घुटनों के बल चलना शिशुओें के विकास के लिए है जरूरी, मिलते हैं ये 5 लाभ

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 26, 2018
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • घुटनों के बल चलने से शिशु के शरीर को कई स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं।
  • शिशु में प्राकृतिक नियमों की समझ के लिए भी घुटनों के बल चलना मदद करता है।
  • घुटनों के बल चलने से शिशु की दृष्टि क्षमता भी ज्यादा विकसित होती है।

शिशु जब घुटनों के बल चलना शुरू करता है, तो मां-बाप को खुशी मिलती है। घर-आंगन में शिशु की किलकारियों और भाग-दौड़ से घर के सभी सदस्यों का मन लगा रहता है। घुटनों के बल चलकर ही बच्चा धीरे-धीरे खड़ा होना और अपने पैरों पर चलना सीखता है। घुटनों के बल चलना शिशु के लिए जरूरी है और प्रकृति ने ये नियम कुछ खास उद्देशयों से बनाया है। चलना सीखने की पहली सीढ़ी होने के साथ-साथ घुटनों के बल चलने से शिशु के शरीर को कई स्वास्थ्य लाभ भी मिलते हैं, जो उसके शारीरिक, मानसिक और संवेगात्मक विकास के लिए जरूरी होते हैं। आइये आपको बताते हैं कि घुटनों के बल चलने से शिशु को क्या लाभ मिलते हैं।

शरीरिक विकास के लिए

घुटनों के बल चलना शिशु के शारीरिक विकास के लिए बहुत जरूरी है। चलने से शिशु की हड्डियों में मजबूती आती है और उनमें लचीलापन आता है जो शिशु को पैरों पर चलने, दौड़ने, शरीर को मोड़ने और घुमाना सीखने के लिए जरूरी है। इसलिए शिशु जब घुटनों के बल चलने लगे तो उसे प्रोटीन और कैल्शियम युक्त आहार देना चाहिए ताकि उसकी हड्डियां मजबूत बनें और शरीर तेजी से विकास कर सके।

इसे भी पढ़ें:- नए मां-बाप अक्सर शिशु की देखभाल में करते हैं ये 5 गलतियां

प्राकृतिक नियमों की समझदारी

शिशु में प्राकृतिक नियमों की समझ के लिए भी उसका स्वयं चीजों को करके सीखना जरूरी है। शिशु जब घुटनों के बल चलना शुरू करता है, तो उसे गति और स्थिति के सामान्य नियमों की समझ आती है और वो बैलेन्स बनाना भी सीखता है। इसके अलावा आंखों और हाथों की गति का सामंजस्य भी शिशु घुटनों के बल चलने के दौरान सीखता है। चलने के दौरान शिशु की अपने आस-पास की चीजों को लेकर समझ बढ़ती है।

दृष्टि और आंखों के नियमों की समझ

शिशु जब घुटनों के बल चलना शुरू करता है तो उसकी दृष्टि क्षमता भी ज्यादा विकसित होती है। गोद में रहने के दौरान भी शिशु चीजों को देखता है लेकिन जब वो चलना शुरू करता है तो उसकी दूरी संबंधी समझ का विकास होता है। यही दूरी संबंधी समझ हमें बाद में ये तय करने में मदद करती है कि किस गति से हम क्या काम करें कि हमारे शरीर को नुकसान न पहुंचे और हमारा काम भी हो जाए या एक जगह से दूसरी जगह पहुंचने में कितन समय लगेगा और वो हमसे कितनी दूर है।

इसे भी पढ़ें:- सामान्य नहीं हैं शिशुओं में ये लक्षण, हो सकती है फूड एलर्जी

दिमाग का विकास

वास्तव में देखा जाए तो शिशु के दिमाग में दुनियावी चीजों की समझ घुटनों के बल चलने के दौरान ही सबसे ज्यादा विकसित होती है। इसी समय शिशु का दायां और बांया मस्तिष्क आपस में सामंजस्य बनाना सीखता है क्योंकि इस समय शिशु एक साथ कई काम करता है जिसमें दिमाग के अलग-अलग हिस्सों का इस्तेमाल होता है। जैसे जब शिशु चलता है तो वो हाथ-पैर का इस्तेमाल करता है, आंखों का इस्तेमाल करता है, संवेगों का इस्तेमाल करता है और दूरी, तापमान, गहराई जैसी सैकड़ों चीजों की समझ उस समय वो इस्तेमाल करता है इसलिए ये दिमाग के हिस्सों के विकसित करने में मदद करता है।

आत्मविश्वास के लिए है जरूरी

घुटनों के बल चलने से शिशु का आत्मविश्वास बढ़ता है क्योंकि वो जिंदगी के कुछ जरूरी फैसले खुद से लेना शुरू करता है जैसे चलने के दौरान जमीन पर कोई कीड़ा दिख जाए, तो उससे बचना है या चलते जाना है, आगे अगर कोई अवरोध है तो किस तरह रास्ते को बदलना है आदि। ये बातें शिशु के मानसिक विकास में सहयोगी होने के साथ-साथ उसमें आत्मविश्वास भरती हैं। चलने के दौरान बच्चों को चोट लगती है, दर्द होता है यानि वो कई तरह के फिजिकल रिस्क लेते हैं। इस तरह के रिस्क यानि जोखिम से सफलता के बाद शिशु को आगे और बड़ा जोखिम  लेने का साहस पैदा होता है और असफलता के बाद पुनः प्रयास करने की समझ विकसित होती है। इससे आत्मविश्वास बढ़ता है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On New Born Care in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES1160 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर