हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

इको फेंगशुई से घर में सकारात्‍मकता लाने के सात उपाय

By:Bharat Malhotra, Onlymyhealth Editorial Team,Date:May 30, 2014
फेंगशुई का ही रूप है ईको फेंगशुई। वास्‍तुकला की एक ऐसी पद्धति जो कुदरत का पूरा खयाल रखती है। इसी के सात टिप्‍स को आजमाकर आप अपने घर में सकारात्‍मकता को बनाये रख सकते हैं।
  • 1

    सकारात्‍मकता लाए फेंग्‍शुई

    इको फेंगशुई से आप अपने घर में सकारात्‍मक ऊर्जा बढ़ा सकते हैं। और आप जानते ही हैं कि सकारात्‍मकता आपके लिए कितनी महत्‍वपूर्ण होती है। सकारात्‍मक व्‍यक्ति किसी भी काम को बेहतर लगन के साथ कर सकता है। और जाहिर सी बात है कि इससे बेहतर परिणाम मिलने की संभावना भी अधिक होती है। इस स्‍लाइड शो में हम आपको बता रहे हैं सात ऐसे उपाय, जिन्‍हें अपनाकर आप अपने घर के वातावरण में सकारात्‍मक ऊर्जा का स्‍तर बढ़ा सकते हैं।

    सकारात्‍मकता लाए फेंग्‍शुई
  • 2

    कुदरती रोशनी को आने दें

    अपने घर की खिड़कियां खोलें। और कुदरती रोशनी को अंदर आने दें। इसे हवा को आने जाने का रास्‍ता भी मिलेगा। इसके साथ ही इससे आपका घर कुदरती रूप से गर्म या ठंडा होता रहेगा। कुदरती प्रकाश यूं भी काफी अच्‍छा माना जाता है।

    कुदरती रोशनी को आने दें
  • 3

    हरे-भरे पौधे लाएं

    अपने घर में हरे-भरे पौधे लगाएं। आप घर की बालकनी या अंदर भी इस तरह के पौधे लगा सकते हैं। इससे घर में कुदरती रूप से ऑक्‍सीजन का स्‍तर बढ़ता है। हवा साफ होती है। ऐसा भी माना जाता है कि पौधे लगाने से घर के सदस्‍यों में आपसी सामंजस्‍य बढ़ता है। घर की एक दीवार को ही अगर पौधों से भ्‍ज्ञर दिया जाए तो इससे आपको काफी फायदा होगा। फेंगशुई के हिसाब से यह आपके लिए कामयाबी के नये द्वार खोलती है।

    हरे-भरे पौधे लाएं
  • 4

    बांस का प्रयोग

    अपने घर में बांस, काग, हार्डवुड जैसे स्‍थायी उत्‍पादों का इस्‍तेमाल करें। इसके साथ ही कुदरती फाइबर कारपेट फ्लोरिंग भी आपके घर के माहौल को खुशनुमा बना सकती है। फेंगशुई के अनुसार इन चीजों के इस्‍तेमाल से घर में स्‍थायित्‍व का भाव आता है। इसके साथही सिरामिक टाइल्‍स, संगमरमर, पत्‍थर, चिकनी मिट्टी और स्‍लेट आदि का भी इस्‍तेमाल किया जाता है। आपको रिसाइकिल वुड का इस्‍तेमाल करना चाहिए।

    बांस का प्रयोग
  • 5

    पेंट हो सही

    अपने घर पर पेंट, स्‍टेन, ग्‍लू और फिनिश इस्‍तेमाल करते समय इन बातों का खयाल रखना चाहिए कि उनमें वालेटिल ऑर्गेनिक कंपाउंड (वीओसी'एस) कम हों। ये विषैले तत्‍व हवा में घुलकर उसे जहरीला बना सकते हैं। इन तत्‍वों से सिरदर्द, चक्‍कर आना, सांस की समस्‍या और अन्‍य एलर्जी हो सकती हैं। इसके साथ ही कुछ कारणों से आपको नॉन-टॉक्सिक और कुदरती क्‍लीनर आदि खरीदने चाहिए।

    पेंट हो सही
  • 6

    सीएफएल अपनायें

    सीएफएल का प्रकाश कुदरती नजर आता है। ये परंपरागत बल्‍बों का शानदार विकल्‍प हैं। ये आम बल्‍बों से दस गुना ज्‍यादा चलते हैं और साथ ही इनमें बिजली की खपत भी अधिक होती है। सफेद रोशनी वाले सीएफएल घर के अंदर भी सूर्य का प्रकाश होने का आभास कराते हैं, इससे आपका मूड बढ़ि‍या रहता है।

    सीएफएल अपनायें
  • 7

    रिसाइकिल है सही

    आपको रिसाइकिल पेपर, प्‍ल‍ास्टिक, ग्‍लास और दवात आदि इस्‍तेमाल करना चाहिए। इसके साथ ही आप अपने बच्‍चों को भी इस तरह के उत्‍पादों का इस्‍तेमाल करना सिखा सकते हैं। अपने घर पर भी जैविक और अजैविक कूड़े के लिए अलग-अलग कूड़ेदानों का इस्‍तेमाल करें। और अपने बच्‍चों को भी इनका इस्‍तेमाल करना सिखायें।

    रिसाइकिल है सही
  • 8

    रचनात्‍मकता बढ़ायें

    पुराने फर्नीचर को पेंट करें। इसका काम का पूरा आनंद उठायें। क्‍योकि आप कुछ रचनात्‍मक कर रहे हैं। साथ ही इन चीजों का ताजा रूप आपके घर में भी सकारात्‍मकता का इजाफा करेगा। आपकी ऊर्जा उन सब चीजों में प्रवाहित होगी। फेंगशुई को र्इको-फ्रेंडली रूप में आजमाना आपके घर और कुदरत दोनों के लिए अच्‍छा है।

    रचनात्‍मकता बढ़ायें
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर