हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

हाइटल हर्निया के मरीज करें ये एक्‍सरसाइज

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jul 04, 2016
हाइटल हर्निया में पेट की मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं और इस कमजोर जगह से आंतें बाहर निकलने लगती हैं। इस हर्निया में कुछ एक्सरसाइज कर इससे निजात पाने में काफी मदद मिल सकती है। चलिए जानें हाइटल हर्निया के मरीज कौंन सी एक्‍सरसाइज कर सकते हैं।
  • 1

    हाइटल हर्निया में एक्‍सरसाइज


    हाइटल हर्निया में पेट की मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं और इस कमजोर जगह से आंतें बाहर निकलने लगती हैं। हायटल हर्निया की स्थिति में पेट का ऊपरी हिस्सा अपने डायाफ्राम के कमजोर होने की वजह से डायाफ्राम से बाहर निकल आता है, जिसके चलते ये अपने अंदर बनने वाले एसिड को रोक नहीं पाता, और ये एसिड पेट की नली में पहुंच कर जलन पैदा करते हैं, जिस से हमारे सीने में जलन और तेज दर्द महसूस होता है। आ मतौर पर छोटे हर्निया पर ध्यान नहीं जाता है, लेकिन बड़े हर्निया के उपचार के लिए सर्जरी की जरूरत पड़ सकती है, हालांकि छोटे हर्निया में कुछ एक्सरसाइज कर इससे निजात पाने में काफी मदद मिल सकती है। चलिए जानें हाइटल हर्निया के मरीज कौंन सी एक्‍सरसाइज कर सकते हैं।   
    Images source : © Getty Images

    हाइटल हर्निया में एक्‍सरसाइज
  • 2

    ट्री पोज़ एक्सरसाइज़



    यह एक्सरसाइज हाइटल हर्निया में बेहद लाभदायक होती है। ट्री पोज़ एक्सरसाइज़ करने के लिए स बसे पहले सीधे खड़े हो जाएं और अपने दोनों हाथों को साइड में पंख की तरह फैला लें, और फिर कोहनियों से दोनों हाथों को मोड़ लें। इस तरह आपके दोनों हाथ आपकी छाती से छू जाएंगे। इस स्थिति में थोड़ी देर खड़े रहें और इस दौरान अपने शरीर के वजन को पंजो पर कर लें। इसे दस बार करें।
    Images source : © Getty Images

    ट्री पोज़ एक्सरसाइज़
  • 3

    वन साइड बेंड


    इस एक्सरसाइज को करने के लिए सीधे खड़े हो जाएं और पैरों को विश्राम की स्थिति में कर लें और कमर को बिलकुल सीधी कर अपने एक हाथ को अपनी कमर पर रख लें। इसके बाद अपने दूसरे हाथ को ऊपर हवा में सीधा खड़ा करें और शरीर को दूसरी तरफ जितना हो सके धीरे-धीरे मोड़े। ऐसा कम से कम 10 बार दौहराएं।
    Images source : © Getty Images

     वन साइड बेंड
  • 4

    एरोबिक मूव


    हाइटल हर्निया में ये एक्सरसाइझ करना भी फायदेमंद होता है। इसे करने के लिये सबसे पहले ज़मीन पर एक करवट लेकर लेट जाएं। अब जिस तरफ आपने करवट की हुई है, वो हाथ ज़मीन पर सामने सीधा सिर से ऊपर कर लें और दूसरा हाथ ज़मीन पर ही रखा रहने दें। इसके बाद अपने ऊपर के पैर को हवा में जितना हो सके सीधा करने की कोशिश करें और थोड़ी देर इस स्थिति में ही रहें। इसे आठ से दस बार दोहराएं।
    Images source : © Getty Images

    एरोबिक मूव
  • 5

    योगा का नियमित अभ्यास करें


    कई योग विशेष रूप से डायाफ्राम और पेट को मजबूत करने में मददगार होते हैं। मसलन, चेयर पोज़ योगा, जिसमें आपको कूल्हों के बल ज़मीन पर बैठना होता है और अपने दोनों पैरों को सामने की तरफ घुटने मोड़कर रखना होता है। इसके बाद आपको अपने दोनों हाथों को ऊपर की ओर समानांतर सीधा करना होता है और ऊपर हाथ जोड़ने की मुद्रा में लाना होता है। आपको अपनी दोनों जांघों को सटाकर पैरो को दोनों एडियों पर टिकाना होता है और लगभग तीस सकेंड तक इस स्थिति में रखकर वापस सामान्य स्थिति में आना होता है।   
     Images source : © Getty Images

    योगा का नियमित अभ्यास करें
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर