मिसकैरेज के खतरे को कम करता है फोलिक एसिड

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 20, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • गर्भावस्था में असरदार होता है फॉलिक एसिड का सेवन ।
  • समय से पहले प्रसव औऱ मिसकैरेज जैसे खतरे कम ।
  • बच्चे के दिमाग और रीढ़ की हड्डी का विकास होता है।
  • फॉलिक एसिड की कमी से हो सकता है एनीमिया ।

गर्भावस्‍था के दौरान गर्भवती महिला को डॉक्‍टरों द्वारा फॉलिक एसिड से भरपूर खाद्य सामग्री खाने के लिए कहा जाता है, इसके अलावा कुछ प्रकार की दवाईयां भी दी जाती हैं। गर्भावस्था के पहले महीने से ही फॉलिक एसिड जरूर लेना चाहिए। फोलिक एसिड समय से पहले प्रसव, यानि 'प्रीमैच्योर बर्थ' और मिसकैरेज आदि के खतरे को भी काफी हद तक कम करता है।

Filic Acid in Hindi

फॉलिक एसिड के फायदे

इससे गर्भ में पल रहे बच्चे में होने वाले दिल, दिमाग और किसी भी आनुवंशिक रोगों के होने की आशंका नहीं रहती है। गर्भवती महिला के शरीर में भरपूर मात्रा में फॉलिक एसिड होने पर बच्‍चे के ब्रेन और रीढ़ की हड्डी का विकास अच्‍छी तरह होता है। गर्भधारण के एक साल पहले से फोलिक एसिड के सप्लीमेंट्स (ऐसी चीजें जिनसे शरीर को फोलिक एसिड की आपूर्ति होती हो) के सेवन से समय पूर्व प्रसव का खतरा 70 फीसदी तक घट जाता है। गौरतलब है कि समय से पहले पैदा होने वाले बच्चों में अंगों का विकास न हो पाना, अंधापन और फेफड़े में संक्रमण होने का खतरा रहता है। फॉलिक एसिड लेने से बच्चे में न्यूरल टय़ूब दोष नहीं होता। गर्भधारण से पहले फॉलिक एसिड लेना प्रजनन शक्ति व भ्रूण के लिए अच्छा होता है।

Folic Acid in Hindi

फॉलिक एसिड से भरपूर आहार

एवाकाडो में फॉलिक एसिड होता है। प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को खूब सारे फॉलिक एसिड की जरुरत पड़ती है तो इसे खाना बिल्‍कुल भी न भूलें। पत्‍तेदार सब्‍जियां, फलियां, साग, राजमा, साबुत अनाज और दालें, सोया उत्पादों, सेम विभाजन, अंडे की जर्दी, आलू, गेहूं का आटा, गोभी, चुकंदर, केले, ब्रोकोली, और ब्रुसेल्स के अंकुर फोलिक एसिड की मात्रा में ज्‍यादा होते हैं। जिन मछलियों में तेल पाया जाए (जैसे हेरिंग, मकरील, सालमन या सार्डिन), वे आपके बच्चे के लिए लाभदायक होती हैं


 फॉलिक एसिड और आयरन की कमी के कारण गर्भवती महिला को एनीमिया हो जाता है। इसके बाद प्लेसेंटा को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन नहीं मिल पाती और प्रेगनेंट महिलाओं को थ्रोम्बोसिस और अधिक ब्लीडिंग हो जाती है।


ImageCourtesy@gettyimages

Read More Article on Pregnancy in Hindi

 

 

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES59 Votes 55944 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • sunil20 Jan 2013

    boil khana pregnasi me thik he ya nahi

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर