हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

योनि का सूखापन दूर करने के लिए अपनाएं ये प्राकृतिक लुब्रिकेशन उपाय

By:Devendra Tiwari , Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jul 11, 2016
बढ़ती उम्र के साथ वजाइना में ड्राईनेस की समस्या भी बढ़ते जाती है। कई बार ये सामान्य उम्र में एस्‍ट्रोजन के स्‍तर में कमी होने से होता है। इसको दूर करने के लिए इन तरीकों को अपनाएं।
  • 1

    योनि की ड्राईनेस

    योनि में ड्राईनेस रजोनिवृत्ति के चरण में पहुंचने वाली ज्‍यादातर महिलाओं की एक आम समस्‍या है। योनि अस्‍तर के एस्‍ट्रोजन के स्‍तर में कमी या पतला होने से योनि संक्रमण होता है जो सूखापन जैसी समस्‍याओं का कारण होता है। यह कमी बच्‍चे के जन्‍म या स्‍तनपान, रेडियेशन, कीमोथेरेपी और अंडाशय के सर्जिकल रिमूवर के कारण होती है। तीव्र खुजली, योनि स्राव, दर्द, और संभोग के दौरान हल्‍की ब्‍लीडिंग, योनि में जलन, योनि में सूखेपन के प्राथमिक लक्षण हैं। बैक्टीरियल और फंगल संक्रमण योनि सूखापन का मुख्य कारण माना जाता है। अन्य कारणों में एलर्जी या सेक्‍स से पहले फोरप्‍ले की कमी शामिल है। अगर आप योनि में लुब्रिकेशन बढ़ाने के बारे में सोच रहे हैं तो कुछ प्रभावी घरेलू उपाय योनि सूखापन दूर करने में अद्भुत तरीके से काम करते हैं। ऐसे ही कुछ प्रभावी उपायों की जानकारी यहां दी गई है आइए उनपर एक नजर डालते हैं।

    योनि की ड्राईनेस
  • 2

    अलसी के बीज

    अलसी के बीज योनि के सूखापन के उपचार सहित कई प्रकार के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ प्रदान करता है। अलसी का तेल फीटोएस्‍ट्रोजन की उपस्थिति के कारण होने वाली एस्‍ट्रोजन के स्‍तर में वृद्धि के उपचार में बहुत प्रभावी माना जाता है। जिससे योनि में लुब्रिकेशन को बढ़ाया जा सकता है। समस्‍या होने पर अलसी के बीज को पीसकर इसे स्‍मूदी, सलाद, दही या अपने पसंद के किसी भी आहार पर छिड़क कर खायें।

    अलसी के बीज
  • 3

    सोया उत्‍पाद

    सोयाबीन के साथ-साथ सोया उत्‍पाद आश्‍चर्यजनक रूप से एस्‍ट्रोजन के स्‍तर में वृद्धि करते हैं। सोया को आहार में शामिल करने पर योनि के सूखापन के लक्षणों में कुछ राहत का अनुभव होता है। फीटाएस्‍ट्रोजन, प्रोटीन, कैल्शियम, फोलिक एसिड, कैल्शियम, आयरन, मिनरल और विटामिन से भरपूर होने के कारण सोया योनि से सूखेपन राहत देने के साथ नाइट स्‍वैट और हॉट फ्लैशस से राहत देने में मदद करता है। अच्‍छे परिणाम पाने के लिए एक दिन में सोया की 25 ग्राम का सेवन करें। सोया का सेवन बढ़ाने के लिए सोयाबीन, सोया नट्स, सोया मिल्‍क, टोफू आदि जैसे खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल करें।

    सोया उत्‍पाद
  • 4

    मछली और विटामिन बी कॉम्‍प्‍लेक्‍स

    मछली में मौजूद ओमेगा-3 योनि में सूखापन के लक्षणों को कम करने में बहुत मददगार होता है। कैन्‍ड ट्यूना या सालमन इस स्‍तर में वृद्धि और योनि के सूखापन की संभावन को कम करने में मदद करता है। माना जाता है कि मछली योनि में उत्‍तेजना बढ़ाने में मदद करता है जिसके फलस्‍वरूप प्राकृतिक लुब्रिकेशन में मदद मिलती है। बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन योनि क्षेत्र में सूखापन का एक और कारण यानी दिन-ब-दिन बढ़ने वाला तनाव को दूर करने में सहायक होता है। ये विटामिन लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता है, जो योनि में ब्‍लड सर्कुलेशन बढ़ाकर लुब्रिकेशन को बढ़ावा देने में मदद करता है। इसके अलावा ये अधिवृक्‍क ग्रंथि और प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में मदद करता है। इसके अलावा विटामिन बी-12 ब्‍लड की रीसाइक्लिंग द्वारा योनि के सूखेपन को कम करता है।

    मछली और विटामिन बी कॉम्‍प्‍लेक्‍स
  • 5

    मेथी

    मेथी भी योनि के सूखेपन के उपचार में बहुत प्रभावी है। यह शरीर में एस्‍ट्रोजन के स्‍तर को रिस्‍ट्रोर करने में मदद करता है और समस्‍या से प्राकृतिक रूप से राहत देता है। यह बीज एस्‍ट्रोजन का उत्‍पादन कर योनि में लुब्रिकेशन बढ़ाने में मदद करते है। एक चम्मच मेथी के बीज रात भर के लिए भिगो दें फिर सुबह इस खा लें और इसके पानी को पी लें। या एक चम्‍मच मेथी के बीज को एक गिलास पानी में 15 मिनट के लिए उबाल लें। फिर इसे ठंडा होने दें और फिर पी लें। इसके नियमित रूप से पीने से योनि का सूखापन दूर हो जाता है। गर्भवती महिलाओं या हार्मोन से संबंधित बीमारियों या स्तन कैंसर से ग्रस्‍त महिलाओं को इससे परहेज करना चाहिए।

    मेथी
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर