हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

शरीर का तापमान बढ़ने से होने वाली समस्याएं व उनका उपचार

By:Shabnam Khan , Onlymyhealth Editorial Team,Date:Mar 12, 2015
जब आपका शरीर आपके अंदर की गर्मी को निंयत्रित नहीं कर पाता या फिर जब आपका सामान्य से ऊपर बढ़ जाता है तो हीट इलनेस होने का खतरा होता है। हीट इलनेस के तीन स्तर होते हैं। डीहाईड्रेशन, हीट एक्जॉशन और हीट स्ट्रोक।
  • 1

    शरीर की गर्मी जब हो जाए अनियंत्रित

    जब आपका शरीर आपके अंदर की गर्मी को निंयत्रित नहीं कर पाता या फिर जब आपका सामान्य से ऊपर बढ़ जाता है तो हीट इलनेस होने का खतरा होता है। हीट इलनेस के तीन स्तर होते हैं। डीहाईड्रेशन, हीट एक्जॉशन और हीट स्ट्रोक।

    Image Source - Getty Images

    शरीर की गर्मी जब हो जाए अनियंत्रित
  • 2

    हीट इलनेस कैसे है खतरनाक

    हीट इलनेस के तीनों स्तर बहुत नुकसानदायक साबित हो सकते हैं। चक्कर आना, बेहोशी, उल्टी, कमजोरी जैसी समस्याओं से शुरू होकर प्रभाव के बहुत अधिक बढ़ जाने पर पीड़ित व्यक्ति की मौत भी होती है। हीट इलनेस होने पर जितना जल्दी हो सकते उपचार मिल जाना चाहिए। सही उपचार के लिए समझना जरूरी है कि हीट इलनेस की कौन सी स्टेज पर हैं। आइये जानते हैं तीनों स्टेज और उनके लक्षणों के बारे में।

    Image Source - Getty Images

    हीट इलनेस कैसे है खतरनाक
  • 3

    हीडाईड्रेशन या निर्जलीकरण

    यह हीट इलनेस की पहली स्टेज है। जब आप अपने शरीर से तरल पदार्थ के साथ आवश्यक लवण और खनिजों की महत्वपूर्ण मात्रा खो देते हैं, उसे निर्जलीकरण कहते हैं। इसे नज़रअंदाज़ न करें क्योंकि यह गंभीर भी हो सकता है। गर्मियों के दौरान, निर्जलीकरण काफी अलग होता है। वह इसलिए क्योंकि आप बढ़ते बाहरी तापमान के परिणामस्वरुप भारी मात्रा में पसीने द्वारा बहुत से तरल पदार्थ खो देते हैं जो आप पुनः प्राप्त नहीं कर पाते।

    Image Source - Getty Images

    हीडाईड्रेशन या निर्जलीकरण
  • 4

    क्या है डीहाईड्रेशन के लक्षण

    पैरों या पेट की क्रैंपिंग की जांच करें। खासतौर पर एक्सरसाइज के बाद। देखें कि क्या पसीना अधिक आ रहा है। डीहाईड्रेशन से पीड़ित व्यक्ति को बेहोशी और कमजोरी होती है। इन लक्षणों से आप पहचान सकते हैं कि किसी को डीहाईड्रेशन हो रहा है।

    Image Source - Getty Images

    क्या है डीहाईड्रेशन के लक्षण
  • 5

    हीट एक्जॉशन

    हीट एक्जॉशन (Heat exhaustion) डीहाईड्रेशन का दूसरा स्टेप है। यह हीट एक्जॉशन से ज्यादा खतरनाक होता है। हीट एक्जॉशन की पहचान करके उसका तुरंत इलाज बहुत जरूरी इसलिए होता है क्योंकि इसकी गंभीरता इतनी होती है कि इससे पीड़ित की मौत भी हो सकती है।

    Image Source - Getty Images

    हीट एक्जॉशन
  • 6

    हीट एक्जॉशन के लक्षण

    यह पता लगाने के लिए कि किसी को हीट एक्जॉशन हुआ है आप देखें कि उसकी त्वचा का रंग पीला तो नहीं पड़ रहा। उसे पसीने आ रहे हंगे और रोंगटे खड़े हो जाएंगे। साथ ही साथ, मतली, उल्टी, सिरदर्द, थकान, अधिक तेज सांस लेना और बेहोशी होने लगेगी।

    Image Source - Getty Images

    हीट एक्जॉशन के लक्षण
  • 7

    हीट स्ट्रोक

    हीट स्क्रोक हीट इलनेस की आखिरी और सबसे खतरनाक स्टेज मानी जाती है। हीट स्ट्रोक ऐसी स्थिति होती है जिसका सीधा असर रोगी के दिमाग में मौजूद तापमान को नियंत्रित करने वाली प्रणाली पर पड़ता है जिसे 'थेलेमस सिस्टम' कहते हैं। यह जानलेवा साबित हो सकता है।

    Image Source - Getty Images

    हीट स्ट्रोक
  • 8

    हीट स्ट्रोक के लक्षण

    यदि तेज धूप में काम करने से आपको चक्कर आने लगे या उल्टी-मितली जैसा लगे या आपका रक्तचाप अचानक से कम होने लगे, तेज बुखार आए जो लंबे समय तक न उतरे तो आपको हीट स्ट्रोक हुआ हो सकता है। इस स्थिति में पीड़ित को तुरंत इलाज मिलना बहुत जरूरी होता है।

    Image Source - Getty Images

    हीट स्ट्रोक के लक्षण
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर