बच्‍चों की सेहत से खिलवाड़ है उनको जबरन खिलाना

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 11, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • बच्चों को ठूंस-ठूंस कर खिलाना नुकसानदेह।
  • खाना भूख के हिसाब से तय नहीं होता।
  • बच्चे को खुद तय करने दें कि कितना खाना हैं।
  • ऐसे बच्चों का बॉडी मास इंडेक्स ज्‍यादा होता है।

कुछ माता-पिता अपने बच्चे की इच्छा के विरूद्ध उसे खाने के लिए मजबूर करते हैं। उन्हें लगता है कि उनका बच्चा जितना अधिक खा ले उतना ही अच्छा है। पर मां-बाप की इस सोच को वैज्ञानिकों ने बच्चे के लिए बेहद खतरनाक बताया है। जी हां अगर आप भी ऐसे ही पेरेंट्स में से एक हो जो अपने बच्चों को ठूंस-ठूंस कर खिलाते हैं तो सावधान हो जाएं, क्योंकि एक शोध में यह बात सामने आई है कि ऐसा करने से बच्चे का वजन बेवजह बढ़ जाता है, जो उनके स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह है।

mother feeding child forcefully in hindi

दीर्घकालीन अध्ययन का हिस्सा

यह शोध 'पीडियाट्रिक सायकोलॉजी' नामक पत्रिका में प्रकाशित हुआ है। और यह शोध दीर्घकालीन अध्ययन का हिस्सा है, जो कई वर्षो तक बच्चों के मनोवैज्ञानिक तथा मनो-सामाजिक विकास पर अध्ययन करता है।


शोध के अनुसार

शोध के अनुसार, "यदि बच्चों को प्लेट में बचा एक-एक दाना खाने पर जोर दिया जाता है, तो वे अपने शरीर के संकेतों को समझना बंद कर देते हैं और तब तक खाते हैं, जब तक उनके माता-पिता खुश न हो जाएं।" खाने के सामान्य व्यवहार को बढ़ावा देने के लिए यह जरूरी है कि बच्चे खुद तय करने दें कि वह कितना खाना चाहते हैं।

शोध के नतीजे

नार्वे यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी में सहायक प्रोफेसर सिल्जे स्टेनस्बेक के अनुसार, "कुछ बच्चों का बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) अन्य बच्‍चों की तुलना में क्यों बढ़ता है, यह जानने के लिए हमने उनकी शारीरिक गतिविधियों, टेलीविजन टाइम तथा भूख पर ध्यान केंद्रित किया।"
feeding child forcefully in hindi


स्टेंसबेक के अनुसार, "अध्ययन से यह बात सामने आई कि उन बच्चों के बीएमआई में ज्यादा वृद्धि होती है, जिनमें भोजन उनके खाने के स्वभाव को प्रभावित करता है। वे कितना खाते हैं यह भूख के हिसाब से तय नहीं होता, बल्कि खाने को देखकर तथा उसके गंध से तय होता है।"

 
Image Source : Getty

Read More Articles on Parenting in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES5 Votes 1808 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • Deepak04 Sep 2015

    Bachho ke khane ke upar apne bahut hi achhi jankari apne di hai, bachho ko unki marzi se hi khilana chahiye.

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर