स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग से जुड़े इन 5 मिथक के बारे में जानें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 16, 2015
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग के संबंध में लोगों के बीच कई मिथ व्याप्त हैं।
  • गलत है कि स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग से महिलाओं की मसल्स बनने लगती हैं।
  • स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग एक्सरसाइज से ब्लड प्रेशर की समस्या नहीं होती है।
  • खाली पेट एक्सरसाइज करने से बेवजह थकान होती है।

'जितने मुंह उतनी बात'। जी हां कई बार आपको एक्सरसाइज से जुड़े कई ऐसे टिप्स मिलते हैं, जो सच से कोसों दूर होते हैं। इन्हें करने से आपकी सेहत को फायदा की जगह उल्टा नुकसान होने की आशंका बढ़ जाती है। खासतौर पर स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग के संबंध में लोगों के बीच कई मिथ व्याप्त हैं। ऐसे में जरूरी होता कि इन मिथकों से बाहर आया जाए और एक्सरसाइज का पूरा लाभ लिया जाए। तो चलिये आज स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग से जुड़े 5 मिथकों से भी पर्दा उठाया जाए।


strength-training in hindi

मिथ - ज्‍यादा स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग मतलब ज्‍यादा फायदा।   

फैक्ट - लोगो मानते हैं कि ज्यादा स्‍ट्रेंथ  ट्रेनिंग से कैलोरी ज्यादा बर्न होती हैं, देर तक धीरे-धीरे एक्सरसाइज करने से ज्यादा फैट बर्न होता है, यह सबसे बड़ा मिथक है। किसी भी एक्सरसाइज का फोकस इस बात पर होना चाहिए कि उसे करने से नियत समय में आप कितना फैट बर्न कर रहे हैं, न कि आप उसे कितनी देर तक कर रहे हैं। ज्यादा हैवी एक्सरसाइज को आप देर तक नहीं कर सकते, इसलिए सुरक्षित तरीका यही है कि आप कोई भी एक्सरसाइज धीरे-धीरे शुरू करें और इसके बाद समय सीमा को धीरे-धीरे ही बढ़ाते जाएं।


मिथ- स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग से महिलाओं की मसल्स बनने लगती हैं।

फैक्ट- यह मिथ लोगों में (खासतौर पर महिलाओं में) बेहद आम है, कि स्‍ट्रेंथ  ट्रेनिंग से महिलाओं की मसल्स बनने लगती हैं, लेकिन वास्तव में ये हैं बिल्कुल निराधार। पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन नामक हार्मोन तेजी से बनता है जबकि महिलाओं में यह तेजी से नहीं बनता है। महिलाएं तभी मस्कुलर दिख सकती हैं जब उन्हें सिंथेटिक टेस्टोस्टेरोन दिया जाए, न कि स्‍ट्रेंथ  ट्रेनिंग से।


मिथ- स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग एक्सरसाइज से ब्लड प्रेशर की समस्या हो सकती है।

फैक्ट- जब आप वजन उठाते हैं तो ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है और जब वजन रखते हैं तो वापस से सामान्य भी हो जाता है। ऐसे में स्‍ट्रेंथ  ट्रेनिंग से लोगों का ब्लड प्रेशर बढ़ा रहने की समस्या हो जाएगी ये बिल्कुल निराधार बात है। बल्कि सच तो यह है कि इस एक्सरसाइज से ब्लड प्रेशर और अन्य कार्डियोवास्कुलर समस्याओं की आशंका बहुत कम हो जाती है।

strength training in hindi
मिथ- स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग एक्सरसाइज छोड़ने पर आप मोटे हो जाते हैं।

फैक्ट- अक्सर लोग सोचते हैं कि स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग एक्सरसाइज छोड़ने के बाद वे अधिक मोटी हो जाते हैं। जबकि असलियत में ऐसा नहीं होता। यदि वेट ट्रेनिंग एक्सरसाइज को छोड़ने के बाद भी कोई व्यक्ति नियंत्रित डाइट और अच्छी जीवनशैली रखे तो वह कभी मोटी नहीं हो सकता है।


मिथ- स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग एक्सरसाइज करने से कामेच्छा घट जाती है।

फैक्ट- ये सरासर गलत है कि स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग एक्सरसाइज करने से कामेच्छा घट जाती है। बल्कि इससे से आपका दाम्पत्य जीवन और बेहतर होता है। एक शोध में शोधकर्ताओं पाया कि वेट ट्रेनिंग कसरतों से न सिर्फ पुरुषों की सेक्स लाइफ बेहतर होती है बल्कि महिलाओं में भी सेक्स संबंधित हार्मोन अधिक होते हैं। रोज 20 मिनट तक कोई भी वेट ट्रेनिंग एक्सरसाइज करने से महिलाओं के शरीर में ऑक्सीटोसिन जैसे सेक्स हार्मोन अधिक बनते हैं, जिससे कामेच्छा बढ़ती है।

कई लोग मानते हैं कि एक्सरसाइज खाली पेट करनी चाहिए, जबकि फिटनेस विशेषज्ञों के अनुसार खाली पेट एक्सरसाइज करने से बेवजह थकान होती है। यही नहीं, एक्सरसाइज करने की क्षमता भी कम होने लगती है। इसलिए व्यायाम करने से पहले जूस, फल, चाय के साथ एक-दो बिस्कुट या अंकुरित अनाज आदि लेना चाहिये।


Image Source : Getty

Read More Articles on Exercise and Fitness in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES1 Vote 1978 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर