गर्भावस्‍था के दौरान ओवरवेट महिलाओं को रखना पड़ता है अपने आहार का खास ध्‍यान

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 10, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • गर्भावस्‍था में जरूरत से अधिक वसा वाला भोजन ना खाएं।
  • गर्भवती आहार में प्रोटीन, विटामिन और मिनरल को शामिल करें।
  • कॉफी, चाय और कार्बोनेटेड ड्रिक्स की मात्रा में कम लेनेी चाहिए।
  • रोजाना 2500 कैलोरी की जरूरत होती है गर्भवती को अपने आहार में। 

गर्भावस्था के दौरान एक महिला को न सिर्फ अपनी बल्कि अपने होने वाले बच्चे की भी देखभाल करनी पड़ती है। ऐसे में महिला को अपने स्वास्‍थ्‍य का खयाल रखना बेहद जरूरी है। और स्वस्थ रहने के लिए अच्छा और सही मात्रा में भोजन करना बहुत जरूरी है।

diet for obese overweight women during pregnancy

 

अधिक वजन वाली महिलाएं अकसर वजन ज्यादा बढ़ जाने के डर से कम से कम खाने की कोशिश करती है। कम खाना भी गर्भवती महिला और उसके होने वाले बच्चे के लिए खतरनाक हो सकता है। वैसे तो गर्भावस्था में अत्यधिक मोटा होना नुकसान पहुंचा सकता है। क्योंकि मोटापे की शिकार महिलाओं को प्रसव के दौरान खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। साथ ही, मोटी महिलाओं में कई तरह की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।



गर्भावस्था के दौरान ओवरवेट महिलाओं का आहार

 

  • गर्भावस्था के दौरान आमतौर पर वजन बढ़ जाता है, इसलिए कोशिश करें कि जरूरत से अधिक वसा वाला भोजन ना खाएं। क्योंकि वसा वाला भोजन खाने से न सिर्फ मोटापा बढ़ता है, बल्कि महिला और होने वाले बच्चे के स्वास्‍थ्‍य को भी खतरा रहता है।
  • संतुलित पौष्टिक आहार करें। जिसमें प्रोटीन, विटामिन और मिनरल शामिल होने चाहिए। दाल, चावल, सब्जियां, रोटी और फलों को रोज के आहार में शामिल करें।
  • सुबह-शाम दूध पीना न भूलें। गर्भस्थ शिशु का शरीर जब बढ़ रहा होता है तब वह अपनी सभी जरूरते माता के शरीर से पूरी करता है।
  • आहार से गर्भवती महिला की लौह तत्वों की आपूर्ति नहीं हो पाती इसलिए आयरन, फोलिक एसिड की गोलियों का सेवन भी जरूरी होता है।
  • गर्भवती महिलाओं को गहरे हरी सब्जियां जरूर खानी चाहिए।
  • दलिया या मोटे आटे से बनी रोटियां भी अपने आहार में शामिल करनी चाहिए। मैदे का उपयोग कम से कम करें, क्योंकि मैदे से वजन बढ़ता है।
  • संतरे, अंगूर और केले को रोज की खुराक में शामिल करें।
  • सभी तरह की दालें, बींस, दूध और दही रोज के आहार में होनी चाहिए।
  • सूखे मेवे भी खाएं। गर्भवती महिलाओं को कॉफी, चाय और कार्बोनेटेड ड्रिक्स की मात्रा में कमी करनी चाहिए। कोला पेय में कैफीन की मात्रा अधिक होती है।
  • एक गर्भवती महिला को अपने खाने में रोजाना 2500 कैलोरी की जरूरत होती है। इसलिए इतनी हीे कैलारी अपने दिनभर के खाने में लेनी चाहिए इससे ज्‍यादा नहीं। 


जाहिर है कि गर्भवती महिला का वजन उसके सामान्य वजन से अधिक ही होगा। ऐसे में चिंता की कोई जरूरत नहीं है।

 

 

Read More Article On Garbhawastha me aahaar

Write a Review
Is it Helpful Article?YES4 Votes 45138 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर