हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

हेल्दी मूसली कितनी फायदेमंद और कितनी नुकसानदायक

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Mar 24, 2017
सफेद मूसली भी ऐसी ही एक जड़ी-बूटी है, जो शारीरिक क्षमता बढ़ाने के लिये मशहूर है, हालांकि इसके गुणों को लेकर कोई वैज्ञानिक साक्ष्‍य मौजूद नहीं हैं, लेकिन इसके प्रयोग से शारीरिक क्षमता बढ़ती है।
  • 1

    सफेद मूसली, फायदे और नुकसान

    भारत प्राचीन काल से ही सांस्कृतिक धरोहर के साथ जड़ी-बूटियों के लिए भी प्रसिद्ध रहा है। यहां विभिन्न औषधीय पौधे पाए जाते हैं। इसी लिये यहां विभिन्न चिकित्सा पद्धतियों जैसे, आयुर्वेद, यूनानी, प्राकृतिक चिकित्सा आदि प्राचीन काल से ही न केवल चलन में हैं बल्कि विज्ञान और तकनीक के विकास के बाद भी इनकी प्राथमिकता कम नहीं हुई है। सफेद मूसली भी ऐसी ही एक जड़ी-बूटी है, जो शारीरिक क्षमता बढ़ाने के लिये काफी मशहूर है। हालांकि इसके गुणों को लेकर कोई वैज्ञानिक साक्ष्‍य मौजूद नहीं हैं। तो चलिये जानें सफेद मूसली के फायदे और नुकसान क्या हैं।
    Images courtesy: © Getty Images

    सफेद मूसली, फायदे और नुकसान
  • 2

    शीघ्रपतन का उपचार

    सफेद मूसली शीघ्रपतन के देसी इलाज के काफी मशहूर है। कौंच के बीज, सफेद मूसली और अश्वगंधा के बीजों को बराबर मात्रा में मिश्री के साथ मिलाकर बारीक चूर्ण बनाकर एक चम्मच चूर्ण सुबह और शाम एक कप दूध के साथ लेने से शीघ्रपतन और वीर्य की कमी जैसी समस्याएं दूर हो जाती हैं।
    Images courtesy: © Getty Images

    शीघ्रपतन का उपचार
  • 3

    दवाइयां बनाने में

    सालों से विभिन्न दवाइयो के निर्माण में भी सफेद मूसली का उपयोग किया जाता है। मूलतः यह एक ऐसी जडी-बूटी है जिससे किसी भी प्रकार की शारीरिक शिथिलता को दूर करने की क्षमता होती है। यही कारण है की कोई भी आयुर्वेदिक सत्व जैसे च्यवनप्राश आदि इसके बिना संम्पूर्ण नहीं माने जाते हैं।
    Images courtesy: © Getty Images

    दवाइयां बनाने में
  • 4

    शिलाजीत की संज्ञा

    यह इतनी पौष्टिक तथा बलवर्धक होती है की इसे शिलाजीत की संज्ञा भी दी जाती है। चीन, उत्तरी अमेरिका में पाये जाने वाले इस पौधे, जिसका वानस्पतिक नाम पेनेक्स जिंन्सेग है का विदेशों में फलेक्स बनाये जाने पर भी काम कर रहे हैं।
    Images courtesy: © Getty Images

    शिलाजीत की संज्ञा
  • 5

    शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने में

    सफेद मुसली पुरुषों को शारीरिक तौर पर पुष्ट बनाने के अलावा वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने में भी मदद करती है। यही नहीं, कई शोध अपने परिणाम बताते हैं कि डायबिटीस के बाद होने वाली नपुंसकता में भी सफेद मुसली सकारात्मक असर करती पाई गई है।  
    Images courtesy: © Getty Images

    शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने में
  • 6

    कामोत्तेजना बढ़ाने में

    कामोत्तेजना बढ़ाने में भी मूसली काफी लाभदायक होती है। इसके लिये कौंचबीज चूर्ण, सफेद मूसली, तालमखाना, अश्वगंध चूर्ण को बराबर मात्रा में तैयार कर 10 ग्राम ठंडे दूध के साथ सेवन करना होता है। ये काफी कारगर नुस्खा माना जाता है।
    Images courtesy: © Getty Images

    कामोत्तेजना बढ़ाने में
  • 7

    प्रमाणों की कमी

    कुन्नथ फार्मास्युटिकल्स अपनी वेबसाइट पर ये दावा करते हैं कि मूसली पावर एक्स्ट्रा के कोई ज्ञात नकारात्मक साइड इफेक्ट नहीं हैं और क्योंकि यह पूरी तरह कार्बनिक हर्बल सामग्री से बनाया जाता है, इसलिये मानव उपभोग के लिए सुरक्षित है। कंपनी दावा करती है कि इस उत्पाद को उच्च रक्तचाप, रुमेटी गठिया वाले तथा स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए भी इसका सेवन सुरक्षित है, हालांकि इस संबंध में उन्होंने कोई चिकित्सकीय प्रमाण नहीं दिया।
    Images courtesy: © Getty Images

    प्रमाणों की कमी
  • 8

    आयुर्वेद में मसहूर

    आयुर्वेद में सफेद मूसली को सौ से अधिक दवाओ के निर्माण में उपयोग के कारण दिव्य औषधि के नाम से जाना जाता है। यह एक सदाबहार शाकीय पौधा है। समशीतोष्ण क्षेत्र में यह प्राकृतिक रूप से पाया जाता है। विश्व बाजार में इसकी बहुत मांग बढी हुई है जो 35000 टन तक प्रतिवर्ष आँकी गई है किन्तु इसकी उपलब्धता 5000 टन प्रतिवर्ष है।
    www.youtube.com

    आयुर्वेद में मसहूर
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
    Post Your comment
    Comments
    • rajesh kumar guptaa15 Mar 2015
      it's best page for health