हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

बर्थ कंट्रोल इम्लांट के प्रकार और सावधानियां

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jun 17, 2015
बर्थ कंट्रोल इम्लांट किसी महिला की त्वचा के नीचे डाले जाने वाले उपकरण होते हैं। ये उपकरण एक हार्मोन रिलीज करते हैं जोकि गर्भावस्था से बचाता है। यह बर्थ कंट्रोल का काफी नया तरीका है।
  • 1

    बर्थ कंट्रोल इम्लांट


    बर्थ कंट्रोल इम्लांट किसी महिला की त्वचा के नीचे डाले जाने वाले उपकरण होते हैं। ये उपकरण एक हार्मोन रिलीज करते हैं जोकि गर्भावस्था से बचाता है।
    यह बर्थ कंट्रोल का काफी नया तरीका है। तो चलिये विस्तार से जानें बर्थ कंट्रोल इम्लांट, इसके प्रकार व इससे जुड़ी सावधानियां क्या है।
    Image courtesy: © Getty Images

    बर्थ कंट्रोल इम्लांट
  • 2

    बर्थ कंट्रोल इम्लांट का तरीका

     
    अभी दो समान प्रत्यारोपण इम्प्लानों (Implanon) और नेक्सप्लेनों (Nexplanon) उपलब्ध हैं। हालांकि, इम्प्लानों धीरे-धीरे नेक्सप्लेनों द्वारा प्रतिस्थापित किया जा रहा है। दोनों ही इम्लांट्स में एक माचिस की तीली के आकार की प्लास्टिक की छड़ को ऊपरी बांह में त्वचा के नीचे ड़ाला जाता है। छड़ से निकलने वाला हार्मोन प्रोजेस्टेरोन के रूप में होता है, जिसे एटोनोगेस्ट्रेल (etonogestrel) के नाम से जाना जाता है। सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के अनुसार विशिष्ट प्रयोग की विफलता की दर 0.05 प्रतिशत है।
    Image courtesy: © Getty Images

    बर्थ कंट्रोल इम्लांट का तरीका
  • 3

    बर्थ कंट्रोल इम्लांट कैसे काम करता है?



    इम्लांट धीरे-धीरे प्रोजेस्टिन हार्मोन को शरीर में छोड़ता है। प्रोजेस्टिन अंडाशय से अंडे को निकलने से रोकता है और गर्भवस्था नहीं होने देता है। गर्भाशय ग्रीवा बलगम म्यूकस को गाढ़ा कर देता है और वीर्य को गर्भाशय तक नहीं पहुंचने देता।
    Image courtesy: © Getty Images

    बर्थ कंट्रोल इम्लांट कैसे काम करता है?
  • 4

    बर्थ कंट्रोल इम्लांट को कैसे कराएं



    इसे करने के लिये डॉक्टर आपका परिक्षण करने के बाद बाजू के ऊपरी भाग में त्वचा के नीचे उपकरण को डाल देता है। यह उपकरण तीन साल अपनी जगह पर टिका रह सकता है। इसे करने में बस कुछ ही मिनट लगते हैं। तीन साल के बाद इम्लांट को निकला होता है। यदि आप चाहे तो दूसरा इम्लांट करा सकते हैं, या न कराने के स्थिति में आप कोई और गर्भनिरोधक विकल्प भी चुन सकते हैं।
    Image courtesy: © Getty Images

    बर्थ कंट्रोल इम्लांट को कैसे कराएं
  • 5

    बर्थ कंट्रोल इम्लांट के फायदे

     

    • सबसे पहला फायदा कि यह बर्थ कंट्रोल का बेहद आसान विकल्प है।
    • तीन साल के लिए जन्म नियंत्रण के बारे में चिंता करने की कोई जरूरत नहीं।
    • बर्थ कंट्रोल के सबसे प्रभावी विकल्पों में से एक है।

    Image courtesy: © Getty Images

    बर्थ कंट्रोल इम्लांट के फायदे
  • 6

    नुकसान क्या हैं?

     

    • यौन संचरित संक्रमणों के खिलाफ कोई सुरक्षा नहीं।
    • बीमा में कवर न होने की स्थिति में काफी मंहगा विकल्प है।
    • डिवाइस को तीन साल के बाद हटाना पड़ता है।

    Image courtesy: © Getty Images

    नुकसान क्या हैं?
  • 7

    आईयूडी (इन्ट्रायूट्रीन डिवाइस)


    आईयूडी छोटा सा प्लास्टिक या कॉपर का टी आकार का उपकरण होता हैं जिसे यूटरस के भीतर डाला जाता हैं। ये स्पर्म को महिलाओं के एग तक पहुंचने से रोकता है। ये कुछ महीनों से लेकर 10 साल तक चल सकता है और प्रेग्नेंसी रोकने में ये 98 प्रतिशत तक कारगर होता है।  
    Image courtesy: © Getty Images

    आईयूडी (इन्ट्रायूट्रीन डिवाइस)
  • 8

    हॉरमोन इंजेक्शन


    यह इंजेक्शन टेस्टोस्टेरोन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन से मिलकर बना होता है, जो पुरुषों में शुक्राणुओं का उत्पादन बंद कर देता है। वहीं महिलाएं यदि रोज गोलियां नहीं खाना चाहतीं या ये गर्भनिरोधक गोलियां आपको सूट नहीं करतीं, तो भी आप प्रोजेस्ट्रॉन के इंजेक्शन ले सकती हैं। एक इंजेक्शन लगभग 10 से 13 हफ्ते तक गर्भधारण से सुरक्षा देता है।
    Image courtesy: © Getty Images

    हॉरमोन इंजेक्शन
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर