प्रसव के बाद देखभाल न करने से हो सकता है संक्रमण

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 27, 2012
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • कम उम्र की महिलाओं को होता है अधिक खतरा।
  • डॉक्‍टर की सलाह के बिना दवा का सेवन न करें।
  • बुखार और दर्द से अक्‍सर रह सकती हैं परेशान।
  • महज आठ फीसदी मामलों में दिखता है संक्रमण।

garbhavastha ke baad sankramanवैसे तो गर्भावस्था के बाद संक्रमण की यह समस्या कम देखी जाती है लेकिन कई बार बच्चे के जन्म के बाद संक्रमण की कई सारी बीमारी से आपका सामना हो सकता है। आपके गर्भाशय में घाव हो सकता है। पर जरूरी नहीं कि आपके सारे संक्रमण पेल्विक हिस्सें में ही हों, कई बार यह घाव ब्लैडर एवं किडनी में हो सकते हैं।

 

कितना आम है संक्रमण

डॉक्टरों की माने तो गर्भावस्था के सभी मामलों में आठ प्रतिशत मामले संक्रमण के देखे जाते हैं।

 

कितना खतरनाक है

जो महिलाएं कम उम्र की होती हैं, उनमें ज्यादातर इनफेक्शन की सभांवना पाई जाती है।  

इसके लक्षण क्या है

गर्भावस्था के बाद हुए इनफेन के लक्षण इस बात पर निर्भर करते हैं कि इनफेक्शन किस हिस्से में हुआ है। पर ज्यादातर मामलों में बुखार और दर्द या दुर्गंधजनित डिस्चार्ज की शिकायत देखी जाती है।

 

जानकारी

गर्भावस्था में इस तरह का संक्रमण कई बार जानलेवा भी हो सकता है। खासकर तब जब इसका सही से ईलाज न किया जाए। यूटरस में संक्रमण होने पर रक्त के थक्के जम जाते हैं। किडनी में संक्रमण होने पर किडनी से जुड़ी बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। रक्त कोशिकाओं में रक्त जमने से कई बार सेप्टीक का खतरा बढ़ जाता है, इस प्रकार के संक्रमण से कुछ महिलाओं में मां बनने में भी समस्या आती है और आपके बच्चे के साथ‍ आपके रिश्‍तों में खटास लाते हैं। इसलिए आपको कोशिश करनी चाहिए की आप ऐसी किसी भी समस्या से जल्दी से जल्दी छुटकारा पा लें।

 

संक्रमण हो तो क्या करें

पहले आपको गर्भावस्था के बाद होने वाले संक्रमणों के बारे में पता होना चाहिए और साथ ही उनसे निपटने के लिए कौन-कौन से उपाय होते है इसकी भी जानकारी होनी चाहिए। आपको अपने शरीर की साफ सफाई का पूरा-पूरा ध्यान रखना चाहिए, जैसे बाथरूम से होकर आने के बाद अपने शरीर के इन्टरनल पार्ट को पोछ कर सुखा ले, पेरिनल एरिया को छूने के बाद अपने हाथों को अच्छी तरह से धो लें, अगर आपको गर्भावस्था के बाद किसी भी प्रकार के संक्रमण होने का अंदेशा हो तो अपने डॉक्टर से जरूर सलाह परामर्श करें और अपना पूरा इलाज करवाएं और डॉक्टरों की सलाह पर ही मेडिसन लें।

 

वैसे ज्यादातर केस में डॉक्टर एन्टीबायोटिक खाने की सलाह देते हैं। वैसे एन्टीबायोटिक इस प्रकार की समस्या में ज्यादा कारगर होते हैं और जल्दी लाभ पहुंचाते हैं साथ ही आपको अपने शरीर को पूरा आराम देना चाहिए। हांलाकि अपने नये जन्में बच्चें के कारण यह आपके लिए काफी मुशकिल होता है क्योंकि आपको अपना पूरा समय अपने बच्चें को देना होता है और उसकी पूरी देखभाल करनी होती है। लेकिन कई सारी बीमारियां सही तरिके से आराम करने पर भी ठीक हो जाती हैं, साथ ही ज्यादा से ज्यादा पानी पीएं। आप इस बात का ध्यान भी रखें कि आप जो दवाईयां ले रही है वह आपके शरीर को कोई नुकसान न पहुंचा रही हो। यह जानना आपके लिए बहुत जरूरी है क्योंकि अब आप अपने बच्चें को स्तनपान करा रही हैं इसलिए इसका असर बच्चें पर बुरा ना पड़े इसका पुरा ध्यान रखें।

 

 

Read More Articles On Pregnancy Test In Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES5 Votes 47754 Views 1 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर