टाइप1 डायबिटीज में फायदेमंद है ग्रीन टी का सेवन

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 04, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • ग्रीन टी में एंटीआक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में होते है।
  • शरीर में ग्‍लूकोज की मात्रा को नियंत्रित करती है।
  • ग्रीन टी खून की धमनियों को आराम पहुंचाता है।
  • कैफेन की मात्रा कॉफी के मुकाबले ज्‍यादा होती है।

टाइप 1 डाइबिटीज के रोगियों के लिए ग्रीन टी बहुत फायदेमंद होती है क्‍योंकि ग्रीन टी में एंटीआक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में पाये जाते हैं। जो शरीर को स्‍वस्‍थ रखने में मददगार होते हैं। आइए विस्‍तार से जानें ग्रीन टी टाइप1 डायबिटीज में कैसे फायदेमंद होती है।

diabetic in hindi

ब्‍लड शुगर को नियंत्रित करना

ग्रीन टी शरीर में ग्‍लूकोज की मात्रा को नियंत्रित करती है,और इन्‍सुलिन दवा के हानिकारक प्रभावो को कम करने में भी मदद करती है । यूनिवर्सिटी ऑफ मेरिलैंड मेडिकल सेंटर के अनुसार ग्रीन टी शरीर में ना सिर्फ टाइप 1 डाइबिटीज़ को कम करता है बल्कि इसके बुरे प्रभाव को भी कम करता है।

हाइपरटेंशन को कम करना

2004 में चीन में किए गए एक शोध के अनुसार एक दिन में एक कप ग्रीन टी पीने से 50 प्रतिशत तक हाई ब्‍लड प्रेशर में कमी आती हैं,ग्रीन टी खून की धमनियों को आराम पहुंचाता है, जिससे हाइ ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या में आराम मिलता हैं।

कोलेस्‍ट्रॉल को कम करना

जो लोग रोज ग्रीन टी का सेवन करते है उनमें कोलेस्‍ट्रॉल की मात्रा कम होती है उन लोगों के मुकाबले जो ग्रीन टी नहीं लेते इसलिए क्‍योंकि उनका मानना है कि उसमें मौजूद पॉलिफेनल से कोलेस्‍ट्रॉल बढ़ता है।.

green tea in hindi

ग्रीन टी लेने के तरीके

रोज कम से कम आधा कप ग्रीन टी पीने से टाइप 1 डाइबिटीज की बीमारी से आराम मिलता हैं,एक साल तक नियमित इसका सेवन करने से ज्‍यादा से ज्‍यादा शारीरिक लाभ मिलेगा, ग्रीन टी ना पीने वालों को हाइपरटेंशन के खतरों ज्‍यादा की आशंका रहती है,रोज ग्रीन टी पीने से डाइबिटीज एवं हाइपरटेंशन न में आराम मिलता है।

 

ग्रीन टी में होते हैं एक्‍टिव एजेन्‍ट

ग्रीन टी में मौजूद एक्‍टिव एजेन्‍ट जैसे केटेचीन,इजीसीजी,इन्‍सुलिन की मात्रा को बढ़ाने में मदद करती है,साथ ही यह एंटीऑक्‍सीडेंट के रूप में भी कार्य करता है।


चेतावनी

ग्रीन टी में कैफेन की मात्रा कॉफी के मुकाबले ज्‍यादा होती है,ज्‍यादा ग्रीन टी पीने से यह इससे मिलने वाले लाभ को कम करता है,जैसे- हाइपरटेशन इत्‍यादि, कई बार डाइबिटीज़ के प्रभावों को बढ़ाता है। कोशिश करें कि टी की सही मात्रा लें ताकि आपको इसका लाभ मिल सके और आप ओवरियन कैंसर, हेपेटाइटिस एवं अन्‍य शारीरिक समस्‍याओं के खतरों से बच सके।

 

Image Source : Getty

Read More Articles On- Diabetes in hindi

 

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES92 Votes 21873 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • Nachiketa03 May 2012

    nice.....

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर