गर्भवती होने का झूठा एहसास हो सकता है गर्भावस्‍था भ्रम

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 26, 2012
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • गर्भावस्‍था भ्रम में महिला को गर्भवती होने का एहसास होता है।
  • चिकित्‍सकीय भाषा में इसे प्सयूटोएसिस कहते है,  जो मनोरोग है।
  • माहवारी की रुकावट, पेट में सूजन, मतली आदि हैं इसके लक्षण।
  • इस प्रकार के लक्षण कुछ हफ्तों या महीनों के लिए हो सकते हैं।

गर्भावस्‍था माता पिता के लिए रोमांचक समय होता है। हर माता-पिता की अपने आने वाले बच्‍चें को लेकर कुछ इच्‍छाएं होती है। लेकिन गर्भावस्था का अंत हमेशा प्रत्याशित बच्चे के साथ नहीं होता है।

गर्भावस्‍था भ्रमकई मामलों में, तो ऐसा होता है कि एक स्‍त्री को यह लगता है कि वह गर्भवती है, और उसके सभी लक्षण भी  गर्भावस्था में होने वाले लक्षणों की तरह होते है लेकिन वह गर्भवती नही होती है। इन सभी लक्षणों का कारण पूरी तरह से कुछ और ही होता है। इसे हम गर्भावस्‍था भ्रम कहते है।

 

गर्भावस्था भ्रम के कारण

गर्भावस्था भ्रम को, चिकित्सकीय भाषा में प्सयूटोएसिस भी कहते है, इसमें विश्वास होता है कि आप गर्भवती होने की उम्मीद कर रहे हैं पर आप वास्तव में गर्भवती होती नहीं। प्सयूटोएसिस की जड़ पूरी तरह से मनोवैज्ञानिक होती है। इस समस्या का सही कारण अभी तक समझ में नही आ रहा है, पर डॉक्टरों को संदेह है कि जब शरीर मानता है कि वह गर्भवती है तो उससे संबंधित लक्षण दिखने शुरू हो जाते है। या फिर जब एक स्‍त्री के अन्‍दर गर्भवती होने की तीव्र इच्‍छा होती है, तो उसे गर्भावस्‍था के वास्‍तविक लक्षण जैसे बढ़े हुए स्तन, बड़ा हुआ पेट, जी मिचलाना और यहॉ तक की उसको भ्रूण के हिलने की भावना भी होने लगती है। केवल महिला के मस्तिष्क में इस तरह की भावना दबाव डालने लगती है की वह गर्भवती है। इस का परिणाम यह होता है कि हार्मोन के उत्पादन में एस्ट्रोजन और प्रोलैक्टिन भी शरीर में विघमान होते है। इसका परिणाम यह होता है कि कुछ और अधिक उज्ज्वल गर्भावस्था के लक्षण विकसित होने लगते है।

 

गर्भावस्था भ्रम के लक्षण

प्सयूटोएसिस के साथ महिलाओं को और जो वास्तव में गर्भवती हैं, के कई लक्षण एक से ही होते है जैसे-

  • माहवारी की रुकावट
  • पेट में सूजन 
  • बढ़े हुए स्तर
  • भ्रूण में मूवमेंट 
  • मतली और उल्टी
  • बढ़ा हुआ वजन


यह लक्षण बस कुछ ही हफ्तों के लिए या नौ महीनों के लिए भी हो सकते हैं। गर्भावस्था भ्रम के साथ गर्भवती का बहुत छोटा प्रतिशत चिकित्सक के कार्यालय या अस्पताल में प्रसव पीड़ा जैसा अनुभव होने पर जाती है।

 

गर्भावस्था भ्रम के लिए टेस्ट

यह निर्धारित करने के लिए कि क्या सही में एक स्‍त्री गर्भावस्था भ्रम का सामना कर रही है, डॉक्टर आमतौर उसके लक्षणों का मूल्यांकन करता है। साथ ही वह एक पैल्विक टेस्‍ट और पेट का अल्ट्रासाउंड करता है जैसे कि वह सामान्य गर्भावस्था के दौरान परीक्षण करते है।

अगर यह गर्भावस्था के भ्रम का मामला होता है तो इसमें अल्ट्रासाउंड के दौरान कोई बच्‍चा दिखाई नही देता, और न ही किसी की दिल की धड़कन सुनाई देती है। कभी-कभी एक बढ़े हुए गर्भाशय और नरम गर्भाशय ग्रीवा के रूप में डॉक्टर को कुछ शारीरिक परिवर्तन दिखाई देते है जो कि गर्भावस्था के दौरान होते है। इन मामलों में गर्भावस्‍था के लिए किया गया मूत्र परीक्षण हमेशा नकारात्मक होता है।

गर्भावस्था भ्रम का इलाज

कई महीनों की अवधि तक जब कोई स्‍त्री यह मानने लगती है कि वह गर्भवती है और विशेष रूप से, यह जानने के बाद की वह गर्भवती नही है यह बात उसको बहुत परेशान और अन्‍दर तक झंझोंर कर रख देती है। डॉक्टरों को चाहिए कि यह बात उसको बहुत आराम से बताए उसकी हालत को देखकर, और चिकित्सा सहित मनोवैज्ञानिक समर्थन प्रदान कराए जो उसे इस निराशा से उबरने में मदद कर सकें।

 

Read More Article on Garbhavastha-Test in hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES70 Votes 54025 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर