अनुवांशिक कारणों से बनती है टालमटोल की आदत

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 15, 2014
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

habbit of avoidanceआपने अक्सर ही बच्चों में किसी काम को लेकर टालमटोल की आदत के बारे में देखा होगा। क्या आप जानते हैं कि बच्चों में यह आदत कहां से आती है? हाल ही में हुए शोध में सामने आया है कि बच्चों में ऐसा व्यवहार का विकास आनुवांशिक कारणों से हो सकता है।

अध्ययन में बताया गया कि टालमटोल करने वाले लोग ज्यादा स्वच्छंद भी हो सकते हैं, और ये दोनों विशेषताएं जीन से जुड़ी हैं। अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ कोलोरेडो बोल्डर के मनोवैज्ञानिक डेनियल गुस्तावसन ने बताया, ''हर व्यक्ति कभी-कभी कामों में विलंब करता है, लेकिन हम यह बताना चाहते हैं कि कुछ लोग अन्यों की अपेक्षा कामों को ज्यादा क्यों टालते हैं और ऐसे लोगो में उतावलापन या बिना सोचे समझे काम करने की संभावनाएं ज्यादा क्यों होती हैं।''

शोधकर्ताओं ने पाया कि स्वच्छंदता की तरह टालने की आदत भी पैतृक है। अध्ययन में पाया गया कि विलंब और स्वच्छंदता की आनुवांशिकता एक जैसी लगती है, कोई आनुवांशिक प्रभाव नहीं है जो अलग हो।

अध्ययन में अनुसंधानकर्ताओं ने 181 हमशक्ल जुड़वां बच्चों और 166 भ्रात्रीय जुड़वां बच्चों के कुछ परीक्षण किए जिनमें उनकी स्वच्छंदता और विलंब (टालने) की आदतों और लक्ष्य निर्धारित करने और उसे बनाए रखने की क्षमता की जांच की गई।

 

Source साइकोलोजिकल साइंस जर्नल

 

Read More Health News In Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES1 Vote 826 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर