जेनेलिया डिसुजा - खुशी-खुशी खाना है मेरे फिटनेस का राज

By  ,  सखी
Aug 09, 2015
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • जेनेलिया डिसुजा की मासुमियत के हर कोई दिवाने।
  • जेनेलिया यहां बता रही हैं अपने स्वास्थ्य का राज।
  • रोज सुबह गरम पानी पीने के बाद करती हैं ब्रेकफास्ट।
  • कॉर्नफ्लेक्स, एग व्हाइट, इडली हैं ब्रेकफस्ट में शामिल।

जेनेलिया की मासुमियत और चुलबुली मुस्कान का हर कोई दिवाना है। खासकर लड़कियां जो खुद जेनेलिया की तरह की मासुमियत पाना चाहती है और जिसके लिए ना जाने किन-किन कॉस्मेटिक चीजों का इस्तेमाल करने लगती है। जबकि मासूम मुसकान वाली चुलबुली जेनेलिया का मानना है कि सेहत का सबसे बड़ा राज है फाइबरयुक्त भोजन। हेल्दी मुस्कान के लिए सब कुछ खाना चाहिए, पर संतुलित रूप से। आइए जानें उनकी अपनी फिटनेस का राज।

जेनेलिया डिसुजा

दिन की शुरुआत

सुबह आठ बजे उठने के बाद गरम पानी पीती हूं। पानी पीने के दस मिनट बाद पेटभर नाश्ता करती हूं। जिसमें थोडा कॉर्नफ्लेक्स, एग व्हाइट, इडली या पोहा और पपाया या एपल जैसे फल होते हैं। ब्रेकफस्ट के थोडी देर बाद मैं एस्प्रेसो कॉफी लेती हूं। यह मेरे रुटीन का हिस्सा है। ग्लैमर के क्षेत्र में आने के बाद भी मेरी इन आदतों में खास बदलाव नहीं हुआ।

 

मेरी डाइट

मैं नॉन वेजटेरियन हूं। फिश हमारे रोजाना खानपान का हिस्सा है। भुर्जी-पाव, वडा-पाव, पाव-भाजी खाना मुझे पसंद है, क्योंकि कॉलेज के दिनों से यह सब खाने की आदत पड चुकी है। यह मेरा अपना अनुभव है कि जो चीज आप बचपन से खाते आए हैं, उसे खाने की क्षमता आपका शरीर बना लेता है, फिर उसे डाइटिंग के चक्कर में छोडने की जरूरत नहीं होती। मैं रात आठ बजे के बाद कार्बोहाइड्रेट नहीं लेती। हफ्ते में दो बार वेजटेबल जूस लेती हूं। दोपहर एक-दो बजे लंच लेती हूं, जिसमें 2 रोटी, चिकेन, सैलेड, फिश करी या फिश का पीस होता है। मैं बिना मसाले का सादा खाना नहीं खा सकती। लंच से पहले या बाद में फ्रूट्स खाती हूं। जब शूटिंग पर होती हूं तो घर का खाना ले जाती हूं। शूटिंग न हो तो मैं परिवार के साथ रात नौ-दस बजे डिनर करती हूं। डिनर में तंदूरी चिकेन, राइस-फिश करी या सैलेड जो भी घर पर बना हो, खाती हूं।

 

मेरी फिटनेस

मेरा मानना है कि समय पर खाना-पीना और सोना इन तीन बातों के अलावा थोडी एक्सरसाइज कर लेने से व्यक्ति हमेशा फिट रह सकता है। मैं भी यही नियम फॉलो करती हूं। मैं जिम में पांच मिनट से ज्यादा कोई एक्सरसाइज नहीं कर सकती। बंद कमरे में मुझे घुटन होती है। किसी मैदान या पार्क में मैं आधा घंटा जॉगिंग कर सकती हूं। मैं एथलीट रह चुकी हूं। मैं आज भी अपने दोस्तों के साथ बैडमिंटन और थ्रो बॉल खेलती हूं। बैंडस्टैंड पर ब्रिस्क वॉक के लिए जाती हूं, जिससे मुझे ताजगी का एहसास होता है। मेरे लिए हेवी वर्कआउट करना मुमकिन नहीं है। एक ट्रेनर पंद्रह दिन या सप्ताह में एक बार मुझसे क्रंचेस करवाते हैं, पर मैं उसमें भी बोर हो जाती हूं।

 

मेरा फिटनेस मंत्र

मुझे लगता है हम सभी बहुत डर-डर के जिंदगी जीते हैं। इतने तनाव में क्यों जिएं? थोडा संभलकर खाना ठीक है, पर जरूरत से ज्यादा डाइट का हौवा बन गया है। मैं इस बात से इत्तफाक नहीं रखती। मुझे भूख लगती है तो चाट भी खा लेती हूं। बिस्किट्स में फैट ज्यादा होते हैं, फिर भी लोग डाइटिंग के चक्कर में उसे खाते हैं, जिसमें अमूमन मैदा, चीनी और मक्खन होता है। जो खाना हम खुशी-खुशी खाते हैं, वह हमारे शरीर के लिए कभी नुकसानदेह नहीं हो सकता। घर का बना खाना खुशी-खुशी खाने से मैं न तो कभी बीमार पडी हूं और न ही मेरा वजन असंतुलित हुआ है।

 

ग्रूमिंग टिप्स

मुझे लगता है किसी के प्रति दिल में कोई नकारात्मक भावना का न होना पर्सनैलिटी पर पाजिटिव छाप छोडता है। मेरा व्यक्तित्व हमेशा सकारात्मक रहा है। मेरे संस्कारों का मेरे व्यक्तित्व पर प्रभाव है। नफरत व द्वेष की भावना नहीं रखनी चाहिए, यह बायबिल सिखाता है। मैं उस पर विश्वास रखती हूं।


मेरी पसंद फेसवॉश- गार्नियर
मॉयस्चराइजर- गार्नियर
लिपग्लॉस- मैक
आइपेंसिल- शैम्बोर

 

Read more articles On Diet in Hindi.

 

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES2 Votes 12909 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर