हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

अस्‍थमा का आपकी सेक्‍स लाइफ पर असर

By: ओन्लीमाईहैल्थ लेखक, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jan 17, 2014
अस्‍थमा की वजह से सांस लेने में दिक्‍कत होती है जो सेक्‍स लाइफ को प्रभावित कर सकती है।
  • 1

    अस्‍थमा और सेक्‍स लाइफ

    स्‍वस्‍थ्‍य संबंध बनाये रखने के लिए सेक्‍स संबंध बनाना बहुत जरूरी है। सेक्‍स संबंध बनाने से आपके संबंध और भी मधुर होते हैं। लेकिन कुछ बीमारियां ऐसी भी हैं जिनके कारण आपकी सेक्‍स लाइफ प्रभावित हो सकती है, और इसमें अस्‍थमा का नाम भी आता है। अस्‍थमा की वजह से सांस लेने में दिक्‍कत होती है जो सेक्‍स लाइफ को प्रभावित कर सकती है।

    अस्‍थमा और सेक्‍स लाइफ
  • 2

    क्‍या है अस्‍थमा

    अस्थमा एक ऐसी बीमारी है जिसमें पर श्वास नली या इससे संबंधित हिस्सों में सूजन के कारण फेफड़ों में हवा जाने वाले रास्ते में रूकावट आती है, जिससे सांस लेने में तकलीफ होती है। शरीर की जरूरतों को पूरा करने के लिए हवा का फेफड़ों से अन्दर बाहर आना-जाना जरुरी है। जब फेफड़ों से बाहर हवा का प्रवाह रुकता है तो पुरानी हवा फेफड़ों में बन्द हो जाती है। इससे फेफड़ों के लिए शरीर को आक्सीजन पहुंचाना मुश्किल हो जाता है। इसकी वजह से व्‍यक्ति को सांस लेने में दिक्‍कत होती है।

    क्‍या है अस्‍थमा
  • 3

    कैसे प्रभावित करता है अस्‍थमा

    सेक्‍स एक प्रकार का शारीरिक व्‍यायाम है, यौन संबंध बनाने के दौरान व्‍यक्ति की सांसे तेजी से चलने लगती हैं। लेकिन यदि आप अस्‍थमा जैसी बीमारी से ग्रस्‍त हैं तो दिल की धड़कन तेज होना आपके लिए नुकसानदेह हो सकता है और इसके कारण अस्‍थमा के मरीज की स्थिति बिगड़ सकती है।

    कैसे प्रभावित करता है अस्‍थमा
  • 4

    अस्‍थमा की दवायें

    अस्‍थमा के मरीज सांस लेने के लिए पंप का प्रयोग करते हैं। इस पंप में जो केमिकल प्रयोग किये जाते हैं उसके कारण व्‍यक्ति की यौन इच्‍छा कम होती जाती है। अस्थमा में काम आने वाली दवाइयां जैसे एफीड्रीन, इरब्युटालिन आदि दवाओं के सिम्पेथोमिमेटिक परिणाम पुरूषों के लिंग के तनाव में कमी लाते हैं।

    अस्‍थमा की दवायें
  • 5

    यौन इच्‍छा में कमी

    अस्‍थमा के कारण सांस लेने में दिक्‍कत होती है, मरीज जल्दी जल्दी सांस लेता है, सांस लेने में तकलीफ होती है, खांसी के कारण नींद में रुकावट, सीने में दर्द या कसाव, फेफड़ों पर असर आदि समस्‍यायें होती हैं, जिनके कारण व्‍यक्ति सेक्‍स के प्रति इच्‍छा कम हो जाती है। इसके कारण व्‍यक्ति तनाव और अवसाद में भी चला जाता है।

    यौन इच्‍छा में कमी
  • 6

    घटते शुक्राणु

    अस्‍थमा की दवाओं का असर मरीज की स्‍पर्म काउंटिंग पर पड़ता है। चिकित्‍सकों की मानें तो अस्‍थमा की कुछ दवाओं के प्रयोग से पुरुष के शुक्राणुओं की संख्‍या भी कम होती है।

    घटते शुक्राणु
  • 7

    संबंधों में खटास

    अस्‍थमा से ग्रस्‍त व्‍यक्ति सेक्‍स के दौरान अपने पार्टनर को खुश नहीं कर पाता है। क्‍योंकि सेक्‍स के दौरान सांसे तेज चलने की वजह से अस्‍थमा बदतर हो जाता है और वह पार्टनर को संतुष्‍ट किये बिना ही रति क्रिया से विरत हो जाता है। इसकी वजह से उसका पार्टनर भी असंतुष्‍ट रहता है। इसकी वजह से व्‍यक्ति की निजी जिंदगी में खटास आ जाती है।

    संबंधों में खटास
  • 8

    कैसे रहें सामान्‍य

    अस्‍थमा से ग्रस्‍त होने के बाद भी आप अपनी सेक्‍स लाइफ को पूरी तरह से जी सकते हैं, इसके लिए जरूरी है चिकित्‍सक के दिशनिर्दशों का पालन करे। सेक्‍स के दौरान आप पोजीशन बदल कर भी सेक्‍स का मजा ले सकते हैं। यौन संबंध बनाने के दौरान इस बात का ध्‍यान रखिये कि आपके सीने पर अधिक दबाव न पड़े। सीने पर दबाव पड़ने के कारण आपकी सांसे तेज हो सकती हैं और अस्‍थमा अटैक हो सकता है।

    कैसे रहें सामान्‍य
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर