हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

बेहतर सेक्स जीवन के लिए 10 योगासन

By: ओन्लीमाईहैल्थ लेखक, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jan 17, 2014
योग के जरिये आप परिस्थितियों पर एकाग्रता हासिल कर सकते हैं। और यह सेक्‍स लाइफ को भी बेहतर बना सकता है। आइए जानते हैं ऐसे कौन से आसन हैं जो आपकी सेक्‍स लाइफ को बेहतर बनाने का काम कर सकते हैं-
  • 1

    योग और सेक्‍स लाइफ

    योग बना है शांति के लिए है। मानसिक और शारीरिक दोनों प्रकार की शांति। योग तनाव से तो मुक्ति दिलाता ही है साथ ही शरीर में लचीलापन और रक्‍त संचार भी बढ़ाता है। जिससे आपका तन-मन खुल जाता है। अच्‍छे सेक्‍स के लिए भी इन सब चीजों का होना जरूरी है। इसके साथ ही योग हमें एकाग्रचित होकर उस पल में जीना सिखाता है।

    योग और सेक्‍स लाइफ
  • 2

    विज्ञान की मुहर

    सेक्‍सुअल मेडिकल स्‍टडी के जर्नल में शोधकर्ताओं ने बताया कि अधिकतर महिलाओं ने एकाग्रता की कमी की शिकायत की। इसे सेक्‍स में अरुचि और भावनात्‍मक लगाव की कमी से भी जोड़कर देखा जा सकता है। योग के जरिये आप परिस्थितियों पर एकाग्रता हासिल कर सकते हैं। और यह सेक्‍स लाइफ को भी बेहतर बना सकता है। आइए जानते हैं ऐसे कौन से आसन हैं जो आपकी सेक्‍स लाइफ को बेहतर बनाने का काम कर सकते हैं-

    विज्ञान की मुहर
  • 3

    उपाविस्‍था कोणासन (वाइड-लेग्‍गड स्‍ट्राडल पोज)

    सेक्‍स इच्‍छा की कमी को दूर करने का यह कारगर आसन है। यह पेल्विक एरिया में रक्‍त-संचार बढ़ाने में मदद करता है। रक्‍त-संचार बढ़ने से जनांनागों में ऊर्जा का स्‍तर बढ़ जाता है। शोध इस बात को साबित कर चुके हैं श्रोणिक क्षेत्र में रक्‍त-संचार का संबंध कामोत्तेजना से होता है। रक्‍त संचार अधिक होने से आप सेक्‍स का लंबे समय तक आनंद उठा पाएंगे।

    उपाविस्‍था कोणासन (वाइड-लेग्‍गड स्‍ट्राडल पोज)
  • 4

    स्‍वावलंब सर्वांगासन (शोल्‍डर स्‍टैंड)

    आपके शरीर के निचले हिस्‍से में रक्‍त-संचार कम होने का अंदेशा अधिक होता है। यह गुरुत्‍वाकर्षण की गति‍शीलता के कारण भी हो सकता है। शरीर के निचले अंगों से रक्‍त को वापस हृदय की ओर भेजना, आसान काम नहीं। इस समस्‍या को आप अपने शरीर को उल्‍टा करके इस समस्‍या को हल कर सकते हैं। इससे आपका चित्त शांत रहेगा, थकान दूर होगी और पाचन क्रिया बेहतर होगी।

    स्‍वावलंब सर्वांगासन (शोल्‍डर स्‍टैंड)
  • 5

    बालासन (चाइल्‍ड पोज)

    महिलायें अधिकतर एक ही समय में कई चीजों पर ध्‍यान केंद्रित करने का प्रयास करती हैं। व्‍यस्‍त मस्तिष्‍क को शांत होने में परेशानी होती है। इस आसा से आप एकाग्रता और शांति ह‍ासिल कर सकते हैं। एक पल पर ध्‍यान केंद्रित करने की कला सीखकर आप अपने सेक्‍स अनुभव को बेहतर बना सकते हैं। बालासन काफी सुखदायक हो सकता है।

    बालासन (चाइल्‍ड पोज)
  • 6

    उत्‍थान प्रिस्‍थासन (लिजार्ड पोज)

    कूल्‍हों में लचीलापन बढ़ाने के लिए लिजार्ड पोज काफी मदद करता है। यह चित्त शांत रखता है। इस पोजीशन के दौरान लंबी और गहरी सांसें लें। जब आप अपनी सांसों पर एकाग्रता हासिल करना सीख जाते हैं, तो आपको एकाग्रचित्त हो जाते हैं। इससे आपको अपने सेक्‍स सेशन को लंबा चलाने में मदद मिलती है।

    उत्‍थान प्रिस्‍थासन (लिजार्ड पोज)
  • 7

    सुप्‍त बुद्धासन (गॉडस पोज)

    पीएमएस और मेनेपॉज के लक्षणों को कम करने में यह पोज काफी मदद करता है। ये दोनों सेक्‍स इच्‍छा में कमी के बड़े कारण माने जाते हैं। यह आसन जनांनगों की क्षमता बढ़ाने में मदद करता है। यह आसन आपको सेक्‍स के दौरान अधिक बेहतर ढंग से संलिप्‍त होने की शक्ति देता है।

    सुप्‍त बुद्धासन (गॉडस पोज)
  • 8

    एका पदा रजाक्‍पोतासन (पिजन पोज)

    कूल्‍हों कें तनाव कम करने में यह आसन काफी मदद करता है। महिलाओं को आमतौर पर शरीर के इसी हिस्‍से में तनाव महसूस होता है। यह आसन तनाव को दूर कर शरीर को लचीला बनाने में मदद करता है। यह आसन सांसों पर ध्‍यान केंद्रित करने पर जोर देता है। इस आसन को गहरी सांसों के साथ दस बार दोहरायें।

    एका पदा रजाक्‍पोतासन (पिजन पोज)
  • 9

    अधोमुख स्‍वांगासन (डाउनवर्ड डॉग)

    यह आसन शरीर और मन को मजबूत करता है, जो अच्‍छे सेक्‍स के लिए बहुत जरूरी है। इस आसन को करते ही आप तनावमुक्‍त हो जाते हैं। इस आसन के दौरान आपके कूल्‍हे हवा में रहते हैं, जो सेक्‍स की 'डॉगी पोजीशन' की ओर इंगित करते हैं।

    अधोमुख स्‍वांगासन (डाउनवर्ड डॉग)
  • 10

    गरुड़ासन (ईगल पोज)

    यह आसन कामासूत्र से लिया गया है। इसमें एक टांग को दूसरी टांग से रस्‍सी की तरह लपेटना होता है, जैसे ही आप इस आसन से बाहर आते हैं, सारा रक्‍त ग्रीवा की ओर जाता है, इससे उस क्षेत्र को काफी फायदा होता है। हालांकि यह आसन देखने में मुश्किल लग सकता है, लेकिन अभ्‍यास के बाद आप इसमें परांगत हो सकते हैं।

    गरुड़ासन (ईगल पोज)
  • 11

    सेतुबंध आसन (ब्रिज पोज)

    कीगल एक्‍सरसाइज पेल्‍विक मांसपेशियों को ताकत देने और मूत्र असंयम को रोकने में मदद करने के लिए तैयार की गयी हैं। यह बात साबित हो चुकी है कि कीगल से महिलाओं को सेक्‍स का बेहतर आनंद उठाने में लाभ मिलता है। यह आसन कीगल व्‍यायाम करने की तरह ही लाभदायक होता है क्‍योंकि दोनों में लगभग एक ही प्रकार की मांसपेशियों को शक्ति दी जाती है।

    सेतुबंध आसन (ब्रिज पोज)
  • 12

    हंसासन (प्‍लो पोज)

    यह आसन आपको जवां बनाये रखने में मदद करता है। यह आसन मस्तिष्‍क में रक्‍त-संचार बढ़ाता है, जिससे आप पहले से बेहतर ढंग से काम कर पाते हैं। इस आसन में अपने सिर और टांगों को पोजीशन में लाकर आप अपने कूल्‍हों को देखते हैं, यह अवचेतन रूप से काम को बढ़ाने वाला हो सकता है।

    हंसासन (प्‍लो पोज)
Load More
X