हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

'डियर जिंदगी' के ये सबक जिंदगी से प्यार करना सिखा देंगे!

By:Gayatree Verma , Onlymyhealth Editorial Team,Date:Nov 18, 2016
क्या हमारे इमोशन्स रिसाइकल हो जाएंगे? हम खुल कर एक्सप्रेस करना सीख पाएंगे जाएगी? क्या टाइम अप होने से पहले हम जिंदगी में आगे बढ़ पाएंगे? कुछ ऐसे ही सवाल भोलेपन से पूछ जाती है डियर जिंदगी।
  • 1

    डियर जिंदगी टेक 1: लाइफ इज अ गेम

    डियर जिंदगी के पहले टीज़र में शाहरुख आलिया को समुद्र से कबड्डी खेलना सीखाते हैं। इसमें समुद्र की लहरों को छूकर लहरों से पहले किनारे तक पहुंचना होता है। कितना सही होता अगर हम ऐसे ही पहले पहुंचने की चाहत खेल-खेल में मस्ती करते हुए पूरा करते ना कि जलते हुए और बैर पालकर। आज लोग हर जगह पहले पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन मजे में नहीं किसी तरह के सजा मिलने के डर के कारण। इसी टीज़र में साइकिल चलाते वक्त आलिया गिर जाती है। शाहरुख उसे हाथ देते हैं और टाइम्स अप कह आगे बढ़ जाते हैं। बिल्कुल ट्रू सीन। खुद उठो, आगे बढ़ो, नहीं तो समय खत्म हो जाएगा।

    डियर जिंदगी टेक 1: लाइफ इज अ गेम
  • 2

    डियर जिंदगी टेक 2: आल्वेज रिसाइकिल

    क्या लोग रिसाइकिल हो सकते हैं?
    इस दूसरे टीज़र में शाहरुख एक जगह साइकिल रिपेयर करता है। उससे आलिया पूछती है कि कि क्या कर रहे हो तो शाहरुख बोलता है साइकिल रिपेयर कर रहा हूं। अगर रिपेयर नहीं हुई तो रिसाइकिल कर दूंगा। साइकिल को रिसाइकिल...
    अगर लोग रिपेयर नहीं हो सके तो क्या उन्हें भी रिसाइकिल कर सकते हो? ये कितना सही सवाल है ना... इंसान को रिसाइकिल। अगर ऐसा होता तो ना आज झगड़े होते हैं ना बैर होता और ना कोई दुश्मन। मजाक-मजाक में इस टीज़र ने बहुत बड़ा सवाल कर दिया है।

    डियर जिंदगी टेक 2: आल्वेज रिसाइकिल
  • 3

    डियर जिंदगी टेक 3: लव, ब्रेकअप, रिपिट

    रोमांटिक रिलेशनशिप इतने इरिटेटिंग क्यों होते हैं...
    डियर जिंदगी का तीसरा टीज़र इसी सवाल पर आधारित है। पहले लव होता है जिसमें पूरी दुनिया रोमांटिक लगती है। फिर ब्रेकअप होता है जिसमें ये रोमांटिक कपल ही इरिटेटिंग लगने लगते हैं। फिर लव और उसके बाद ब्रेकअप... यही तो लाइफ है जो ऐसे ही रिपिट हो-होकर हमें मैच्योर बनाती है।

    डियर जिंदगी टेक 3: लव, ब्रेकअप, रिपिट
  • 4

    डियर जिंदगी टेक 4: सेट फ्री

    बचपन में जब रोना आता है तो बड़े कहते हैं आंसू पोछो...
    जब गुस्सा आता है तो कहते हैं, जस्ट स्माइल... ताकि घर की शांति भंग ना हो...
    नफरत करना चाहते थे तो इजाजत नहीं थी, और अब जब प्यार करना चाहते हैं तो पता चलता है कि ये सारा इमोशनल सिस्टम ही गड़बड़ा गया है।
    रोना, गुस्सा, नफरत... कुछ भी खुलकर एक्सप्रेस नहीं करने दिया... अब प्यार कैसे एक्सप्रेस करेंगे?

    डियर जिंदगी टेक 4: सेट फ्री
  • 5

    डियर जिंदगी: अकेले हम कुछ भी नहीं...

    डियर जिंदगी रिलिज होने वाली है... रिलिज भी हो जाएगी... लेकिन क्या हमें रिसाइकिल कर पाएगी? हमें खुल कर एक्सप्रेस करना सीखा जाएगी? क्या टाइम अप होने से पहले हम जिंदगी में आगे बढ़ पाएंगे। खुद देखिये ये फिल्म और साथ में खुद से ही पूछिए इन सवालों के जवाब।

    डियर जिंदगी: अकेले हम कुछ भी नहीं...
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर