फ्लू से पर्किंसन का खतरा दुगना

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jul 24, 2012
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

flu se parkinson ka khatra dugana

तेज फ्लू से पीडि़त व्यक्ति के पर्किंसन बीमारी होने का शिकार होने की संभावना दोगुनी हो जाती है। एक ताजा रिसर्च में यह बात सामने आयी है।

 

यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिटिश कोलंबिया (यूबीसी) के अनुसंधनकर्ताओं के अनुसार तेज फ्लू से व्यक्ति को बाद में पर्किंसन बीमारी होने का खतरा दोगुना हो सकता है। वहीं बचपन में खसरे से पीड़ित होने वालों में पर्किंसन बीमारी होने का खतरा 35 प्रतिशत कम हो जाता है।

 

यह तंत्रिका तंत्र विकार होता है जिसमें चलने फिरने की गति धीमी होने के साथ ही कंपन, जकड़न और बाद में मानसिक संतुलन बिगड़ जाता है।

 

यूबीसी के स्कूल ऑफ पॉपुलेशन एंड पब्लिक हेल्थ और पैसिफिक पर्किंसंस रिसर्च सेंटर के अनुसंधानकर्ताओं का यह अध्ययन पत्रिका मूवमेंट डिसार्डर्स में प्रकाशित हुआ है।

 

अनुसंधानकर्ताओं ने कनाडा के ब्रिटिश कोलंबिया में पर्किंसन बीमारी से पीड़ित 403 लोगों और 405 लोगों का साक्षात्कार किया।

 

पर्किंसन का निदान हर जगह संभव नहीं है। इसका निदान सिर्फ एक न्यूरोलॉजिस्ट से ही कर सकता है। अगर शुरुआती अवस्था में पार्किंसन इलाज शुरु कर दिया जाए यह जल्दी ठीक हो सकता है। इलाज के दौरान दवाइयों में लापरवाही बिल्कुल नहीं करनी चाहिए। इस दौरान योग व ध्यान के जरिए खुद को सेहतमंद रखा जा सकता है।

 

Read More Article on Flu in hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES10914 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर