क्‍या आपकी चाय है जहरीली

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 12, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

pestisides in tea कितने ही लोग ऐसे होंगे जिनकी नींद चाय की चुस्कियों के बिना नहीं खुलती। लेकिन, इस खबर को पढ़ने के बाद शायद वे अब चाय पीने से पहले दो बार जरूर सोचेंगे।

 

गैर सरकारी पर्यावरणीय संस्‍था ग्रीन पीस के अध्‍ययन में यह बात सामने आयी है। इसमें कहा गया है कि भारत में बेची जाने वाले प्रमुख चाय ब्रांड में जहरीले कीटनाशक होते हैं। इसमें डीडीटी जैसा खतरनाक जहरीला तत्व भी शामिल है।

संस्‍था ने दावा किया कि उनकी ओर से पिछले एक साल में भारत के कई शहरों में बेची जाने वाली चाय की पत्तियों की गुणवत्ता के लिए अध्ययन किया गया। इसमें कई नामी गिरामी चाय कं‍पनियों के ब्रांड में कीटनाशकों के अवयव पाये गए। 49 नमूनों में से 34 में कीटनाशकों के अवशेष मिले। इनमें से 29 (लगभग 59 प्रतिशत) में तो 10 से भी ज्यादा अलग-अलग तरह के कीटनाशकों का मिश्रण पाया गया।


इन 29 नमूनों में कम से कम एक कीटनाशक के अवशेष की उपस्थिति, यूरोपीय संघ द्वारा निर्धारित अधिकतम सीमा से भी ज्यादा है। इस अध्ययन के लिए दिल्ली, कोलकाता, बंगलौर और मुंबई जैसे शहरों के दुकानदारों से जून 2013 से मई 2014 के बीच सैंपल जमा किये गए।



हालांकि भारतीय चाय बोर्ड ने ग्रीनपीस की रिपोर्ट को खारिज कर दिया है। बोर्ड का कहना है कि भारत की चाय की पत्ती पूरी तरह सुरक्षित है और उसे कड़े परीक्षणों से गुजारने के बाद ही बेचा जाता है।

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES3 Votes 683 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर