हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

दस औषधियां जो चाय में मिलायें और पायें सेहत का नजराना

By:Pooja Sinha, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Feb 20, 2014
चलिये आज हम कुछ ऐसी चाय के बारे में जानते हैं, जो सेहत के लिए तो फायदेमंद हैं ही साथ ही उनका स्‍वाद भी जरा हटकर होता है।
  • 1

    हर्बल टी यानी सेहत की चुस्‍की

    बीमार हों या आराम के मूड में हों चाय हमेशा से हिन्‍दुस्‍तानियों की पसंद रही है। दोनों हाथों में चाया का प्‍याला थामकर इसके घूंट भरना जो राहत देता है उसे बयां करना मुश्किल है। तो, चलिये आज हम कुछ ऐसी चाय के बारे में जानते हैं, जो सेहत के लिए तो फायदेमंद हैं ही साथ ही उनका स्‍वाद भी जरा हटकर होता है।

    हर्बल टी यानी सेहत की चुस्‍की
  • 2

    तुलसी

    तुलसी एक स्‍वास्‍‍थ्‍य जड़ी बूटी है। तुलसी की हरी, श्याम पत्तियां अपने अंदर खूब सारे विटामिन, मिनरल और एंटीऑक्सीडेंट समेटे हुई होती हैं। तुलसी की मीठी चाय सर्दी और खांसी के इलाज, स्मृति शक्ति बढ़ाने, तनाव से राहत देने, प्राकृतिक प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने और ऊर्जा में वृद्धि करने में मदद करती है। एक कप तुलसी की चाय पीने से दिन भर की विटामिन-के की जरूरत पूरी हो जाती है।

    तुलसी
  • 3

    पुदीना

    पुदीने को स्‍वास्‍थ्‍य के लिए वरदान माना जाता है। एंटीबॉयोटिक से भरपूर पुदीना पुराना और लोकप्रिय हर्ब है। चाय में इसका फ्लेवर और ठंडी तासीर सेहत के लिए बहुत लाभदायक होती है। पुदीना स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को दूर करने में बेहद कारगर है। एसिडिटी, गैस और बदहजमी में इसका इस्तेमाल करने से पेट को ठंडक मिलती है। इसकी बनी चाय पीने से तन-मन में स्‍फूर्ति आ जाती है। साथ ही यह आंतों को राहत, पेट को साफ, त्वचा संबंधी समस्या जैसे एक्ने और त्वचा में खुजली और जलन जैसी समस्याओं में राहत देती है।

    पुदीना
  • 4

    अदरक

    अदरक की चाय बहुत ही फायदेमंद होती है। प्रतिदिन एक कप अदरक की चाय पीने से शरीर की प्रतिरोधी क्षमता बढ़ जाती है और शरीर को विभिन्न प्रकार के संक्रमणों से दूर रहता है। अदरक में एंटीबायोटिक और एंटीऑक्‍सीडेंट भरपूर मात्रा में होते हैं। जो स्‍वास्‍थ्‍य के लिये फायदेमंद माने जाते है। अदरक वाली चाय पीने से पेट की समस्‍याएं ठीक होती है और दिमाग तेज बनता है। अदरक वाली चाय पीने से श्वसन संबंधी समस्याओं से लड़ने में भी मदद मिल सकती है और यह रक्तचाप को भी सामान्य बनाने में मदद कर सकती है।

    अदरक
  • 5

    लेमनग्रास

    लेमनग्रास अपने खास गुणों जैसे एंटीऑक्सीडेंट, जीवाणुरोधी प्रवृत्ति के लिए जानी जाती है। इसमें अनाल्जेसिक गुण होते हैं, इसलिए यह विभिन्न प्रकार के दर्द में भी लाभकारी है। लेमनग्रास निर्मित हरी चाय में कई रोगों से लड़ने की क्षमता होती है। यह शरीर से विषाक्त पदार्थो को नष्ट करता है और शरीर को स्वच्छ करने में मदद करता है। सामान्य खांसी, जुकाम और थकावट के लिए यह एक असरकारक औषधि है। साथ ही यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है व तनाव से निपटने में सक्षम बनाती है।

    लेमनग्रास
  • 6

    दालचीनी

    दालचीनी एक बेहतरीन एंटी-ऑक्सीडेंट है। इसका प्रयोग एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल के रूप में किया जाता है। यह मैग्नीज, फाइबर, आयरन और कैल्शियम का भी बेहतरीन स्रोत है। इन गुणों के कारण दालचीनी का सेवन आपको विभिन्न प्रकार की स्वास्थ संबंधी समस्याओं से बचाता हैं। रोजाना दालचीनी और शहद से बनी चाय का सेवन करने से शरीर को रोगों से लड़ने की शक्ति और ऊर्जा मिलती है। चाय को पीने से शरीर की अत्‍यधिक कैलोरीज बर्न होती है जिससे आपको मोटापा नहीं घेरता। इसके अलावा इसकी चाय से शरीर के मेटाबॉलिज्‍म भी बढाता है जिससे आप बीमारियों से बचे रहते हैं।

    दालचीनी
  • 7

    गुलाब

    गुलाब की चाय ताजे और सूखे गुलाब की पंखुड़ियों से बनाई जाती है। इससे बनी चाय शरीर करने से शरीर पर सकारात्‍मक प्रभाव पड़ता है। गुलाब की चाय में विटामिन ए, बी-3, सी, डी और ई होता है जो विभिन्‍न प्रकार के संक्रमण से लड़ने में मदद करता हैं। इसके सेवन से शरीर में जमा अतिरिक्त टॉक्सिन निकल जाते है। साथ ही यह कब्‍ज को रोकने और वजन घटाने में भी मदद करती हैं।

    गुलाब
  • 8

    रोजमेरी

    रोजमेरी से बनी चाय भी स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत फायदेमंद होती हैं। रोजमरी बाजार में आसानी से उपलब्ध होने वाला हर्ब है। इसकी पत्तियों से आने वाली तेज खुशबु आपके मूड को अच्‍छा करने में मदद करती है। एक रिसर्च के अनुसार, रोजमेरी की पत्तियों में एंटीआक्‍सीडेंट, एंटीफंगल, एंटी‍बैक्‍टीरियल गुण मौजूद होते हैं। इसकी पत्तियों से बनी चाय को पीने से तंत्रिका संबंधी विकार और सिरदर्द से राहत मिलती हैं। साथ ही यह दिमाग को तेज करने, एनर्जी को बढ़ाने और मूड का अच्‍छा करने में काफी मदद करता हैं।

    रोजमेरी
  • 9

    अजवायन के फूल

    अजवायन के फूल का एक खुशबूदार मसाले के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। अजवायन के फूल में विटामिन सी, ए, आयरन, मैंगनीज़, कैल्शियम और फाइबर भरपूर मात्रा में होता है। साथ ही यह इसमें एंटीऑक्सीडेंट, एंटीसेप्टिक, रोगाणुरोधक, सूक्ष्मजीव निवारक गुण पाये जाते हैं। अजवायन के फूल के खांसी से छुटकारा पाने की महान जड़ी बूटी है। कई वर्षों से इसका इस्‍तेमाल खांसी और जुकाम के लिए किया जाता है। साथ ही अजवायन के फूल से बनी चाय रक्त शर्करा, उच्च रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल की समस्याओं से बचाती है।

    अजवायन के फूल
  • 10

    सौंफ

    प्रोटीन, वसा, फाइबर से भरपूर प्राकृतिक मीठे स्वाद और आकर्षक खुशबू वाली सौंफ से बनी हर्बल चाय सांस की बीमारियों के इलाज के लिए और पेट और पाचन समस्याओं को दूर करने में सहायक होती है। सौंफ से बनी चाय पीने से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कार्य में सुधार होता है, आंख संबधी विकृतियां दूर होती हैं। सौंफ की चाय कैंसर में उपयोगी होती है और गठिया में सूजन को कम करने में मदद करती है। इसके अलावा सौंफ की चाय से कब्ज और उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद मिलती हैं।

    सौंफ
  • 11

    इलायची

    इलायची में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट में स्‍वास्थ्य को बढ़ावा देने के गुण है। इसके अलावा इलायची में नियासिन और विटामिन सी सहित कई महत्वपूर्ण विटामिन पाए जाते हैं जो स्वास्थ्य के लिए आवश्यक हैं। इलायची में एक बहुत ही आकर्षक गंध होती है जो तंत्रिकाओं को शांत करती है। जब कोई व्यक्ति उदास होता है, तो इलायची की चाय पीने से चमत्कारी प्रभाव हो सकता है। इलायची में मौजूद एंटीआक्सीडेंट के कारण इससे रोगप्रतिरोधक क्षमता तो बढ़ती ही है, साथ ही चेहरे पर जल्दी झुर्रियां नहीं पड़तीं। इलायची वाली चाय पीने से चाय के गुण कई गुना बढ़ जाते है।

    इलायची
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर