घर की नेगेटिव एनर्जी को दूर भागती है बांसुरी, जानिए कैसे?

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 17, 2017
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • समस्याओं की जड़ आपके घर में व्याप्त नकारात्मक ऊर्जा है।
  • अचूक उपाय कुछ और नहीं बल्कि श्रीकृष्‍ण की प्रिय “बांसुरी“ है।
  • उस घर में भगवान श्रीकृष्ण की कृपा हमेशा बनी रहती है।

हर कोई चाहता है कि उसके घर में सुख-शांति का वास हो, घर के सभी सदस्‍य स्‍वस्‍थ और खुशहाल जीवन जिएं और घर में अन्‍न और धन की कमी न हो। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि इसके पीछे कहीं ना कहीं इन समस्याओं की जड़ आपके घर में व्याप्त नकारात्मक ऊर्जा है, जो ना ही आपको समस्याओं का कारण जानने देती है और ना ही निवारण। अगर आपको भी कुछ ऐसे ही हालातों का सामना करना पड़ रहा है तो इसके समाधान के लिए आपको परंपरागत वास्तु टिप्स अपनाना चाहिए और यह अचूक उपाय कुछ और नहीं बल्कि श्रीकृष्‍ण की प्रिय “बांसुरी“ है। जी हां बासुरी को घर में रखने से नकारात्‍मक ऊर्जा दूर होती है।     

 

flute in hindi

नकारात्‍मक ऊर्जा दूर करती है बांसुरी

बांसुरी, भगवान श्रीकृष्ण की सबसे प्रिय वस्तुओं में से एक है। जब श्रीकृष्ण बांसुरी बजाते थे तो पूरा गोकुल मुग्ध होकर उनकी बांसुरी सुना करता था। बांसुरी सम्मोहन, खुशी व आकर्षण का प्रतीक मानी जाती है। कहते हैं कि बांसुरी बजाने पर उससे आने वाली आवाज से नकारात्मक ऊर्जा सकारात्मक ऊर्जा में बदल जाती है। हर कोई इस संगीत की तरफ सहज ही आकर्षित हो जाता है। बांसुरी भगवान कृष्ण की प्रिय होने के कारण बहुत ही पवित्र मानी जाती है। पवित्र होने के साथ-साथ वास्तु में भी बांसुरी का खास स्थान माना जाता है। अलग-अलग रंग और प्रकार की बांसुरी अलग-अलग फल देने वाली मानी जाती है।


विचारों में सकारात्मकता आती है

ऐसी मान्यता है कि घर में बांसुरी जरूर रखना चाहिए, क्योंकि बांसुरी रखने से घर में कई तरह के वास्तु दोष दूर होते हैं। जिस घर में बांसुरी रखी होती है परिवार के सदस्यों के विचार सकारात्मक होते हैं जिससे उन्हें सभी कार्यों में सफलता प्राप्त होती है। हिन्दू शास्त्रों के अनुसार उल्लास को जीने वाले श्रीकृष्ण को बांसुरी अत्याधिक प्रिय है। इसी वजह से बांसुरी को पवित्र और शुभ समझा जाता है। साथ ही श्रीकृष्ण की कृपा से सभी दुख और पैसों की तंगी भी दूर हो जाती है।


परस्पर प्रेम की भावना

बांसुरी का स्वर प्रेम बरसाता है इसलिए जिस घर में बांसुरी होती है या उसके स्वर गूंजते हैं, उस घर में प्रेम और उत्साह की कोई कमी नहीं रहती। यदि मानसिक चिंता अधिक रहती हो अथवा पति-पत्नी दोनों के बीच झगड़ा रहता हो, तो सोते समय सिरहाने के नीचे बांसुरी रखनी चाहिए। ऐसा माना जाता है कि जिस घर में बांसुरी होती है उस घर में भगवान श्रीकृष्ण की कृपा हमेशा बनी रहती है। इसके अलावा घर के सदस्यों में परस्पर प्रेम की भावना बनी रहती है और भीतरी शांति का अनुभव करते हैं।


घर में कहां रखें बांसुरी

  • घर में बांसुरी ऐसे स्थान पर रखनी चाहिए, जहां से वह हमेशा आसानी से नजर आती रहे। किसी दीवार पर भी सुंदर सी बांसुरी लगाई जा सकती है। इससे घर की सुंदरता में भी वृद्धि होगी।
  • अगर घर में कोई न कोई सदस्य हमेशा बीमार रहता हो, तो उसके कमरे के दरवाजे पर व उसके सिरहाने बांसुरी का उपयोग अवश्य करना चाहिए।
  • अगर आपको व्यापार व नौकरी में लगातार असफलता मिल रही हो या मेहनत के अनुसार फल न मिल रहा हो, तो अपने कमरे के दरवाजे पर दो बांसुरी लगाएं।
  • अगर आप आध्यात्मिक रूप से उन्नति चाहते है, या फिर किसी प्रकार की साधना में सफलता चाहते है तो, अपने पूजा घर के दरवाजे पर भी बांसुरी लगाये, शीघ्र ही सफलता प्राप्त होगी।
  • लेकिन इस बात का ध्यान देना जरूरी है कि बांसुरी कभी भी सीधी नहीं लगानी चाहिए, बल्कि इसे हमेशा तिरछा लगाने से लाभ मिलता है। साथ ही बांसुरी का मुंह हमेशा नीचे रहना चाहिए।   

बाजार में कई प्रकार की सुंदर और मनमोहक बांसुरियां मिलती हैं। जैसे बांस की, लोहे की, स्टील की या अन्य किसी धातु की। सामान्यतया हमें घर में बांस की बनी हुई बांसुरी ही रखना चाहिए। तो चलिए देर किस बात की अगर आपके घर में बांसुरी नहीं है तो अपनी अगली शॉपिंग लिस्ट में इसका नाम भी शामिल कर लीजिए।

Image Source : eenaduindia.com & jaipurtimes.org

Read More Articles on Mind Body in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES3176 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर