पीसीओएस की समस्या से परेशान महिलाओं के लिए खुशखबरी! मिल गया इसका उपचार

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 24, 2016
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

किशोरावस्था की दहलीज पर पहुंचते ही लड़कियों कई तरह के शारीरिक बदलावों से गुजरना पड़ता है।  इसमें से एक है पोलीसिस्टिक ओविरियन सिन्ड्रोम यानी पीसीओएस की समस्या। आमतौर पर यह समस्या महिलाओं को प्रजनन की उम्र से लेकर मेनोपॉज तक प्रभावित करती है। अनचाहे बाल, लगातार बढ़ता वजन और अनियमित पीरियड्स आदि इसी बीमारी के लक्षण होते हैं, इसलिए इनकी अनदेखी नहीं करनी चाहिए। हांलाकि चीन में इस बीमारी के उपचार की खोज हुई है।
Meditation in hindi
चाइनीज एकेडमी ऑफ साइंसेस के अंतर्गत इंस्टीट्यट ऑफ जूलॉजी से वांझू जिन और शेनदोंग युनिवर्सिटी से झिजियांग चेन ने संयुक्त रूप से इस खोज को किया है। उनका कहना है कि उन्होंने पॉलीसिस्टक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) से पीड़ित महिलाओं के लिए एक महत्वपूर्ण उपचार की खोज की है। पीसीओएस से महिलाओं में हार्मोन का स्तर, अवधि, और ओव्यूलेशन प्रभावित होता है। यह प्रजनन और गर्भावस्था को भी प्रभावित करता है।

ब्राउन एडिपोस टिश्यू (बैट) उन दो प्रकार के वसा में शामिल है, जो मानवों और अन्य स्तनधारी जानवरों में पाया जाता है। शोधार्थियों ने जब पीसीओएस पीड़ित चूहों में इस वसा को स्थापित किया तो उन चूहों की मासिक अस्थिरता, अंडोत्सर्ग और गर्भावस्था परिणामों में सुधार पाया गया।

इस शोध ने पीसीओएस रोगियों के उपचार में नया और महत्वपूर्ण संकेत दिया है। हालांकि बैट ट्रांस्पलांटेशन अपने आप में बहुत जटिल है। यह मानवों में आसानी से विस्थापित नहीं होता। नतीजन बैट सक्रियता बढ़ाने के लिए दवाइयों का इस्तेमाल पीसीओएस के उपचार में वैकल्पिक उपाय होगा।

 

Image Source-Getty

Read More Article on Health News in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES14 Votes 2384 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर