बहरेपन की समस्‍या के लिए जिम्‍मेदार जीन मिला

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 18, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

ईएनटी चिकित्सकऊंचा सुनने या बहरेपन की समस्‍या बढ़ती उम्र में सताती है। लेकिन, कई बार कम उम्र के लोग भी इससे पीडि़त होते हैं।

 

काफी लंबे समय से वैज्ञानिक इसका इसका कारण पता करने में लगे हैं। लेकिन, अब ऐसा लगता है कि वे कामयाबी के बेहद करीब पहुंच गये हैं।

 

ऑस्‍ट्रेलियाई वैज्ञानिकों ने इनसान में मौजूद ऐसे जीन का पता लगाया है जो युवावस्‍था में बहरेपन का जिम्‍मेदार है।

 

शोधकर्ताओं के मुताबिक, यह जीन कान में मौजूद इंहिबिटर 'एसइआरपीआईएनबी 6' को नुकसान पहुंचाता है। यह इंहिबिटर कान में मौजूद कोशिकाओं को क्षति पहुंचने से रोकता है। इसलिए जब हसे नुकसान होता है, तो सुनने की क्षमता पर असर पड़ता है।

 

 

मोनाश और मेलबर्न यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने मिलकर यह अध्‍ययन किया है। शोधकर्ता यह पता नहीं लगा सके हैं कि एसइआरपीआइएनबी 6 इंहिबिटर किस तरह बहरेपन का कारण बनता है।





Read More Articles On Health News In Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES1182 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर