हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

जानें सेहत के लिए कितना फायदेमंद है राई

By:Aditi Singh , Onlymyhealth Editorial Team,Date:May 24, 2016
ज्यादातर घरों में तड़का लनाने के काम आने वाली छोटी सी राई स्वास्थ्य के लिए बड़े बढ़े काम करती है। राई का वानस्पतिक नाम ब्रासिका नाईग्रा है और इसे काली सरसों के नाम से भी जाना जाता है।कई बीमारियों के लिए इसे औषधि के रूप से जाना जाता है। इससे होने वाले स्वास्थ्य लाभ के बारे में पढ़े।
  • 1

    सौंदर्य का काम

    छोटी सी राई आपकी त्वचा के लिए लाभदायक होती है इसमें पाये जाने वाले मायरोसीन, सिनिग्रिन जैसे रसायन त्वचा रोगों के लिए लाभदायक हैं। राई के घोल को सिर पर लगाने से सर के फोड़े, फुंसी और बालों का झडऩा भी बंद हो जाता है। डांगी हर्बल जानकारों के अनुसार ऐसा करने से सिर से डैंड्रफ भी छूमंतर हो जाता है।
    Image Source-Getty

    सौंदर्य का काम
  • 2

    दर्द में आराम

    पानी में राई डालने से राई फूल जाती है। अगर आपको यौन रोग प्रदर, प्रमेह आदि जैसी समस्या हो तो ऐसे पानी को गुनगुना सहने योग्य कर किसी टब में कमर तक भर कर बैठा जाए। राई हैजा जैसी बीमारी में भी फायदा करती है।इस तरह का बुखार होने पर सुबह के समय 4-5 ग्राम राईं के चूर्ण को शहद के साथ लेने से कफ के कारण होने वाला यह बुखार ठीक हो जाता है।
    Image Source-Getty

    दर्द में आराम
  • 3

    दाद को ठीक करें

    छोटे छोटे राई के दाने दाद को ठीक करने में सहायक है। राई को 30 मिनट तक पानी में भिगो कर रख दें। फिर उसका पेस्ट बनाकर दाद की जगह पर लगा लें। इसके अलावा राई के आटे को  8 गुना गाय के पुराने घी में मिलाकर प्रभावित स्थान पर कुछ दिनों तक लेप करने से भी यह रोग ठीक होने लगता है।
    Image Source-Getty

    दाद को ठीक करें
  • 4

    कैंसर रोधी गुण

    राई में फीटोन्यूट्रिएंट्स पाया जाता है जो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कैंसर को रोकने में मदद करता है। साथ ही यह नए कैंसर को पनपाने से रोकता भी है। इसमें मौजूद मिरोसिनेज शरीर में कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि को रोकने में मदद करता है। यह शरीर को हैल्दी रखने और बीमारियों से लडने में बहुत सहायक है।
    Image Source-Getty

    कैंसर रोधी गुण
  • 5

    पेट साफ रखें

    एंटीसेप्टिक और रोधी गुणों के साथ राई का प्रमुख गुण पाचक होता है। पेट के कीड़े इसका पानी पीने से मर जाते हैं।चुटकीभर राई के चूर्ण को पानी के साथ घोलकर बच्चों को देने से वे रात में बिस्तर पर पेशाब करना बंद कर देते है। यदि किसी व्यक्ति को लगातार दस्त हो रहे हों तो हथेली में थोड़ी सी राई लेकर हल्के गुनगुने पानी में डाल दिया जाए और रोगी को पिला दिया जाए तो काफी आराम मिलता है।
    Image Source-Getty

    पेट साफ रखें
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर