हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

रिश्‍तों में आ रही कड़वाहट को कैसे दूर करें

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Nov 11, 2014
रिश्‍ते में कड़वाहट को टॉक्सिक रिलेशनशिप भी कहा जाता है। ये आपके और आपके साथी के लिए अच्छा नहीं होता। इसलिए आपको इससे निपटने के तरीके जानने चाहिये।
  • 1

    आदतें सुधारें

    आपका निजी जीवन कठिनाइयों से गुजर रहा है। और आप फैसला नहीं कर पा रहे कि आखिर इससे कैसे निपटा जाए। रिश्‍ते में कड़वाहट अच्‍छी नहीं होती और आपको इससे निपटने के तरीके जानने चाहिये। टॉक्सिक रिलेशनशिप से निपटने के लिए आपको इन सात बातों का खयाल रखना चाहिये।
    Image courtesy: © Getty Images

    आदतें सुधारें
  • 2

    क्‍या आपके माता-पिता को जल्‍दी आता है गुस्‍सा

    क्‍या आपका अतीत आपके वर्तमान में जरूरत से ज्‍यादा दखल करता है। पुरानी बातें और यादों के कारण आपको आज अपनी जिंदगी जीने में परेशानी हो रही है। हो सकता है कि आपकी नजरों में यह सामान्‍य हो, लेकिन ऐसा नहीं है। आपके बचपन में कुछ ऐसी चीजें हैं जो आपको कहीं न कहीं अंतर्मन को कचोटती रहेंगी। लेकिन, यह पूरी तरह सही नहीं है। मैं तो ऐसा ही हूं कहकर आप अपने गुस्‍से को जायज नहीं ठहरा सकते। कब तक आप पुरानी गलतियों को पकड़कर बैठे रहेंगे। आपको अपनी आदतों को बदलना होगा। गुस्‍सा हमारी खानदानी आदत से बात बनने के स्‍थान पर बिगड़ सकती है। आपको बीती बातों को भुलाकर अपने आज को बेहतर बनाने का प्रयास करना चाहिये।
    Image courtesy: © Getty Images

    क्‍या आपके माता-पिता को जल्‍दी आता है गुस्‍सा
  • 3

    आत्‍मसम्‍मान की कमी के कारण दर्द

    क्‍या आपको लगता है कि अपने वजन, करियर या अन्‍य किसी वजह से आप एक स्‍वस्‍थ और अच्‍छे रिश्‍ते के लायक नहीं है। तो, इसे दूर करने के दो तरीके हैं। या तो अपनी इस समस्‍याओं से निजात पायें या फिर अपनी सोच बदलें। खुद से प्‍यार करना शुरू करें, अपनी खामियों को भी। उन चीजों के बारे में जानने और समझने का प्रयास करें, जो आपको अपने बारे में बेहतर सोचने में मदद करती हैं। खुद को ऐसा बनायें कि आपके साथी को आपके साथ रहने में खुशी का इजहार हो। खुद को यकीन दिलायें कि एक अच्‍छा रिश्‍ता आपका हक है। और आप इसे प्राप्‍त कर सकते हैं।
    Image courtesy: © Getty Images

    आत्‍मसम्‍मान की कमी के कारण दर्द
  • 4

    रोमांस का दायरा बढ़ायें

    क्‍या अब आप डेट नहीं करते। अब आप दोनों के रिश्‍ते में वह रोमांच नहीं रहा है। आपको लगता है कि रोमांस तो नये प्रेमियों का काम है और अब आप दोनों काफी वक्‍त साथ बिता चुके हैं। तो, इस सोच को बदलने का वक्‍त आ गया है। डेट के दायरे को भी थोड़ा बड़ा कीजिये। अगर आप अपने साथी के सा‍थ किसी वजह से अब सहज नहीं हैं, तो अपने दोस्‍तों, परिज‍नों आदि के साथ वक्‍त बितायें जिनके साथ आप सहज महसूस करते हैं। याद रखिये, प्‍यार की परिभाषा को केवल स्‍त्री पुरुष के चश्‍मे से देखना संकीर्ण और सीमित सोच का सबूत है।
    Image courtesy: © Getty Images

    रोमांस का दायरा बढ़ायें
  • 5

    उसूलों पर आंच

    क्‍या आप पैसे और गुड लुक्‍स को अपने आत्‍म विश्‍वास और खुशी से ज्‍यादा महत्‍व देते हैं। तो, इस सोच को बदलने की जरूरत है। याद रखिये पैसा और गुड लुक्‍स तो आपको कई लोगों में मिल जाएंगे, लेकिन सच्‍ची खुशी देने वाले लोग आसानी से नहीं मिलते। और अगर आप इन भौतिक वस्‍तुओं के पीछे भागेंगे तो अंत में आ‍पको चिंता और अवसाद का ही सामना करना पड़ेगा। आपको यह मालूम होना चाहिये कि आखिर आपके साथी में क्‍या खूबियां होनी चाहिये। वह खुशदिल होना चाहिये, अच्‍छा इनसान होना चाहिये, उसे शांत होना चाहिये और साथ ही वह एक अच्‍छा श्रोता भी होना चाहिये। इसके बाद अपने मौजूदा पार्टनर में इन गुणों का आकलन करें। इस लिस्‍ट को अपने पास रखें।
    Image courtesy: © Getty Images

    उसूलों पर आंच
  • 6

    दर्द की दास्‍तां

    दर्द किसकी जिंदगी का हिस्‍स नहीं होता। हर किसी के पास अपने दर्द के फसाने हैं। क्‍या आप अपने दोस्‍तों और परिचितों को अपने दर्द की दास्‍तां सुनाने में यकीं रखते हैं। क्‍या आपके लिए यह वक्‍त बिताने का सबसे अच्‍छा जरिया है। क्‍या जब भी आप अपने प्रेमी के दुर्व्‍यवहार के बारे में बात करती हैं, तो लोग आपकी ओर ध्‍यान देते हैं। तो, ऐसा करना फौरन बंद कीजिये। अपने जीवन की नकारात्‍मक चीजों के बारे में बात करना बंद कीजिये। जो लोग आपको दुखी करते हों, उन्‍हें याद करके क्‍या फायदा। अपने जीवन में सकारात्‍मकता और लक्ष्‍य की तलाश करें।
    Image courtesy: © Getty Images

    दर्द की दास्‍तां
  • 7

    आपको अस्‍थायी डर सताता है

    सर्जरी में चीरा तो लगाना ही पड़ता है। अगर आप थोड़े समय एकांत में रहने का दर्द झेलने से डरते हैं, तो आपको जीवन भर अपमाना का घूंट पीना पड़ सकता है। इस बात को स्‍वीकार कीजिये कि ब्रेकअप के बाद तकलीफ होगी। थोड़ा दर्द होगा। कुछ समय के लिए आपको एकांत में रहना पड़ेगा, लेकिन यह सब अस्‍थायी होगा। किंतु अगर आप जानबूझ कर एक ऐसे रिश्‍ते में रहे, जो अपने वजूद की लड़ाई लड़ रहा है, तो आपको अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। यह फैसला आपको करना है कि क्‍या आप कुछ समय के इस दर्द को झेलकर जीवन में आगे बढ़ना चाहेंगे या फिर जीवन भर उस दर्द के साथ ही रहना चाहेंगे। अपने अकेलेपन को दूर करने के लिए आप क्‍लब के सदस्‍य बनें, दोस्‍तों के साथ वक्‍त बितायें।
    Image courtesy: © Getty Images

    आपको अस्‍थायी डर सताता है
  • 8

    क्‍या आपको ब्रेकअप से डर लगता है

    क्‍या आपको ब्रेकअप से डर लगता है। क्‍या आपको लगता है कि आप अकेले नहीं रह सकते। ब्रेकअप आपकी नजर में एक नाकामी है। तो, एक बार फिर सोचिये। ब्रेकअप हमेशा नाकामी नहीं होता। यह तो कामयाबी की शुरुआत है। साथ रहकर दुखी रहने से अच्‍छा है कि आप दोनों एक दूसरे से अलग रहें। याद रखिये हर अंत एक नयी शुरुआत होता है। जैसे ही आपको अपने पूर्व प्रेमी अथवा प्रेमिका की याद आए तो खुद को याद दिलायें कि आपने जीवन में आगे बढ़ना है। यह खुद को बेहतर और सुखद भविष्‍य की ओर ले जाने का एक तरीका है।
    Image courtesy: © Getty Images

    क्‍या आपको ब्रेकअप से डर लगता है
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर