हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

ढीले दांतों के लिए घरेलू उपचार

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Nov 01, 2014
दांतों के ढीला होने की कोई विशेष आयु नहीं होती है। हालांकि पिछले कुछ सालों में इस समस्या तेजी से वृद्धि हुई है। हालांकि कुछ घरेलू उपचार की मदद से इसे ठीक किया जा सकता है।
  • 1

    ढीले दांतों की समस्या

    शोधकर्ताओं ने इस बात को प्रमाणित किया है कि दांतों के ढीला होने की कोई विशेष आयु नहीं होती है। हालांकि पिछले कुछ सालों में ढीले दांतों की समस्या के बारे में शिकायत करने वाले लोगों की संख्या में तेजी से वृद्धि हुई है। तो यदि आप इस समस्या से जूझ रहे हैं तो कुछ घरेलू उपचार आपको इस समस्या से निजात दिला सकते हैं।
    Image courtesy: © Getty Images

    ढीले दांतों की समस्या
  • 2

    दांतों के ढीले होने के कारण

    दंत चिकित्सक बताते हैं, कि ढीले दांत के लिए दो प्रमुख कारणों का पता लगाया गया है, पहला मसुड़े की बीमारियां और दूसरा मुंह के भीतर किसी प्रकार की चोट का लगना। हलांकि इसके अलावा मुंह की स्वच्छता का ध्यान न रखना, धूम्रपान, मधुमेह तथा बैक्टीरिया संचय आदि भी इसके कारण बन सकते हैं।
    Image courtesy: © Getty Images

    दांतों के ढीले होने के कारण
  • 3

    प्रभाव (अगर अनुपचारित छोड़ दिया)

    संक्रमण, मसूड़ों की फाइबर को नष्ट और मुंह में दांतों को मजबूत बनाए रखने वाली हड्डी को कमजोर कर देता है। सामान्य मामलों में इसके शुरुआत में दर्द रहित होने के कारण लोगों इस रोग के प्रति अनजान रहते हैं, और जब तक कि दांत ढीले, मसूड़ों से खून बहना  और सांसों से बदबू आदि जैसे लक्षण सामने नहीं आते तब तक अनभिज्ञ ही रहते हैं।
    Image courtesy: © Getty Images

    प्रभाव (अगर अनुपचारित छोड़ दिया)
  • 4

    खनिज और विटामिन हैं ज़रूरी

    दंत चिकित्सकों के अनुसार खनिज जैसे कैल्शियम और सिलिका आदि दांतो की मरम्मत और दांत संरचना के पुनर्निर्माण के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। विटामिन सी, डी, और के भी गम स्वास्थ्य और दांतों की ताकत के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। तो आप अपने आहार में विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थ शामिल कर सकते हैं।  
    Image courtesy: © Getty Images

    खनिज और विटामिन हैं ज़रूरी
  • 5

    काली मिर्च और हल्दी

    इस समस्या से बचने के लिए काली मिर्च और हल्दी के मिश्रण को मसूड़ों की मालिश करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। इस पेस्ट को रोजना दो से तीन मिनट तक दांतों पर मसाज करें और फिर ताजे पानी से कुल्ला कर लें। दांतों के ढीलेपन की समस्या में राहत मिलेगी।
    Image courtesy: © Getty Images

     काली मिर्च और हल्दी
  • 6

    आमला

    गुणकारी आंवला फल का आमतौर पर आयुर्वेदिक चिकित्सा में इस्तेमाल किया जाता है। आमले के अर्क और पीनी के मिश्रण से कुल्ला करने से भी दांतो के ढीलपन की समस्या ठीक होती है। समस्या होने पर रोज दिन में दो बार ऐसा करें, जल्द लाभ होगा।
    Image courtesy: © Getty Images

    आमला
  • 7

    नमक और सरसों का तेल

    टेबल नमक और सरसों तेल का मिश्रण मसूड़ों को मजबूत करने में मदद कर सकता है। और ढीले दांतो की समस्या को दूर करने में भी प्रभावी हो सकता है। रोजाना 1/8 चम्मच नमक को सरसों तेल की 2 बूंदों के साथ मिलाकर हल्के से एक मिनट तक मसूड़ों पर इससे मसाज करें और फिर ताजे पानी से धो लें।
    Image courtesy: © Getty Images

    नमक और सरसों का तेल
  • 8

    घर का टूथ पाउडर

    मुंह को स्वस्थ बनाए रखने के लिए घर पर ही टूथ पाउडर बनाएं। तीन भाग ओक छाल, छः भाग कॉमफ्रे की जड़, तीन भाग हॉर्सटेल की जड़, एक भाग लोबेलिआ, एक भाग लौंग और एक भाग काली मिर्च तथा तीन भाग पिपरमेंट का एक मिश्रण बनाएं और इनका पाउडर बना लें और रोज इसका दांत साफ करने में इस्तेमाल करें।  
    Image courtesy: © Getty Images

    घर का टूथ पाउडर
Load More
X