किशोरों में जंक फूड की लत बढ़ा रहा है फेसबुक

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 27, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

junk food facebook in hindiआपके बच्‍चों को सिर्फ पिज्‍ज, बर्गर और अन्‍य जंक फूड का सेवन करते हैं, तो इसके पीछे की वजह फेसबुक हो सकता है। एक अध्ययन के अनुसार, सोशल मीडिया वेबसाइटों के कारण किशोरों के बीच जंक फूड लोकप्रिय हो रहा है। सोशल मीडिया का जंक फूड के प्रचार और विज्ञापन में बड़ा हाथ होता है।



ऑस्ट्रेलिया की यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी के शोधकर्ताओं ने का कहना है कि कम पोषक वाले खाद्य पदार्थों का प्रचार सोशल मीडिया पर खास तौर पर उस वर्ग को ध्यान में रखकर किया जाता है, जिनकी इन चीजों में ज्यादा दिलचस्पी है।

शोधकर्ताओं ने सबसे प्रसिद्ध फूड एवं बेवेरेज ब्रांड के फेसबुक पेज पर गौर किया और पाया कि कम पोषक और ऊर्जा हीन खाद्य पदार्थों की उत्पादक कंपनियां युवा और किशोरों को सबसे ज्यादा प्रभावित करते हैं। अध्ययन में यह भी पता चला कि कंपनी की ओर से साझा किए गए पोस्ट और सामग्रियां उन फेसबुक उपभोक्ताओं द्वारा सबसे ज्यादा साझा की जाती हैं, जो अस्वास्थ्यकर खाद्य कंपनियों के नियमित ग्राहक होते हैं।



प्रमुख शोधकर्ता बेकी फ्रीमैन ने कहा है कि ये खाद्य कंपनियां जब सोशल मीडिया वेबसाइटों पर कोई इनामी प्रतियोगिता या प्रतिस्पर्धा आयोजित करती हैं, तो फेसबुक उपभोक्ताओं की भागीदारी काफी बढ़ जाती है। यह अध्ययन अमेरिकन जर्नल ऑफ पब्लिक हेल्थ में प्रकाशित हुआ है।

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES2 Votes 566 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर