एक्‍सपर्ट का दावा, गैजेट्स से आपको हो रही है ये खतरनाक बीमारी!

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 18, 2017
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • मनुष्‍य अपनी दुनिया से अलग गैजेट्स की गिरफ्त में कैद होता जा रहा है।
  • सिर्फ यही नहीं व्‍यक्ति इसमें कैद होने के साथ खुद को बीमार भी कर रहा है।
  • गैजेट्स लोगों को कई खतरनाक बीमारियां दे रहा है, जिससे हर कोई अंजान है।

बदलती जीवनशैली में गैजेट्स व्‍यक्ति की जरूरत बनते जा रहे हैं। सीधे तौर पर कहें तो मनुष्‍य अपनी दुनिया से अलग गैजेट्स की गिरफ्त में कैद होता जा रहा है और सिर्फ यही नहीं व्‍यक्ति इसमें कैद होने के साथ खुद को बीमार भी कर रहा है, जो शायद आप अभी नहीं जान पा रहा है। जबकि इसके दूरगामी परिणाम जरूर दिखेंगे। ऐसा हम नहीं कह रहे हैं बल्कि तमाम रिसर्च और एक्‍सपर्ट ये बात कर रहे हैं, जिसे आप अनसुना नहीं कर सकते हैं। समय रहते इसे समझने की जरूरत है, अगर नहीं समझे तो काफी देर हो चुकी होगी। तो चलिए आज हम आपको अपने इस लेख में गैजेट्स से जुड़े दुष्‍परिणामों के बारे में विस्‍तार से बता रहें है...

इसे भी पढ़ें: जब दवा से हो जाए साइड इफेक्ट्स, तो तुरंत अपनाएं ये टिप्स

शारदा हॉस्पिटल, ग्रेटर नोएडा के चिकित्‍सक, सौरभ श्रीवास्‍तव का कहना है कि, देर रात तक स्मार्टफोन, टैब या लैपटॉप, कंप्‍यूटर का इस्तेमाल करने से नींद पर असर पड़ सकता है। इस से न सिर्फ नींद में खलल पड़ती है बल्कि आप अगले दिन भी थके-थके रहते हैं। हालांकि इस से हमें शारीरिक या मानसिक तौर पर कोई नुकसान नहीं होता, लेकिन यदि कई रातों तक नींद उड़ी रहे तो न सिर्फ शरीर पर थकान हावी रहेगी बल्कि एकाग्रता और सोचने की क्षमता पर भी असर पड़ेगा। लंबे समय में इस से उच्च रक्तचाप, मधुमेह और मोटापे जैसी बीमारियां भी हो सकती हैं। मोबाइल फोन का लंबे वक्त तक झुक कर इस्तेमाल करने से गरदन, पीठ और कंधे का दर्द हो सकता है। इसके अलावा सिरदर्द के साथ आप को हाथ, बांह, कुहनी और कलाई में दर्द हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: सावधान! लाइट जलाकर सोने वालों को होती है ये गंभीर बीमारी

क्‍या कहती है रिसर्च

एक रिसर्च में यह बात सामने आई है कि जो किशोर कंप्यूटर या टीवी के सामने ज्यादा वक्त बिताते हैं उन किशोरों की हड्डियों पर बुरा प्रभाव पड़ता है, जिस की वजह से वे गंभीर स्वास्थ्य संकट की ओर बढ़ रहे हैं। नार्वे में हुई एक रिसर्च में कहा गया है कि किशोरों में हड्डियों की समस्या बढ़ती जा रही है, जिसका कारण कंप्यूटर पर देर तक बैठ कर काम करना है। आर्कटिक यूनिवर्सिटी ऑफ नार्वे की एनी विंथर ने स्थानीय जर्नल में एक रिपोर्ट प्रकाशित कराई है, जिसमें कंप्यूटर के सामने बैठने की वजह से शारीरिक नुकसान का आकलन किया गया है। इस रिपोर्ट के साथ ही अमेरिकन एकैडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स ने किशोरों के लिए कंप्यूटर के इस्तेमाल का समय भी बताया है। मोबाइल फोन, लैपटॉप आदि के ज्यादा इस्तेमाल से आप की उम्र तेजी से बढ़ रही है, जिस से आप जल्दी बूढ़े हो सकते हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक इस स्थिति को टैकनैक कहते हैं। इसमें व्‍यक्ति की त्वचा ढीली हो जाती है। चेहरे पर झुर्रियां पड़ने लगती है।

 

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Image Source: Shutterstock

Read More Articles On Healthy Living In Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES27 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर