हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

रूमेटाइड अर्थराइटिस में न करें इन आहारों का सेवन

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Apr 16, 2015
रुमेटॉयड आर्थराइटिस ऑटोइम्यून अर्थात स्‍वप्रतिरोधी तंत्र की असामान्य प्रतिक्रिया के कारण होने वाली बीमारी है, रूमेटॉइड आर्थराइटिस के उपचार में आहार का महत्वपूर्ण स्थान होता है, इसमें कुछ आहारों का सेवन न करें।
  • 1

    रूमेटॉइड आर्थराइटिस में क्या न खाएं

    विशेषज्ञों के मुताबिक अर्थराइटिस अर्थात गठिया रोग के 100 से भी अधिक प्रकार होते हैं, जिनमें मुख्य रूप से उम्र के साथ जोड़ घिस जाने व कमजोर हो जाने के कारण होने वाला ऑस्टियो आर्थराइटिस, जोड़ों में यूरिक एसिड के जमा होने के कारण होने वाला गाउट या फिर जोड़ों में संक्रमण के कारण होने वाला संक्रामक आर्थराइटिस शामिल हैं। लेकिन रुमेटॉयड अर्थराइटिस ऑटोइम्यून अर्थात स्‍वप्रतिरोधी तंत्र की असामान्य प्रतिक्रिया के कारण होने वाला रोग होता है। रूमेटॉइड आर्थराइटिस के उपचार में आहार का महत्वपूर्ण स्थान होता है। तो चलिये जानें कि रूमेटॉइड आर्थराइटिस में किन चीज़ों से परहेज रखना चाहिये।
    Images source : © Getty Images

    रूमेटॉइड आर्थराइटिस में क्या न खाएं
  • 2

    आहार की भूमिका

    रूमटॉइड आर्थराइटिस एक क्रोनिक बीमारी है जिसमें शरीर के कई तंत्र शामिल होते हैं। हालांकि आहार में परिवर्तन लाकर आर्थराइटिस को काबू में किया जा सकता है। परहेज न करने पर रोग बढ़ने लगते हैं। इसे एक एलर्जी से संबंधित बीमारी माना जाता है। रोगी जैसे ही एलर्जी उत्पन्न करने वाले पदार्थों का सेवन करता है तो रोग बढ़ने लगता है।
    Images source : © Getty Images

    आहार की भूमिका
  • 3

    दही का सेवन न करें

    रूमटॉइड आर्थराइटिस में दही का सेवन नहीं करना चाहिये। क्योंकि ऐसे में दही का सेवन करने से यह पेट के स्वास्थ्य को नकारात्‍मक रूप से प्रभावित करता है।
    Images source : © Getty Images

    दही का सेवन न करें
  • 4

    मांस व मछली

    मांस, डिब्बा बंद आहार आर्थराइटिस की तकलीफ को बढ़ाते हैं। हालांकि कुछ शोध यह भी तथ्य देते हैं कि इसमें ओमेगा 3 फैटी एसिड एइकोसपेन्टेनॉइक (ईपीए) और डोकोसाहेक्ज़ाएनोइक एसिड (डीएचए) होते हैं जो अकडन, दर्द और सूजन को कम करते हैं। तो इस विषय पर दो राय हैं।  
    Images source : © Getty Images

    मांस व मछली
  • 5

    वायुकारक पदार्थ

    चावल, आलू, गोभी, मूली, सेम, चना, उड़द की दाल, केला, संतरा, नीबू, अमरूद, टमाटर, दही तथा अन्य वायुकारक पदार्थों का सेवन करने से बचें। ये रूमटॉइड आर्थराइटिस के रोगियों के लिये हानिकारक होते हैं।
    Images source : © Getty Images

    वायुकारक पदार्थ
  • 6

    ज्यादा मात्रा में प्रोटीन

    जरूरत से ज्यादा प्रोटीन का सेवन करना भी रूमटॉइड आर्थराइटिस रोगियों के लिए नुकसानदायक होता है, क्योंकि इससे अतिरिक्त प्रोटीन में मौजूद नाइट्रोजन तत्व जमा हो जाता है, जिस वजह से मांसपेशियों में थकावट आ जाती है। ऐसे खाद्य पदार्थ जो पचने में भारी हों, तले हुए पदार्थ, जंक फ़ूड, ऐरेटेड ड्रिंक्स (कार्बन डाईऑक्साइड युक्त पेय) आदि का सेवन भी नहीं करना चाहिए।
    Images source : © Getty Images

    ज्यादा मात्रा में प्रोटीन
  • 7

    खट्टे खाद्य पादार्थ

    रूमटॉइड आर्थराइटिस के रोगियों को टमाटर, इमली, नींबू आदि खट्टे पदार्थों से परहेज करना चाहिए। साथ ही तेल युक्त, बहुत मसालेदार वस्तुओं का सेवन भी आर्थराइटिस के रोगियों के लिए हानिकारक सिद्ध होता है। ज्यादा मसाले वाले भोजन से भी बचना चाहिये।  
     Images source : © Getty Images

    खट्टे खाद्य पादार्थ
  • 8

    परहेज की अवधि

    क्योंकि रूमटॉइड आर्थराइटिस लंबे समय तक चलने वाला रोग है, इसके आहार संबंधी प्रतिबन्ध भी लंबे समय तक ही चलते हैं। इसलिए परहेज करने में कोताही न बरतें, समय के साथ इसका उपचार करते रहें।
    Images source : © Getty Images

    परहेज की अवधि
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर