हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

दिमाग पर उम्र के असर को बेअसर करने के 7 तरीके

By:Aditi Singh , Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jun 01, 2015
उम्र बढ़ने के साथ-साथ याद्दाश्त कमजोर होना एक आम समस्या है, याद्दाश्त को दुरुस्त रखने के लिए व्‍यायाम भी उतना ही जरूरी है जितना खान-पान, इसके अलावा कई दूसरे टिप्‍स भी हैं जिनकी मदद से दिमाग पर उम्र के असर को बेअसर कर सकते हैं।
  • 1

    दिमाग को रखें दुरूस्त

    दिमाग हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है। दिमाग के चुस्त-दुरुस्त रहने पर ही हम सभी जीवन का आनंद उठा सकते हैं। इससे बढ़ती उम्र के कारण सामने आने वाली याददाश्त की समस्या जल्दी सामने नहीं आती। तार्किक क्षमताओं और दिमागी उलझने से बचने के कारण याद्दाश्‍त कमजोर होने लगी है। सामान्‍य तरीकों को आजमाने से भी याद्दाश्‍त बढ़ायी जा सकती है।
    ImageCourtesy@Gettyimages

    दिमाग को रखें दुरूस्त
  • 2

    हेल्दी फूड

    जिन खाद्य पदार्थो में एंटीआक्सीडेंट्स और अन्य पोषक तत्व पाए जाते हैं। ऐसे खाद्य पदार्थ दिमाग की सेहत के लिए काफी फायदेमंद होते हैं। हेल्थ एक्सप‌र्ट्स का कहना है कि मौसमी फलों व हरी सब्जियों में एंटीऑक्सीडेंट्स पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं। इसके अलावा विभिन्न प्रकार के पोषक तत्व नट्स में पाए जाते हैं। इसलिए इनका सेवन अवश्य करें।
    ImageCourtesy@Gettyimages

    हेल्दी फूड
  • 3

    संगीत की शक्ति

    मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि दिमाग को सुकून पहुंचाने के लिए संगीत बहुत आवश्यक है। मनपसंद संगीत सुनने से दिमाग शांत और सक्रिय होता है। जब भी मौका मिले गीत-संगीत का आनंद अवश्य लेना चाहिए। जब आप गाना सुन रहे हों तो उस गाने में इस्‍तेमाल किए जाने वाले संगीत उपकरणों को पहचानने की कोशिश करें। इसके अलावा, उसके सिंगर की आवाज भी पहचानने की कोशिश करें। एक सप्‍ताह तक हर दिन एक गाने को सुनें। इससे आपकी याददाश्‍त में तेजी आएगी।
    ImageCourtesy@Gettyimages

    संगीत की शक्ति
  • 4

    सामाजिक जीवन

    सामाजिक जीवन में सक्रिय रहने से दिमाग को शक्ति मिलती है। कहने का मतलब यह है कि जो लोग अपने परिजनों, मित्रों और अन्य सामाजिक संबंधों का दिल से निर्वाह करते हैं, उनका दिमाग बढ़ती उम्र के बावजूद स्वस्थ व सक्रिय रहता है।गर आपको लिखने का शौक है तो पत्रिकाओं, पेपर में छपे आर्टिकल की प्रतिक्रियाएं अपने विचारों के अनुरूप लिखिए। यह भी दिमागी व्यायाम का तरीका है।
    ImageCourtesy@Gettyimages

    सामाजिक जीवन
  • 5

    सकारात्मक सोच

    विषम परिस्थितियों में भी जो अपनी सोच को सकारात्मक रखते हैं। आगे चलकर वे ही जीवन का सही आनंद ले पाते हैं। सकारात्मक सोच से दिमाग स्वस्थ रहता है। सकारात्मक विचार दिमाग के लिए किसी टॉनिक से कम नहीं होते हैं।अगर आप जॉब में नहीं हैं, तो आपके पास बहुत-सा समय है। फुरसत के समय अपने बच्चों की पुस्तकें देखिए। उन्हें स्वयं पढ़कर समझिए। साथ में डिक्शनरी रखिए। पूरा पाठ स्वयं समझ कर सरल भाषा में उदाहरण सहित बच्चों को समझाइए।
    ImageCourtesy@Gettyimages

    सकारात्मक सोच
  • 6

    कुछ नया कीजिए

    बुद्धि को बढ़ाने के लिए पारंपरिक तरीकों को छोड़कर कुछ नया आजमाने की कोशिश कीजिए। यह नया तरीका आपकी याद्दाश्‍त को बढ़ाने में मददगार होगा, क्‍योंकि जब भी हम नया करने की कोशिश करते हैं वो हमे आसानी से याद हो जाता है। इसके लिए खाने की नयी रेसीपी आजमायें, व्‍यायाम के नये तरीके आजमायें, अपनी सामान्‍य दिनचर्या को भी थोड़ा मजे‍दार कीजिए।
    ImageCourtesy@Gettyimages

    कुछ नया कीजिए
  • 7

    अच्छी और पूरी नींद है जरूरी

    अच्छी और भरपूर नींद लेने से कई प्रकार की स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं से निजात मिल जाती है। भरपूर नींद लेने से दिमाग को आराम मिलता है और इससे दिमाग की कोशिकायें अधिक सक्रिय हो जाती हैं। इसलिए कम से कम 7 से 9 घंटे की नींद जरूर लें।
    ImageCourtesy@Gettyimages

    अच्छी और पूरी नींद है जरूरी
  • 8

    योग-व्यायाम

    योग-व्यायाम करने से न केवल शरीर स्वस्थ रहता है, बल्कि दिमाग भी स्वस्थ व सक्रिय रहता है। इसलिए किसी कुशल चिकित्सक से परामर्श करके उपयुक्त व्यायाम अवश्य करें। अगर आप और कुछ नहीं कर पा रही हैं तो सुबह और शाम नियमित रूप से टहलना जारी रखें। टहलने से दिमाग स्वस्थ रहता है।
    ImageCourtesy@Gettyimages

    योग-व्यायाम
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर