हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

गर्म हवाओं का सामना करने के लिए खुद को कैसे करें तैयार

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Apr 24, 2015
गर्मी के मौसम में लू यानी गर्म हवाओं से बचाव करना बहुत जरूरी है, नहीं तो इसके कारण लू तो लगेगी इसे डायरिया और डीहाइड्रेशन की समस्‍या भी होगी, इसलिए जरूरी है इस मौसम में चलने वाली हवाओं के लिए खुद को तैयार करें।
  • 1

    लू और गर्मी का सामना

    गर्मी का मौसम जब अपने चरम पर होता है तो हाल बेहाल हो जाता है। क्योंकि सर्दियों की ही तरह गर्मियां भी मौसमी बीमारियों के साथ आती हैं। इस मौसम में गर्म हवायें चलती हैं जिनका सामना करना मुश्किल होता है। गर्मी में थकावट होना, लू लगना, पानी की कमी, फूड पॉयजनिंग आदि समस्याएं आम होती हैं। लेकिन अगर आपको पता हो कि गर्मी में क्या एहतियात बरतें, इस भयंकर गर्मी का मुकाबला कैसे करें ताकि ये आपकी सेहत न बिगाड़ सके, तो इसका सामना बेहतर ढ़ंग से किया जा सकता है। तो चलिये जानें गर्मियों से बचाव करने के क्या तरीके होते हैं।
    Images source : © Getty Images

    लू और गर्मी का सामना
  • 2

    क्या है लू और गर्मी

    हमारे शरीर में एक हाइपोथैलेमस नामक भाग होता है, जो शरीर के तापमान को 95 से 98.6 फारनहाइट के बीच नियंत्रित करता है। लेकिन जब तेज गर्मी की वजह से हाइपोथैलेमस असामान्य तरीके से काम करने लगता है, तो शरीर का तापमान बढ़ जाता है, जिसे डॉक्टरी भाषा में सन स्ट्रोक अर्थात लू लगना कहते हैं।
    Images source : © Getty Images

    क्या है लू और गर्मी
  • 3

    लू लगने पर क्‍या होता है

    अलग तरीके से समझें तो क्योंकि शरीर का तापमान बढ़ने से गर्मी बढ़ती है और इस गर्मी से रक्त नलिकाएं चौड़ी हो जाती है जिस वजह से ब्लड सर्कुलेशन बढ़ जाता है। बढ़े हुए ब्लड सर्कुलेशन और गर्म हुए खून से शरीर के अंदर के तापमान भी बढ़ा जाता है और इसे ही लू लगना कहते हैं। यही गर्मी यदि दिमाग तक असर कर जाए तो बुखार 106 डिग्री तक पहुंच जाता है, जोकि जानलेवा होता है। चक्कर आना, अत्यधिक प्यास लगना, कमजोरी, सिर दर्द और बेचैनी इसके मुख्य लक्षण होते हैं। इसका इलाज तुरंत ठंडक देना और पानी पीकर पानी की कमी दूर करना होता है।
    Images source : © Getty Images

    लू लगने पर क्‍या होता है
  • 4

    खान-पान में एहतियात बरतें

    इस मौसम में हमारी पाचन शक्ति अक्सर थोड़ी कमजोर हो जाती है। तो पाचन शक्ति ठीक से कार्य करे, तो इसके लिए तेज मिर्च-मसालेदार, तले हुए एवं गरिष्ठ भोजन से जहां तक हो सके परहेज करें। एल्कोहल और कैफीन युक्त पेय पदार्थों का परहेज करें, इनके सेवन से भी शरीर में पानी की कमी होती है।
    Images source : © Getty Images

    खान-पान में एहतियात बरतें
  • 5

    हाइड्रेट रहें

    दिन भर में कम से कम 10 से 15 गिलास पानी जरूर पियें। पानी पीने में कोई कंजूसी न करें, क्योंकि इस मौसम में हमारे शरीर का अधिकांश पानी पसीने के रूप में बह जाता है। खास तौर खेल-कूद की गतिविधियों के दौरान इस बात का खास खयाल रखें। घर से बाहर निकलें तो एक गिलास पानी पीकर ही निकलें। नींबू पानी या ओआरएस का सेवन करें जरूरी नहीं कि इसके लिये प्यास लगने का इंतजार ही करें।
    Images source : © Getty Images

    हाइड्रेट रहें
  • 6

    फूड पॉयजनिंग से बचें

    घर का ही पानी पियें और इस मौसम में फूड पॉयजनिंग से बचने के लिए हमेशा अपना पीने का पानी और खाना घर से ले कर चलें। सड़क किनारे बिकने वाले खाने से दूर रहें क्योंकि अत्यधिक तापमान की वजह से खाने में बैक्टीरीया बहुत तेजी से पनपते हैं, जिससे फूड पॉयजनिंग हो सकती है।  
    Images source : © Getty Images

    फूड पॉयजनिंग से बचें
  • 7

    धूप से बचाव

    धूप के चश्मे और हैट का प्रयोग कर तेज अल्ट्रा वायलेट किरणों और धूप से बचा जा सकता है इसलिये धूप के चश्मे और हैट का प्रयोग करना भी काफी लाभप्रद साबित होता है। साथ ही स्कॉर्फ या ग्लव्स या गमछे का प्रयोग कर त्वचा को तेज गर्मी व धूप से बचाएं। बेहतर होगा कि घर से छाता लेकर निकलें।
    Images source : © Getty Images

    धूप से बचाव
  • 8

    सावधानी ही बचाव

    कहा जाता है कि स्वास्थ्य ही जीवन है और स्वास्थ्य ही धन है, और ये बात सौ आने सच भी है। अगर आप इस मौसम में अपने खान-पान, रहन-सहन आदि का ठीक ध्यान रखें तो गर्मी को रफूचक्कर कर सकते हैं।
    Images source : © Getty Images

    सावधानी ही बचाव
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर