि आप अपने साथी को बताएं कि आप कैसे महसूस कर रहे हैं और इसके पीछे रोमांचक / आनंददायक सेक्स या सेक्स की कमी, क्या कारण है।
    Image courtesy: © Getty Images

    अपने साथी से बात करें
  • 7

    नई रुची और आदतें पैदा करें

    शायद आप के पास कोई रुची वाली आदत नहीं है, तभी आपका ध्यान पॉर्न और यौंन क्रियाओं की ओर ज्यादा रहता है। ऐसे में बहुत जरूरी है कि आप किसी नई आदत जैसे, पेटिंग, कोई खेल, या लेखन आदि की शुरूआत करें। इससे आपका मन भी लगा रहेगा और यौन-कुंठा से छुटकारा भी मिल पाएगा।
    Image courtesy: © Getty Images

    नई रुची और आदतें पैदा करें
  • 8

    डॉक्टर से मदद लें

    जिन लोगों को लगता है कि वे यौन-कुंठा के शिकार हैं, उन्हें साइकॉलजिस्ट या साइकायट्रिस्ट के पास जाना चाहिए। साइकॉलजिस्ट काउंसिलिंग और बिहेवियर मॉडिफिकेशन के आधार पर उसका इसालज करते हैं और मरीज के विचारों में सकारात्मक बदलाव लाने की कोशिश करते हैं। ऐसे लोगों को दूसरे कामों में व्यस्त रहने की सलाह दी जाती है।
    Image courtesy: © Getty Images

    डॉक्टर से मदद लें
  • 9

    धर्म और अध्यात्म

    आप यौंन कुंठा से मुक्ति पाने के लिए धार्मिक अनुष्ठानों से जुड़ सकते हैं। आप सामाजिक गतिविधियों में हिस्सा ले सकते हैं और दोस्तों से सुख-दुख बांट सकते हैं। मन में कोई बुरी बात आने पर उसे अपने उन दोस्तों के साथ साझा करें जिन्हें आप अच्छा समझते हैं। अपने कमरे में धार्मिक पुस्तकें रखें, कैसेट सुनें, कैलेंडर रखें।
    Image courtesy: © Getty Images

    धर्म और अध्यात्म
  • 10

    कामजयी मुद्रा

    अनावश्यक कामवेग को शांत करने के लिए कामजयी मुद्रा की जा सकती है। इसे करने के लिए तर्जनी के अग्रभाग (टिप) से अंगूठे के नाखून को दबा लें। बाकी अंगुलियां सामने की ओर फैली रहेंगी, लेकिन उनमें तनाव बिल्कुल नहीं होना चाहिए। बाकी अंगुलियां आगे की ओर झुक जाएं तो कोई समस्या नहीं। चलते-फिरते, बैठते-उठते इस मुद्रा को किया जा सकता है। मु्द्रा का अभ्यास करते वक्त मन में सकारात्मक विचार लाने चाहिए और ग्लानि के भाव से दूर रहना चाहिए।
    Image courtesy: © Getty Images

    कामजयी मुद्रा
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर