हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

हवा में उच्‍च मात्रा में मौजूद आरएसपीएम कैसे प्रभावित कर रहा आपका स्‍वास्‍थ्‍य

By:Nachiketa Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Apr 08, 2015
खुली हवा में सांस लेने से बीमारियां अपने आप दूर होती हैं और तनाव नहीं होता है, लेकिन शायद इस बात से अनजान हैं कि हवा में उच्‍च मात्रा में मौजूद आरएसपीएम आपको न केवल बीमार कर रहा है बल्कि यह जानलेवा भी है।
  • 1

    आरएसपीएम और स्‍वास्‍थ्‍य

    कहते हैं खुली हवा में सांस लेने से बीमारियां अपने आप दूर होती हैं और तनाव नहीं होता है, लेकिन शायद इस बात से अनजान हैं कि हवा में उच्‍च मात्रा में मौजूद आरएसपीएम आपको न केवल बीमार कर रहा है बल्कि यह जानलेवा भी है। इसके कारण सांस संबंधित बीमारियों के साथ कैंसर, ब्रोंकाइटिस, दमा जैसी खतरनाक बीमारियां हो रही हैं। जानिये हवा में मौजूद यह कण कैसे आपके स्‍वास्‍थ्‍य को प्रभावित करता है।

    Image Source - Getty Images

    आरएसपीएम और स्‍वास्‍थ्‍य
  • 2

    क्‍या है आरएसपीएम

    यह हवा में मौजूद प्रदूषित कण है, जिसे अक्‍सर आपने प्रदूषण के संदर्भ में आई रिपोर्टो में सुना होगा। आरएसपीएम (रीस्पाइरेबल सस्पेंडेड पार्टिकुलेट मैटर) के कण हवा में घुलनशील होते हैं और इनका आकार 10 माइक्रोन से भी कम (यह बाल की चौड़ाई के 5वें भाग से भी कम) होता है। इसलिए आसानी से यह आपके अंदर प्रवेश कर जाता है।

    Image Source - Getty Images

    क्‍या है आरएसपीएम
  • 3

    कैसे करता है प्रभावित

    आरएसपीएम कार्बनिक और अकार्बनिक तत्वों का मिश्रण है। हालांकि यह बंद और खुले दोनों तरह के वातावरण में मिलते हैं, लेकिन इन कणों के मिलने की संभावना खुले के बजाए बंद स्‍थान में ज्यादा होती है। प्लास्टिक का सामान, सिंथेटिक फाइबर, दरी, दरवाजों के पर्दों, घरेलू सामानों आदि में इनके होने की संभावना अधिक रहती हैं।

    Image Source - Getty Images

    कैसे करता है प्रभावित
  • 4

    छोटे और बड़े कण

    आरएसपीएम कणों का निर्धारण इनके आकार के आधार पर किया जाता है और इसके आधार पर ही मानव शरीर में इसके द्वारा होने वाले खतरे का आकलन किया जाता है। यह कण आकार में जितना छोटा होगा, उतनी ही जल्दी नाक के जरिये शरीर में प्रवेश करेगा। सामान्‍य कपड़ों का प्रयोग करके इन कणों को शरीर में जाने से रोका नहीं जा सकता है।

    Image Source - Getty Images

    छोटे और बड़े कण
  • 5

    शोध की मानें तो

    हवा में आरएसपीएम की मौजूदगी और इसके जरिये होने वाले प्रभावों को लेकर कई शोध हो चुके हैं। 2014 में विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन द्वारा 1,600 शहरों के अध्ययन पर आधारित एक रिपोर्ट आई थी जिसमें कहा गया था कि वायु प्रदूषण की हालत 2011 के एक अध्ययन के नतीजों के मुकाबले बदतर हुई है तथा पीएम 2.5 आंकड़े के साथ दिल्‍ली सहित पूरे भारत में बढ़े हैं, दिल्‍ली की हवा को पूरी दुनिया के शहरों में सबसे अधिक जहरीली माना गया है।

    Image Source - Getty Images

    शोध की मानें तो
  • 6

    स्‍वास्‍थ्‍य पर प्रभाव

    सामान्‍यतया हमारी नाक आरएसपीएम के कणों को ब्लॉक नहीं कर पाती है। सामान्यत: नाक 4 से 5 माइक्रोन के आरएसपीएम कणों को नाक में प्रवेश करने से रोकने में सक्षम होती है। धूल के कणों के साथ मिश्रित होकर यह कण नाक में प्रवेश कर जाते हैं। आरएसपीएम फेफड़ों में अंदर तक प्रवेश कर जाते हैं और इससे सीधे फेफड़े प्रभावित होते हैं।

    Image Source - Getty Images

    स्‍वास्‍थ्‍य पर प्रभाव
  • 7

    दूसरी खतरनाक बीमारियां

    आरएसपीएम के कण स्‍वास्‍थ्‍य के लिए काफी नुकसानदायक होते हैं। इसकी वजह से फेफड़ों के फंक्शन पर बुरा प्रभाव पड़ता है। तो इसकी वजह से अस्थाई रूप से दिमाग की क्षमता भी प्रभावित होती है और सोचने और समझने की क्षमता कम हो जाती है। इसके अलावा, इन कणों के कारण ब्रोंकाइटिस, दमा, अवसाद,  सीओपीडी, फेफड़ों की बीमारियां, डायबिटीज, गुर्दे की बीमारियां, आदि बीमारियां होती हैं।
    Image Source - Getty Images

    दूसरी खतरनाक बीमारियां
  • 8

    यह कैसे फैलता है

    विलासिता पूर्ण जीवन की आगोश में सभी जाना चाहते हैं, इसके लिए लंबी कारें, बड़े कारखाने, आदि बढ़ रहे हैं। संपूर्ण भारत में हो रहे नित नये निर्माण से उड़ रही धूल, ट्रकों और कारों के धुएं, कोयला संयंत्र और कारखानों के उत्सर्जन, डीजल जेनरेटर, खेतों में ठूंठ को जलाए जाने, कूड़े-कचरे में खुले में आग लगाने आदि के कारण हवा में तेजी से आरएसपीएम के कण बढ़ रहे हैं।
    Image Source - Getty Images

    यह कैसे फैलता है
  • 9

    कैसे करें बचाव

    हवा में मौजूद इन कणों से बचने के लिए जरूरी है कि अच्‍छी गुणवत्‍ता वाला मास्‍क पहनकर ही निकलें, पब्लिक ट्रांसपोर्ट का प्रयोग करने की कोशिश करें, अधिक ट्रैफिक हो तो निकलने से बचें। सुबह मॉर्निंग वॉक करें, सुबह खुले माहौल में जाकर गहरी-गहरी सांस लें, योग-प्राणायाम, व्यायाम को दिनचर्या बनायें।

    Image Source - Getty Images

    कैसे करें बचाव
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर