हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

रात में इलेक्‍ट्रॉनिक मीडिया से हो सकती है अनिद्रा और अवसाद की समस्‍या

By:Nachiketa Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Feb 13, 2015
रात के वक्‍त इलेक्‍ट्रॉनिक उपकरणों का अधिक प्रयोग करने के कारण अनिद्रा और अवसाद के समस्‍या की संभावना बढ़ती है, क्‍योंकि इनसे निकलने वाला रेडिएशन हमारे दिमाग को प्रभावित करता है।
  • 1

    रात में इलेक्‍ट्रॉनिक मीडिया का प्रभाव

    उन्‍नत तकनीक का असर हमारी दिनचर्या पर काफी हद तक पड़ा है और इसका सबसे अधिक नुकसान स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं के रूप में देखा जा सकता है। रात में मोबाइल फोन, टेलीविजन, कंप्‍यूटर, म्‍यूजिक सिस्‍टम आदि का अधिक प्रयोग करने के कारण अनिद्रा और अवसाद की समस्‍यायें बढ़ रहीं हैं। इनके कारण नींद पूरी नहीं हो रही है और हमारा शरीर बीमारियों का घर बनता जा रहा है। आगे की स्‍लाइड में जानिये किस तरह से इलेक्‍ट्रॉनिक मीडिया के कारण अनिद्रा और अवसाद की समस्‍या बढ़ रही है।
    Images courtesy: © Getty Images

    रात में इलेक्‍ट्रॉनिक मीडिया का प्रभाव
  • 2

    शोध के अनुसार

    रात में डिजिटल मीडिया के प्रयोग के कारण होने वाले स्‍वास्‍थ्‍य प्रभाव के बारे में कई शोध भी हुए हैं। स्वीडन में हुए एक रिसर्च से पता चला कि सोने के पहले मोबाइल फोन और दूसरे मीडिया के इस्तेमाल से स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। इन गजेट से निकलने वाले रेडिएशन के कारण व्यक्ति अनिद्रा व सिरदर्द की शिकायत से तो त्रस्त रहता ही है। साथ ही उसे मीठी नींद से भी वंचित रहना पड़ता है।
    Images courtesy: © Getty Images

    शोध के अनुसार
  • 3

    दिमाग पर असर

    स्‍वीडन में हुए शोध की मानें तो रात में डिजिटल मीडिया के प्रयोग के कारण दिमाग पर भी असर पड़ता है। इसके कारण एकाग्रता में भी कमी आती है व व्यक्ति डिप्रेशन का शिकार भी हो सकता है। इस सबका उसके व्यक्तित्व पर भी दुष्प्रभाव पड़ता है। दिमाग की सक्रियता कम होती है।
    Images courtesy: © Getty Images

    दिमाग पर असर
  • 4

    अवसाद की संभावना

    रात में डिजिटल मीडिया के प्रयोग के कारण अवसाद की संभावना भी बढ़ रही है और इसकी चपेट में सबसे अधिक युवा और किशोर आ रहे हैं। युवाओं में स्‍मार्टफोन का प्रयोग का चलन दूसरे मीडिया उपकरणों की तुलना में अधिक देखने को मिलता है। इससे निकलने वाले रेडिएशन से सिरदर्द के साथ अवसाद की समस्‍या अधिक हो रही है।
    Images courtesy: © Getty Images

    अवसाद की संभावना
  • 5

    भरपूर नींद से वंचित

    व्यक्ति स्वस्थ रहे, इसके लिए गहरी नींद बहुत जरूरी है, क्योंकि इसी दौरान हमारा शरीर दिनभर में क्षतिग्रस्त हुई कोशिकाओं की मरम्‍मत करता है और इसी दौरान कोशिकाएं पुनर्जीवित भी होती हैं। मोबाइल नींद में बाधा पहुंचाकर इन सारे रास्तों को बंद कर देता है, जो युवा देर रात तक मोबाइल पर बात करते रहते हैं, उनके लिए यह खबर खतरे की घंटी है और वे पूरी नींद नहीं ले पा रहे हैं।
    Images courtesy: © Getty Images

    भरपूर नींद से वंचित
  • 6

    युवा और किशोर अधिक प्रभावित

    वायरलेस इंटरनेट के बढ़ते प्रयोग के कारण रेडिएशन के बढ़ने की आशंका सबसे अधिक होती है। इसका अधिक प्रयोग युवा और टीनेजर कर रहे हैं। 2007 में बेसल यूनिवर्सिटी द्वारा किये गये शोध की मानें तो, डिजिटल मीडिया के बढ़ते प्रयोग के कारण युवाओं में अवसाद और अनिद्रा की समस्‍या बढ़ रही है।
    Images courtesy: © Getty Images

    युवा और किशोर अधिक प्रभावित
  • 7

    इलेक्‍ट्रॉनिक मीडिया कैसे पहुंचा रहा नुकसान

    अमेरिकन केमिकल सोसायटी द्वारा किये गये शोध की मानें तो इलेक्‍ट्रॉनिक मीडिया का दखल हमारी दिनचर्या में सबसे अधिक हुआ है और यह हमारे दिमाग पर हावी हो चुका है। जैसे शाम ढलती है हमारा दिमाग सोने की तैयारी करता है, शाम की लाल रोशनी का संपर्क जब आंखो की गहराई में स्थित कोशिका में पाए जाने वाले प्रोटीन मेलानोप्सीन से होता है, तब ऐसा होता है। लेकिन मीडिया के इन उपकरणों से नीली रोशनी निकलती है, और नीली रोशनी के संपर्क में आते ही कोशिकाएं दिमाग को जगने का संकेत भेजने लगती हैं और गहरी..
    Images courtesy: © Getty Images

    इलेक्‍ट्रॉनिक मीडिया कैसे पहुंचा रहा नुकसान
  • 8

    कैसे करें बचाव

    इनसे बचाव न किया गया तो इसका असर भविष्‍य में पड़ सकता है और इसके कारण दिमाग की सक्रियता भी कम हो जाती है, यह भूलने की बीमारी (डिमेंशिया आदि) का कारण बन सकता है। इसलिए रात के वक्‍त इन उपकरणों का कम से कम प्रयोग करने की कोशिश करें। अपने बेडरूम में टीवी और म्‍यूजिक सिस्‍टम तो बिलकुल न लगायें। स्‍मार्टफोन और टैब पर भी काम करने से बचें।

    Images courtesy: © Getty Images

    कैसे करें बचाव
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर