हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

महिलाओं के लिए हेल्‍थकेयर एक्‍सपर्ट के 7 टिप्‍स

By:Aditi Singh , Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jun 24, 2015
अधिकतर महिलाएं अपने स्‍वास्‍थ्‍य पर ध्‍यान नहीं देतीं, कई बार इसी वजह से कोई बड़ी बीमारी बाद में या लाइलाज स्‍टेज पर पता चलती है। महिलाओं को समझना होगा कि अगर उन्‍हें अपने परिवार को सुखी देखना है तो पहले खुद के स्‍वास्‍थ्‍य पर ध्‍यान दें।
  • 1

    अपने भी स्वास्थ्य का ख्याल रखे महिलाएं

    महिलाएं अपने स्वास्थ्य के प्रति बहुत लापरवाह होती है। घर में बच्चों से लेकर बड़े-बुजुर्गों तक की तबीयत को उन्हें ख्याल होता है पर खुद के प्रति नहीं। महिलाओं को कुछ समय खुद के लिए निकाल कर अपने स्वास्थ पर भी ध्यान देना चाहिए। कहीं उनका रोजाना होने वाला ये सिरदर्द किसी बड़ी बीमारी का संकेत तो नहीं कर रहा है।
    ImageCourtesy@Gettyimages

    अपने भी स्वास्थ्य का ख्याल रखे महिलाएं
  • 2

    वैक्सीनेशन

    वैक्सीनेशन किसी खास बीमारी से निजात पाने का सबसे बेस्ट ट्रीटमेंट है। लेकिन महिलाओं  को बीमारियों से बचने के लिए मार्केट में उपलबध वैक्सीन के बारे में जानकारी नहीं होती। ये वैक्सीनेसन सर्वाइकल कैंसर और हेपेटाइटिस बी जैसी जानलेवा बीमारी से बचाने में कारगर है।  महिलाओं में बार-बार गर्भपात के कारण माने जाने वाले रूबेला वायरस से बचने के लिए रूबेला वैक्सीन का प्रयोग किया जाता है। अन्य कई बीमारियों के लिए भी वैक्सीनेशन कराया जाता है।
    ImageCourtesy@Gettyimages

    वैक्सीनेशन
  • 3

    डेंटल चेकअप

    साल में एक बार डेंटिस्‍ट के पास जरुर जाएं और अपने मसूढ़ों के साथ पूरे मुंह की जांच करवाएं। इसमें दातों का एक्‍सरे भी शामिल करें , ताकि मुंह के किसी भी संक्रमण का पता जल्‍द चल जाएगा। कई बार मुंह का संक्रमण ही दिल और मधुमेह की बीमारी का कारण बनता है। इसलिये हर 6 महीने में दातों की सफाई करवाएं।
    ImageCourtesy@Gettyimages

    डेंटल चेकअप
  • 4

    हड्डियों का चेकअप

    ऑस्टियोपोरोसिस का नाम तो आपने सुना ही होगा, अगर नहीं तो यह हड्डी की एक अवस्‍था होती है जिसमें हड्डियाँ उम्र के साथ मुलायम हो कर चिटकने लगती हैं। इसका ट्रीटमेंट थोड़ा मुश्‍किल हो जाता है क्‍योंकि जब तक किसी औरत को इस बीमारी के बारे में पता चला है, तब तक बहुत देर हो जाती है। इसकी समस्‍या कैल्‍शियम की कमी से होती है।
    ImageCourtesy@Gettyimages

    हड्डियों का चेकअप
  • 5

    स्‍किन टेस्‍ट

    आजकल स्‍किन कैंसर का खतरा बढता जा रहा है। इसलिये अगर आपको अपने शरीर पर कोई नया मस्‍सा दिखे तो महीने में एक बार किसी अच्‍छे त्‍वचा रोग विशेषज्ञ को जरुर दिखाएं। इसके अलावा साल में एक बार पूरी त्‍वचा की जांच करवाना ना भूलें। ताकि अगर कोई बीमारी हो तो पहले पता चल जाए।
    ImageCourtesy@Gettyimages

    स्‍किन टेस्‍ट
  • 6

    कानों का टेस्‍ट

    महिलाओं को साल में एक बार अपने कानों की जांच जरुर करवानी चाहिये। ऑडियोग्राम के जरिये श्रवण शक्‍ति की जांच कराई जा सकती है। ये मनाना जाता है कि 50 के आसपास की उम्र की औरतों को कम सुनने की बीमारी होनी शुरु हो जाती है।
    ImageCourtesy@Gettyimages

    कानों का टेस्‍ट
  • 7

    मैमोग्राम

    जिन महिलाओं की उम्र 40 से 50 के मध्‍य की है, उन्‍हें मैमोग्राम जरूर करवाना चाहिये। यदि आपके परिवार में किसी नानी या मम्‍मी को ब्रेस्‍ट कैंसर पहले हो चुका है तो आपको थोड़ा सवधान रहने की जरुरत है।
    ImageCourtesy@Gettyimages

    मैमोग्राम
  • 8

    थायरॉइड टेस्‍ट

    यदि आपका वजन बिना वजह के बढता चला जा रहा है या फिर सर्दी, थकान, कब्‍ज की शिकायत है तो ये लक्षण हाइपोथायराइडिज्‍म के हैं। यह बीमारी थायरॉक्सिन हार्मोन कम बनने की वजह से होती है। तकरीबन हर 100 में से 10 महिलाओं को यह बीमारी होती है। इसका पता लगाने के लिये साल में एक बार टीएसएच टेस्‍ट जरुर करवाएं।
    ImageCourtesy@Gettyimages

    थायरॉइड टेस्‍ट
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर