हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

क्या हर्ब्स की मदद से हो सकता है बैलेंटिस का उपचार

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Apr 06, 2016
लिंग के ऊतकों की सूजन (विशेष रूप से लिंग के सिरे और चमड़ी पर) होने को बैलेंटिस कहा जाता है। कुछ हर्ब्स के इस्तेमाल से बैलेंटिस के कारण होने वाले दर्द और सूजन को कम करने में मदद मिलती है।
  • 1

    हर्ब्स की मदद से बैलेंटिस का उपचार


    लिंग के ऊतकों की सूजन (विशेष रूप से लिंग के सिरे और चमड़ी पर) होने को बैलेंटिस कहा जाता है। मैरीलैंड मेडिकल सेंटर युनिवर्सिटी के अनुसार, इस दर्दनाक हालत का कारण आमतौर पर संक्रमण या कठोर साबुन का उपयोग होता है। मधुमेह और रिएक्टिव अर्थराइटिस की वजह से मूत्रमार्ग प्रभावित होने पर भी बैलेंटिस समस्या हो सकती है। कुछ हर्ब्स के इस्तेमाल से बैलेंटिस के कारण होने वाले दर्द और सूजन को कम करने में मदद मिलती है। इसके लिये लहसुनलाल मिर्च, एलोविरा. एंजेलिका की जड़ तथा अदरक आदि का इस्तेमाल किया जाता है। तो चलिये जानें बैलेंटिस के उपचार करे लिये कैसे करें हर्ब्स को उपयोग -  
    Images source : © Getty Images

    हर्ब्स की मदद से बैलेंटिस का उपचार
  • 2

    लहसुन का सेवन करें


    ताजा लहसुन की कली काटें और इन्हें सूप, मीठ, पुलाव व सबिजियों आदि में मिलाकर खाएं। लहसुन में एलेसन (allicin) होता है, जोकि एक प्रकार का रसायन है और बैलेंटिस पैदा कपने वाले जीवाणु संक्रमण से लड़ने में मदद सकता है। साथ ही इसमें विटामिन सी होता है, जोकि प्राकृतिक रूप से प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने वाला होता है। हालांकि लहसुन लेने से पहले अपने चिकित्सक से एक बार बात जरूर कर लें।
    Images source : © Getty Images

    लहसुन का सेवन करें
  • 3

    लाल मिर्च का सेवन


    लाल मिर्च का सेवन भी बैलेंटिस में लाभदायक हो सकता है। लाल मिर्च में विटामिन ए होता है, जोकि सूजन को कम करने और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने में मदद करता है। साथ ही इसमें कैप्सेसिन नामक रासायनिक यौगिक भी होता है, जोकि बैलेंटिस के दर्द को कम करता है। हालांकि बैलेंटिस के उपचार के तौर पर इसे लेने से पहले भी अपने चिकित्सक से एक बार बात जरूर कर लें। क्योंकि इसे गलत तरह से लेने पर पेट खराब भी हो सकता है।
    Images source : © Getty Images

    लाल मिर्च का सेवन
  • 4

    एलो वेरा का उपयोग


    एलो वेरा की एक पत्ती को लेकर इसे छील लें और बैलेंटिस प्रभावित जगह पर इसके जैल को दिन में दो से तीन बार लगाएं। एलो वेरा बैलेंटिस पैदा करने वाले संक्रमण को खतम करने तथा इसके दर्द और त्वचा की जलन को कम करने में मदद करता है।
    Images source : © Getty Images

    एलो वेरा का उपयोग
  • 5

    एंजेलिका की जड़ का सेवन



    बैलेंटिस के उपचार के लिये एक बढ़ा चम्मच सूखी एंजेलिका की जड़ का पाउडर लें और 1 कप पानी में मिलाकर 10 मिनट तक उबलकर छान लें। रोज़ाना दिन में इस चाय के तीन कप पियें। सदियों से एंजेलिका की जड़ को सूजन दूर करने के लिये इस्तेमाल किया जाता रहा है। लेकिन सभी भी ताज़ा जड़ को इस्तेमाल न करें। इसका ताज़ा जड़ में ऐसे रसायन होता है, जो शरीर के लिए विषाक्त हो सकता है। इस हर्ब को इस्तेमाल करने से पहले एक बार अपने चिकित्सक से जरूर बात कर लें।  
    Images source : © Getty Images

    एंजेलिका की जड़ का सेवन
  • 6

    अदरक का सेवन


    कसे हुए अदरक को करी, सब्जियों और सूप आदि में डाल कर खाया जा सकता है। अदरक की जड़ में जीवाणुरोधी और जलन कम करने वाले दोनों ही गुण होते हैं, जोकि बैलेंटिस के उपचार में लाभदायक साबित होते हैं। इसके अलावा आप अदरक के टुकड़ों को पानी में उबालकर इसकी चाय भी पी सकते हैं।  
    Images source : © Getty Images

    अदरक का सेवन
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर