हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

जानें कैसे एलर्जी की लोकप्रिय दवाओं से मांसपेशियां होती हैं प्रभावित

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:May 31, 2016
एलर्जी के लक्षण और सीने में जलन को दूर करने के लिए आमतौर पर जिन एलर्जी की दवाओं का आप सेवन करते हैं, वे आपकी मांसपेशियों को नुकसान पहुंचाती हैं, ऐसा क्‍यों होता है, इस स्‍लाइडशो में जानते हैं।
  • 1

    एलर्जी की दवायें और मांसपेशियां

    एलर्जी के लक्षण और सीने में जलन को दूर करने के लिए आमतौर पर जिन लोकप्रिय एलर्जी की दवाओं का आप सेवन करते हैं, वे आपकी मांसपेशियों के गठन (मसल गेन) को कम कर सकती हैं। जी हां, ओरेगन विश्वविद्यालय के एक नए अध्ययन के अनुसार ओवर काउंटर मिलने वाले एंटीहिस्टेमाइंस (antihistamines) एक्सरसाइज के आपकी मांसपेशियों के गठन को बाधित कर सकता है। चलिए विस्तार से जानें कि ऐसा क्यों और कैसे होता है। -
    Images source : © Getty Images

    एलर्जी की दवायें और मांसपेशियां
  • 2

    कैसे बढ़ती हैं मसल्स

    आमतौर पर इंटेंस एक्सरसाइज के बाद, मांसपेशियों के फाइबर में रक्त के प्रवाह को बढ़ाकर 3,000 जीन मांसपेशियों के गठन में सहायता करने के लिए काम करते हैं। इससे मांसप्शियों की मरम्मत और फाइबर को मजबूत करने वाला मांसपेशियों में होने वाला प्रोटीन संश्लेषण बढ़ जाता है। जिससे अलगी बार वजन उठाने पर मांसपेशियां अधिक प्रतिरोधी बनती हैं। और समय के साथ, यह प्रक्रिया आपकी मांसपेशियों को बड़ा और मजबूत बनाती है।
    Images source : © Getty Images

    कैसे बढ़ती हैं मसल्स
  • 3

    शोध से आए यह परिणाम

    60 मिनट के स्ट्रेंथ ट्रेनिक वर्कआउट से पहले प्रतिभागियों ने दो एंटीहिस्टेमाइंस की मजबूत खुराक लीं, पहली फेक्सोफेनडाइन (fexofenadine), जैसे एलिग्रा (Allegra) जो कि बुखार के लक्षणों को दूर करती है, और दूसरी रेंटीडीन (जैंनटैक, जो हार्टबर्न को ठीक करती है)। प्रतिभागियों के वर्कआउट पूरा कर लेने के बाद, मांसपेशियों के गठन को मापने के लिए शोधकर्ताओं ने उनकी मांसपेशियों का परीक्षण किया। परिणामों में पाया गया कि एंटीहिस्टेमाइन ने वर्कआउट के बाद होने वाले मांसपेशियों के गठन की प्रक्रिया को 27 प्रतिशत तक कम कर दिया।
    Images source : © Getty Images

    शोध से आए यह परिणाम
  • 4

    जानें ऐसा क्यों होता है

    एंटीहिस्टेमाइन, हिस्टामिन (histamine) को रोकता है, जोकि प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा निकाला गया रासायन होता है और नाक बहने, खुजली, सांस लेने में कठिनाई, यहां तक कि पेट में अतिरिक्त अम्ल (जोकि अपच पैदा करता है) बनाने का कारण बनता है। ये आपकी एलर्जी या अपच के संदर्भ में तो अच्छी खबर हो सकती है, लेकिन आपकी मांसपेशियों के लिए यह एक बुरी चीज़ है। अध्ययन के लेखक जॉन आर हल्लीविल्ल के अनुसार, ऐसा इसलिए क्योंकि हिस्टामिन एक्सरसाइज के बाद होने वाले मांसपेशियों के गठन में एक अहम भूमिका निभाता है। बकौल जॉन विशेष रूप से, हिस्टामिन मांसपेशियों के लिए प्रतिरक्षा कोशिकाओं की उत्पत्ति में मदद करता है, जोकि नुकसान की मरम्मत में मददगार होती हैं।
    Images source : © Getty Images

    जानें ऐसा क्यों होता है
  • 5

    लेकिन ज्यादा चिंतित होने की ज़रूरत भी नहीं

    हल्लीविल्ल के अनुसार अध्ययन में एक साथ एंटीहिस्टेमाइन के दो प्रकारों की उच्च खुराक का इस्तेमाल किया। हालांकि, ज्यादातर लोग केवल एक ही दवा लेते हैं, जोकि अध्ययन के प्रतिभागियों द्वारा ली गई खीराक का आधा या एक तिहाई होता है। तो यदि आप थोड़े समय के लिए एंटीहिस्टेमाइन की बताई गई खुराक ले रहे हैं, उदाहरण के लिए बुखार या हार्टबर्न दूर करने के लिए कुछ दिनों तक, तो आपको मसल गेन को लेकर चिंता करने की जरूरत नहीं है। हल्लीविल्ल के मुताबिक अभी भी एंटीहिस्टेमाइन का मसल रिकवरी पर प्रभाव को लेकर और शोध किए जाने की जरूरत है, यहां तक कि इसकी सामान्य खुराक लेने के बाद भी। लेकिन अगर आप वाकई इस संबंध में चिंतित हैं तो कोई भी निर्णय लेने से पहले आपको अपने चिकित्सक या एक एलर्जी विशेषज्ञ से बात इस संबंध में बात करनी चाहिए।
    Images source : © Getty Images

    लेकिन ज्यादा चिंतित होने की ज़रूरत भी नहीं
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर