मोटापे के लिए दोषारोपण और शर्म किस हद तक है जायज़

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 28, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • कुपोषण भी है मोटापे का एक बड़ा कारण।
  • विश्व स्तर पर चुनौती बन गया है मोटापा।  
  • मनोवैज्ञानिक तौर पर सहायता की ज़रूरत।
  • बच्चों पर पड़ रहा मोटापे का ज्यादा प्रभाव।

यक़ीनन मोटापा पूरी दुनिया के लिए भारी संकट बन चुका है। दुनियाभर में सरकारों से अपील की जा रही है वे मोटापे की समस्या को दूर करने के लिए संगठित कदम उठाएं। ऐसा इस लिए हो रहा है क्योंकि पिछले तीन दशकों में विकास की राह पर चल रहे देशों में मोटापा एक बड़ी चुनौती बनकर सामने आया है। वहीं मोटापे और कुपोषण के दुनिया की अर्थव्यवस्था पर भारी पड़ने के पीछे जंक फूड को सबसे ज्यादा जिम्मेदार माना जा रहा है। कुछ वर्ष पहले संयुक्त राष्ट्रसंघ के खाद्य एवं कृषि संगठन (एफएओ) ने यह चेतावनी जारी की थी। लेकिन मोटापे से जुड़े कुछ अन्य पहलू भी हैं, जैसे इसके साथ लोगों की भिन्न प्रकार की मानसिकता, इस समस्या से निजात पाने के लिए उठाए जा रहे कदमों की ज़मीनी हक़ीकत तथा इस समस्या पर मनोवैज्ञानिकों की राय तथा एकस्पर्ट्स के मत। तो चलिए आज विश्व स्तर पर समस्या बन चुके मोटापे से जुड़े इन सभी पहलुओं पर विस्तार से चर्चा करते हैं।

 

Fat Shaming In Hindi

 

 

मोटापा से जुड़े मनोवैज्ञानिक पहलू

मोटापा जितनी शारीरिक समस्या है ठीक उतनी ही मानसिक समस्या भी है। क्योंकि मोटापे से जुड़े मनोवैज्ञानिक पहलु भी महत्वपूर्ण होते हैं इसलिए इससे ग्रस्त व्यक्ति को बाकी इलाजों के अलावा मनोवैज्ञानिक इलाज की भी बेहद ज़रूरत होती है। वहीं जहां एक ओर मोटापे के कारण शरीरिक समस्याएं होती हैं, यह मानसिक रूप से भी किसी व्यक्ति को आहत करता है। मोनाश यूनिवर्सिटी द्वारा ताइवान में 6 से 13 वर्ष के लगभग 2000 स्कूली बच्चों को लेकर एक सहयोगपूर्ण अध्ययन किया गया था। इस अध्ययन में इस बात की जांच की गई कि रिश्तों से जुड़ी समस्याएं, उदासी या पढ़ाई करने में सक्षम न होने की भावना इस तरह की मानसिक समस्याओं का मोटापे से संबंध है या नहीं।

 

 

स्केल फॉर असेसिंग इमोशनल डिस्टर्बंस (एसएईडी- भावनात्मक अशांति का मूल्यांकन करने का परिमाण) प्रणाली का उपयोग करते हुए मोनाश यूनिवर्सिटी के नेशनल हेल्थ रिसर्च इंस्टिट्यूट, ताइवान, चाइना मेडिकल यूनिवर्सिटी, ताइवान और नेशनल डिफेंस मेडिकल सेंटर, ताइवान के शोधकर्ताओं ने, भावनात्मक अशांति से मोटापा एवं लिंगभेद के संबंध की जांच की। एसएईडी यह एक परिमाण है, जो उन बच्चों को पहचानने के लिए बनाया गया है, जिन्हें स्कूल में भावनात्मक या उनके साथ हो रहे परिवर्तन से जुड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

 

इसके बाद देखा गया कि बचपन में होने वाले मोटापे की वजह से शारीरिक स्वास्थ्य पर होने वाले नकारात्मक परिणाम सर्वज्ञात हैं, क्योंकि यह परिणाम बच्चों की मनोवैज्ञानिक तथा मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं से जुड़ते जाते हैं। स्कूल प्रिंसिपल वाह्लक्विस्ट ने इस संदर्भ में कहा था कि, बचपन में होने वाले मोटापे से बच्चों की मनोवैज्ञानिक समस्याएं जुड़ी होती हैं, लेकिन इस मोटापे से उनकि पढ़ाई से संबंधित भावनात्मक समस्याओं के रिश्ते के बारे में (विशेष रूप से लिंगभेद के अनुसार बदलनेवाली समस्याओं के बारे में) बहुत कम जानकारी मौजूद है।

 

Fat Shaming in Hindi

 

 

खासतौर पर भारत में बच्चों में मोटापे की समस्या बढ़ रही है, और समाज और माता-पिता का ध्यान इससे जुड़ी मनोवैज्ञानिक समस्याओं पर नहीं होता है। हालांकि इस तरह की सामाजिक स्थितियों में भावनात्मक अशांति और मोटापा यह दो चीजें किस तरह से जुड़ी होती हैं, इस विषय पर सीमित जानकारी उपलब्ध हैं। ठीक ऐसा ही बड़े लोगों के साथ भी होता है।

 

क्या कहते हैं आंकड़े

तेज़ी से विकास की राह पर आगे बढ़ रहे देशों में पिछले कुछ दशकों में प्रति व्यक्ति आय दर से भी ज़्यादा तेज़ी से मोटापे के शिकार लोगों की गिनती बढ़ रही है। एक अनुमान के हिसाब से चीन में 10 करोड़ लोग मोटापे के शिकार हैं। वहीं ब्राज़ील में बड़ों के मुकाबले बच्चे ज़्यादा तेज़ी से मोटापे का शिकार हो रहे हैं। एक अध्ययन के मुताबिक ब्राज़ील में 5 से 9 साल तक की आयु के 16 प्रतिशत लड़के और 12 प्रतिशत लड़कियां मोटापे का शिकार हैं। अमरीका की तरह ही मौक्सिको में हर सात में से एक व्यक्ति मोटापे का शिकार है। भारत का भी कुछ ऐसा ही हाल है।

 

देखिये इस समस्या से निजात पाने का कोई सीधा सा जवाब नहीं है, लेकिन हां विश्वस्तर पर तेजी से बढ़ती जा रही इस समस्या के लिए की मायनों में सामाजिक सुधार की ज़रूरत है। जिसमें मोटापे की इस समस्या के खिलाफ़ न सिर्फ स्वस्थ्य से संबंधित कदम उठाने होंगे, बल्कि इसके प्रति जुड़ी शर्म की हीन भावना को मिटाते हुए मनोवैज्ञानिक तौर पर भी इसका इलाज करना होगा।   

 

Read More Articles On Mental Health in Hindi.

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES8 Votes 2197 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर