हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

स्‍वास्‍थ्‍य के‍ लिए बहुत फायदेमंद है बबूल

By:Pooja Sinha, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Mar 13, 2014
बबूल के पत्ते, छाल और गोंद तीनों ही सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है। बबूल जलन को दूर करने वाला, घाव को भरने वाला और रक्तशोधक होता है। आइए इसके स्‍वास्‍थ्‍य लाभों की विस्‍तार से जानकारी के लिए पढ़ें यह स्‍लाइड शो।
  • 1

    बबूल के स्वास्थ्य लाभ

    बबूल के पत्तो के अलावा इसकी गोंद और छाल भी बहुत फायदेमंद होती है। बबूल कफ और पित्त का नाश करने वाला होता है और इसकी गोंद में भी कैल्शियम, मैग्नीशियम और पोटेशियम के अलावा अरबिक एसिड होता है। बाबुल के पेड़ की छाल और पत्तियों में टैनिन और गैलिक नामक एसिड होता है जिसके कारण इसका स्‍वाद कड़वा हो जाता है। यह जलन को दूर करने वाला, घाव को भरने वाला और रक्तशोधक होता है। आइए इसके स्‍वास्‍थ्‍य लाभों के बारे में जानें। image courtesy : getty images

    बबूल के स्वास्थ्य लाभ
  • 2

    एक्जिमा का उपचार

    बबूल की छाल को एक्जिमा के उपचार के लिए कारगर माना जाता है, और इसकी गोंद त्वचा की जलन को दूर करने में लाभकारी। इसके अलावा बबूल के पत्तों से बना पेस्ट त्वचा पर लगाने से संक्रमण और चकत्ते की समस्‍या दूर करने में मदद मिलती है। image courtesy : getty images

    एक्जिमा का उपचार
  • 3

    खांसी में लाभकारी

    बबूल के गोंद का छोटा सा टुकड़ा मुंह में रखकर चूसने से खांसी में आराम होता है। इसके साथ ही पुरानी खांसी होने पर या खांसने पर सीने में दर्द होने पर बबूल के कोमल पत्तों को पानी में खौला कर दिन में तीन बार पीने से सभी परेशानियों दूर हो जाती हैं। image courtesy : getty images

    खांसी में लाभकारी
  • 4

    संक्रमण को नियंत्रित करें

    बबूल की पत्तियां और छाल दोनों में ही व्‍यापक रूप से खून को बहने से रोकने और संक्रमण को नियंत्रित करने की क्षमता होती है। इसलिए इसका घाव, कटने और चोटों पर इस्‍तेमाल किया जा सकता है। image courtesy : getty images

    संक्रमण को नियंत्रित करें
  • 5

    ज्यादा पसीना आने की समस्‍या

    अगर आपके शरीर से बहुत पसीना आता है और पसीना पोंछ-पोंछ कर आप बेहाल हो गए हैं तो बबूल आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है। इसके लिए बबूल की पत्तियां पीसकर पूरे शरीर पर मसलें और फिर थोड़ी देर बाद स्नान कर लें। थोड़े दिन ऐसा करने से बहुत ज्‍यादा पसीना आना बन्द हो जाता है। image courtesy : getty images

    ज्यादा पसीना आने की समस्‍या
  • 6

    बिस्तर पर पेशाब करना

    छोटे बच्‍चे अक्‍सर बिस्‍तर पर पेशाब कर देते हैं। इस समस्‍या से बचने के लिए बबूल की कच्ची फलियों को छाया में सुखाकर, घी में भूनकर उसमें मिश्री मिलाकर 4-4 ग्राम की मात्रा में सुबह और शाम गर्म दूध के साथ बच्‍चों को देने से बिस्तर पर पेशाब निकलना बंद हो जाता है। image courtesy : getty images

    बिस्तर पर पेशाब करना
  • 7

    मोटापा दूर करें

    मोटापा कम करने के लिए आमतौर पर हम बहुत मेहनत करते हैं। लेकिन अगर आप मोटापे से बचना चाहते हैं तो आपके लिए बहुत ही सरल उपाय है बबूल के पत्तों का इस्‍तेमाल। इसके लिए बबूल के पत्तों को पानी के साथ पीसकर शरीर पर लगाने से मोटापे को आसानी से दूर किया जाता सकता है। image courtesy : getty images

    मोटापा दूर करें
  • 8

    पीरियड्स में होने वाले अति रक्तस्राव को दूर करें

    कई महिलाओं और लड़कियों को पीरियड्स के दौरान बहुत ज्‍यादा ब्‍लीडिग होती है। इस तरह की समस्‍या होने पर बबूल का गोंद को घी में भून कर पीस लें अब इसमें बराबर वजन में असली सोना गेरू पीसकर मिला कर तीन बार छान कर शीशी में भर लें। पीरियड्स के दिनों में सुबह शाम 1-1 चम्मच चूर्ण ताजे पानी के साथ लेने से अधिक मात्रा में स्राव होना बन्द हो जाता है। image courtesy : getty images

    पीरियड्स में होने वाले अति रक्तस्राव को दूर करें
  • 9

    आंखों की समस्‍याओं में लाभकारी

    बबूल के पौधे की पत्तियां आंखों से अति‍रिक्त पानी की समस्‍या का उपचार करने के लिए भी उपयोग किया जाता है। इसके अलावा आंखों की लालिमा और कंजंक्टिवाइटिस के कारण आंखों में सूजन को कम करने में भी इसका इस्‍तेमाल किया जाता है। image courtesy : getty images

    आंखों की समस्‍याओं में लाभकारी
  • 10

    मुंह स्‍वास्‍थ्‍य के लिए लो‍कप्रिय

    बबूल की छाल मौखिक और दंत स्वच्छता के लिए भी बहुत लोकप्रिय है। वास्तव में, पहले के दिनों में, लोग अपने दांतों और मसूड़ों को मजबूत बनाने के लिए इसकी छाल के एक टुकड़े को मुंह में रखकर जुगल कर इसका प्रयोग करते थे। इसके अलावा बाबुल मसूड़ों संबंधित समस्याओं के उपचार के लिए भी अच्छी तरह से काम करता है। image courtesy : getty images

    मुंह स्‍वास्‍थ्‍य के लिए लो‍कप्रिय
  • 11

    डायरिया की कारगर दवा

    बाबुल के पेड़ के विभिन्न भागों का उपयोग डायरिया के लिए भी किया जाता है। डायरिया की समस्‍या होने पर इसके पत्तों का चूर्ण, सफेद और काले जीरे की बराबर मात्रा लेकर मिक्‍स कर लें और दिन में तीन बार 12 ग्राम लेने से आराम मिलता है। बबूल के पेड़ की छाल से बने काढ़े को भी इसी तरह दिन में तीन बार लेने से फायदा होता है। इसके अलावा इसकी गोंद का काढ़े या सिरप का इस्‍तेमाल भी डायरिया के लिए एक कारगर दवा है। image courtesy : getty images

    डायरिया की कारगर दवा
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर