1 कटोरी ओट्स में छुपा है खूबसूरत बॉडी के साथ सौंदर्य का राज

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 07, 2017
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • सेहत और सौंदर्य दोनो के लिए लाभदायक ओट्स। 
  • ब्रेकफास्ट के लिए बेस्ट होता है ओटमील का सेवन।
  • नियमित सेवन करने से ओबेसिटी का खतरा कम ।

गर्मी में खूबसूरत रहने के लिए जो उपाय कर लो सारे पसीने के साथ बह जाते हैं।

वहीं बदलते मौसम में पतले होने के अरमान भी बह जाते हैं। अगर आपके साथ भी ऐसा होता है तो ये एक कटोरी ओट्स का उपाय अपनाएं। पूरी जानकारी जानने के लिए ये लेख पढ़ें। 

 

क्यों फायदेमंद है ओट्स

आपको शायद मालुम हो कि ओट्स में इनोजिटॉल पाया जाता है। ये इनोजिटॉल ब्लड कोलेस्ट्रॉल लेवल को बरकरार रखने में सहायक होता है। इसके अलावा ओटमील और ओट्स के चोकर में पर्याप्त मात्रा में पचनीय फाइबर होते हैं। वहीं दूसरी तरफ इसमें मौजूद सॉल्युबल फाइबर डाइजेस्टिव ट्रैक्ट को एक्टिव बनाये रखने में मदद करता है। दरअसल, गर्मियों में लोगों को अकसर कई तरह की पेट की समस्याएं जैसे एसिडिटी, जलन और डाइजेशन की समस्या होती है। वहीं पाचन तंत्र को दुरुस्त और बॉउल मूवमेंट्स को नियमित करने के लिए फाइबर की जरूरत होती है जो ओट्स में काफी मात्रा में है।

 

  • दिन की शुरुआत के लिए ब्रेकफस्ट में ओट्स से अच्छी चीज कुछ ओर नहीं हो सकती। तो रोजाना सुबह ब्रेकफास्ट में एक कटोरी ओट्स खाएं और अपने पाचन तंत्र को दुरुस्त करें।

इसे भी पढ़ें- थकावट दूर करने के लिए कॉफी में ये 3 चीजें मिलाएं और देखें जादू

  •  ओट्स में पर्याप्त फाइबर होने के कारण इसे अपने आहार में शामिल करना अच्छा होता है। इसमें सॉल्युबल और अनसॉल्युबल दोनों प्रकार के फाइबर होते हैं। अनसॉल्युबल पानी में नहीं घुल पाता। यह स्पॉन्जी होता है। जो कब्ज को दूर करने में मदद करता है। साथ ही पेट खराब होने से भी बचाता है।

 

  • इसमें कैल्शियम, पोटेशियम, विटमिन बी-कॉम्प्लेक्स और मैग्नीशियम होता है, जो नर्वस सिस्टम के लिए बहुत जरूरी होता है। गर्मी के कारण चक्कर, दिल घबराने जैसी आम समस्याओं में यह बहुत लाभदायक होता है।

  • पके हुए ओट्स शरीर से अतिरिक्त फैट कम करते हैं, वहीं अनरिफाइंड ओटमील स्ट्रेस को कम करता है। हाई फाइबर होने के कारण यह बावल कैंसर से बचाता है। साथ ही हृदय रोग के खतरों से दूर रखता है।

 

  • अगर आप डाटबिटीज और ब्लड शुगर की समस्या से ग्रस्त हैं तो ओट का सेवन करें। क्योंकि यह शरीर में ब्लड शुगर और इंसुलिन को नियंत्रित रखता है।  एक नए शोध से यह पता चला है कि 2-18 साल के बीच के बच्चे, जो नियमित रूप से ओटमील लेते हैं, उनमें ओबेसिटी होने का खतरा बहुत कम होता है। शोध से यह भी पता चला है कि जिन बच्चों की डाइट में ओटमील शामिल होता है उनमें 50 प्रतिशत कम वजन बढने की संभावना होती है।

इसे भी पढ़ें- केवल 11 दिनों तक खाएं सिर्फ आम व दही और देखें ये असर

  • ओटमील फेसपैक त्वचा को कोमल और कांतिमय बनाता है। यह एक बेहतरीन ब्यूटी एन्हेंसर है। यह त्वचा को चमकदार बनाता है।अत्यधिक रूखी त्वचा और एग्जीमा को दूर करने के लिए ओटमील बाथ लेना अच्छा उपाय है। यह त्वचा की जलन को दूर करता है। इसके लिए 500 ग्राम ओट की भूसी को 1 लीटर पानी में बीस मिनट तक उबालें। फिर छानकर ठंडा करें और उस पानी से नहाएं।

 

  • खोई हुई रंगत और कोमलता पाने के लिए ओट स्क्रब लगाएं। इसके लिए 2 टेबल स्पून ओटमील, 2 टी स्पून ब्राउन शुगर, 2 टेबल स्पून एवोकैडो और 5-6 बूंद रोज एसेंशियल ऑयल मिलाकर पेस्ट बनाएं और गीली त्वचा पर इससे हलका मसाज करें। गुनगुने पानी से चेहरा साफ कर लें। पूरे शरीर पर लगाने के लिए इसकी मात्रा बढा सकते हैं।

 

  • आधा कप रोल्ड ओट्स, एक चौथाई पाउडर मिल्क, 2 चम्मच शहद को मिलाकर एक जालीदार कपड़े में बांध दें और टाँक दें। इसे नल के नीचे बांध लें और शानदार स्नान का आनंद लें। आप इसमें खुशबू के लिए खुशबूदार तेल भी मिला सकते हैं।

 

ओट्स में पर्याप्त फाइबर होने के कारण इसे अपने आहार में शामिल करना अच्छा होता है।ओट्स के प्रयोग से आप कई तरह के फेस पैक और स्‍क्रब बना सकते हैं।

 

Image Source-Getty

Read more Article on Healthy diet in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES685 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर