हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

छींकने से जुड़ी इन 6 बातों से अनजान हैं आप

By:Gayatree Verma , Onlymyhealth Editorial Team,Date:May 18, 2016
छींक केवल सर्दी या जुकाम के वक्त नहीं आती। छींक कई बार धूप में निकलने या सेक्स के बाद भी होती है। चौंकने की जरूरत नहीं है। ये सच है। छींक से जुड़ी ऐसी अन्य चीजों को जानने के लिए पढ़ें ये स्लाइडशो।
  • 1

    छींक से जुड़ी अनजानी बातें

    सामान्य तौर पर छींक सर्दी-जुकाम में आती है या किसी एलर्जी की वजह से आती है। लेकिन कई बार छींक अजीब सी स्थितियों में भी आ जाती है। जैसे धूप में निकलने से या सेक्स के बाद भी छींक आती हैं। छींक से जुड़े ऐसे ही अनजाने रोचक तथ्यों के बारे में इस स्लाइडशो में विस्तार से पढ़ें। इन तथ्यों को पढ़ने के बाद आप जरूर चौंकेंगे औऱ इन पर शक भी करेंगे। लेकिन ये सारे तथ्यों की पुष्टि कई शोधों में हो चुकी है।

    छींक से जुड़ी अनजानी बातें
  • 2

    सेक्स के बाद छींक

    इसे पढ़कर आप भले ही चौंक रहे होंगे लेकिन ये सच है। सेक्स करन के बाद कई लोगों को छींक आती हैं। इस पर कई शोध भी हुए हैं और इसकी पुष्टि कई शोध में हो चुकी है। सेक्स के बाद आने वाली छींक पर हुए शोध के अनुसार सेक्स के दौरान पैरासिंपेथेटिक ‌नर्वस सिस्टम सक्रिय हो जाता है जिसकी वजह से सेक्स के बाद कई लोगों को छींक आती है।

    सेक्स के बाद छींक
  • 3

    आइब्रो बनवाने के दौरान

    कई लोगों को आइब्रो बनवाने के दौरान भी छींक आती है। आईब्रो को शेप देने के दौरान जब आइब्रो के बाल निकाले जाते हैं तो कई लोगों को छींक आ जाती है। ऐसा होना बिल्कुल लाज़िमी है। दरअसल, आइब्रो के ठीक नीचे जो नस होती है वो श्वास नली से जुड़ी होती हैं। ऐसे में आइब्रो बनाने के दौरान जब इस नस पर किसी भी प्रकार की गतिविधी होती है तो छींक आती है।

    आइब्रो बनवाने के दौरान
  • 4

    नींद में नहीं आती छींक

    नींद में कभी भी छींक नहीं आती। अगर कोई इंसान सो रहा है और वो छींक देता है तो समझ जाइए कि वो सोने का नाटक कर रहा है। दरअसल सोने के दौरान शरीर के साथ छींक से जुड़ी नसों को भी आराम मिलता है जिस कारण कभी भी सोने के समय कभी भी छींक नहीं आती है। या फिर ऐसे कह सकते हैं कि सोने के वक्त छींकना नामुमकिन है।

    नींद में नहीं आती छींक
  • 5

    धूप में आती है छींक

    सामान्य तौर पर छींक की वजह सर्दी-जुकाम को माना जाता है। लेकिन कई बार धूप की वजह से भी छींक आती है। कुछ शोधों के अनुसार तेज धूप के कारण छींक की नसें सक्रिय हो जाती हैं जिससे बिना मौसम के धूप में खड़े रहने या चलते वक्त भी छींक आ जाती है।

    धूप में आती है छींक
  • 6

    नसों से संबंध

    अगर आपके नाक में कुछ फंस जाता है तो भी छींक आ जाती है। दरअसल छींकने का संबंध दिमाग की उन नसों से होता है जो दिमाग को संकेत देता है कि नाक में कुछ फंस गया है औऱ उसे छींक के द्वारा तुरंत बाहर निकालो। और इस संकेत के तुरंत बाद ही छींक आती है। कई शोधों के अनुसार कई छींकों में अंतर होता है और सभी प्रकार की छींक के पीछे दिमाग के अलग-अलग तरह के सिग्नल जिम्मेदार होते हैं।

    नसों से संबंध
  • 7

    छींक बढ़ाती है प्रतिरोधी क्षमता

    छींक इम्युन सिस्टम को मजबूत कर प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है। कई शोधों में इस बात की पुष्टि की गई है कि छींकने से शरीर के हानिकारक कीटाणु  बाहर निकल जाते हैं जिससे इम्युन सिस्टम मजबूत बनता है औऱ इन हानिकारक कीटाणुओं से बच जाता है। हेल्दी लाइफ के लिए छींक का आना बहुत जरूरी है।

    छींक बढ़ाती है प्रतिरोधी क्षमता
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर