वरिष्‍ठ नागरिकों में आई फ्लू की समस्‍या

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 01, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • वरिष्ठ नागरिकों और शिशुओं को खास देखभाल की जरूरत।
  • मधुमेह या ब्लड प्रेशर के इतिहास पर निर्भर करता है।
  • आंखों में रक्त का जमाव या आंखे लाल दिखना।
  • जलन और आंखो में जलन के साथ हल्‍का दर्द होना।

बदलते मौसम में आई फ्लू एक सामान्‍य बीमारी होती है। लेकिन, इसका संक्रमण होने पर आपको कुछ जरूरी बातों का ध्‍यान रखना पड़ता है। विशेषतौर पर वरिष्ठ नागरिकों और शिशुओ को खास देखभाल की जरूरत होती है।

eye flu in hindi

वरिष्ठ नागरिक और आई फ्लू

कन्जंक्टिवाइटिस से संक्रमित वरिष्ठ नागरिकों को ठीक होने में थोङा अधिक समय लग जाता है। विशेषज्ञों के मुताबिक अधिक उम्र में आई-फ्लू होने से खतरे की आशंका थोड़ी बढ़ जाती है। इन हालात में आंखों के अलावा स्‍वास्‍थ्‍य इतिहास पर भी नजर रखनी होती है।

वरिष्ठ नागरिक अपनी उम्र की वजह से पहले से जोखिम की स्थिति में होते है। इसके अलावा, उनका कन्जंगक्टवाइटिस से ठीक होना उनके अंतर्निहित स्वास्थ्य की स्थिति, जैसे मधुमेह या ब्लड प्रेशर के इतिहास पर निर्भर करता है। इसके परिणाम स्‍वरूप यह उनके लिए अतिरिक्त स्वास्थ्य संकट से निपटने के लिए और अधिक पीङादायक होता है। वरिष्ठ नागरिकों का कन्जंक्टिवाइटिस से ठीक होना (रिकवरी) उनके अंतर्निहित स्वास्थ्य की स्थिति, जैसे उनके मधुमेह या ब्लड प्रेशर के इतिहास पर निर्भर करता है।

मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली वायरल या बैक्टीरिया के संक्रमण को रोकने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। स्पेक्ट्रम के एक छोर पर वह बच्चे होते हैं, जिनकी प्रतिरक्षा प्रणाली पूरी तरह विकसित नही है और दूसरी छोर पर वरिष्ठ नागरिक हैं, जिनकी प्रतिरोध प्रतिरक्षा प्रणाली की शक्ति जो अपेक्षाकृत कमजोर होती है।


आई फ्लू के मुख्य लक्षण

  • आंखों से पानी बहना
  • आंखों में रक्त का जमाव या आंखे लाल दिखना
  • पलकों या आंखों में सूजन
  • पलकों या बरोनियों में चिपचिपाहट
  • जलन और आंखो में जलन के साथ या बिना हल्का दर्द

इन लक्षणों में कुछ बदलाव भी हो सकते हैं। इसलिए, आई फ्लू से राहत पाने के लिए एंटीबायोटिक आई ड्रॉप लेने से पहले संक्रमित व्यक्ति को तुरंत नेत्र विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए। लोगो को निश्चित रूप से स्वयं दवा नही लेना चाहिए क्योंकि यह कन्जंक्टिवाइटिस में जटिलता पैदा कर सकते है।

इस लेख से संबंधित किसी प्रकार के सवाल या सुझाव के लिए आप यहां पोस्‍ट/कमेंट कर सकते हैं।

Image Source : Getty

Read More Articles on Communicable Diseases in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES1 Vote 12620 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर