गर्भवती महिला और होने वाले बच्‍चे को संक्रमण से बचाता है टिटनस का टीका

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 29, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • प्रेग्‍नेंसी में टिटनस का टीका लगाने से बच्‍चे और मां को बैक्टीरियल संक्रमण नहीं होता।
  • टिटनस का टीका लगाने से महिला और होने वाले बच्चे की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। 
  • गर्भवती महिलाओं को तीन महीने के अंतराल में दो बार टिटनेस का टीका लगवाना चाहिए। 
  • टीका लगाने से बैक्टीरियल इंफेक्शन होने का खतरा लगभग पांच साल तक टल जाता है।

गर्भवती होने के बाद महिलाओं के लिए जांच कराना बहुत जरूरी होता है, लेकिन जांच के साथ-साथ गर्भवती महिला को टिटनस के टीके भी लगाना जरूरी है। इस टीके का फायदा मां के साथ बच्‍चे को भी होता है और बच्‍चे में संक्रमण फैलने की संभावना कम रहती हैा

Tetanus Vaccination During Pregnancyटिटनेस यानी टी.टी का इंजेक्शन उस समय लगाया जाता है जब आपको कोई चोट लग जाए या फिर आपका कोई घाव खुला है। कई बार टिटनेस का इंजेक्शन फंगस से बचाने और कई बार कीटाणु और संक्रमण से बचाने के लिए भी लगाएं जाते हैं। गर्भावस्‍था के दौरान टिटनेस का टीका बहुत जरूरी होता है। आइए हम आपको इस दौरान टिटनस के टीके से होने वाले फायदे के बारे में बताते हैे।

 

गर्भावस्‍था और टिटनस का टीका

  • गर्भावस्था के दौरान बच्चे की सुरक्षा के लिए टिटनेस का इंजेक्शन लगवाना चाहिए। दरअसल, टिटनेस का टीका होने वाले बच्‍चे और मां को बैक्टीरियल संक्रमण से बचाता है।
  • टिटनेस के टीके से गर्भवती महिला और होने वाले बच्चे की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और बच्चे के जन्म के बाद वह काफी समय तक बीमारियों से बचा रह सकता है।
  • टिटनेस के टीके से समय पर डिलीवरी होती है और प्रसव के दौरान गंभीर समस्या को होने से टाला जा सकता है।
  • समय से पहले डिलीवरी को भी टीके से रोका जा सकता है यानी बच्चे का पूर्ण विकास होता है।
  • गर्भावस्था के दौरान दो बार टिटनस का इंजेक्शवन लगाया जाता है। पहली बार टीका गर्भावस्था के शुरूआती तीन महीनों के बीच लगाया जाता है जबकि दूसरा पहले टीके के 1 से 2 महीने के अंतराल में लगता है।
  • इतना ही नहीं डॉक्टर्स की मानें तो टिटनेस का तीसरा टीका दूसरे टीके के लगभग छह महीने के अंतराल में लगाना चाहिए। इससे मां और बच्चे दोनों को बैक्टीरियल इंफेक्शन होने का खतरा कम से कम पांच साल तक टल जाता है।
  • यदि आप दूसरी बार गर्भवती हुई हैं और आपकी गर्भावस्था् में कम से कम डेढ़ साल का अंतराल है और आपने तीनों टीके समय पर लगवाएं हैं तो आप इस बार तीन बार टीके लगवाने के बजाय सिर्फ बूस्टर टीका ही लगवा सकती हैं इससे आप सुरक्षित रहेंगी।
  • हाल ही में आए एक रिसर्च में इस बात का खुलासा हुआ है कि विदेशों में गर्भवती महिलाओं को टिटनस के बजाय टिटनस डिप्थीकरिया यानी टी.डी लगवाने की सलाह भी दी जाती है। इससे गर्भवती महिला और होने वाले बच्चे दोनों लंबे समय तक बीमारियों से बचे रहते हैं।
  • टिटनेस एक जानलेवा बीमारी है। यह टेटेनी नाम के बैक्टीरियम जहर से होती है और ये जहर खुली चोट, घाव, त्वचा पर होने वाले खरोच, कटने, जलने इत्या‍दि से होता है। हालांकि टिटनेस का संक्रमण फोड़े-फुंसियों पर ही अधिक फैलता है।
  • यदि टिटनेस के बैक्टीरियल का इलाज समय पर ना करवाया जाए तो इसका व्यक्ति के स्‍वास्‍थ्‍य पर नकारात्मक असर पड़ता है और यदि ये बीमारी फैल जाएं तो इसके घातक परिणाम भी हो सकते हैं।
  • गर्भावस्था के दौरान मां और होने वाले शिशु को हर तरह से सुरक्षित रखने के लिए टिटनेस का टीका बहुत जरूरी हो जाता है।

 

 

Read More Articles On Pregnancy Care In Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES20 Votes 52519 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर